दैनिक भास्कर हिंदी: ‘मैं मंत्री हूं, मुझे फ्री में मिलता है पेट्रोल-डीजल’ वाले बयान पर आठवले ने दी सफाई

September 16th, 2018

हाईलाइट

  • राज्य मंत्री रामदास आठवले ने पेट्रोल और डीजल के बढ़ते दाम से परेशान नहीं होने वाले बयान पर खेद जताया है।
  • इससे पहले उन्होंने कहा था कि मैं पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों से परेशान नहीं हूं क्योंकि मैं मंत्री हूं।

डिजिटल डेस्क, मुंबई। केंद्रीय सामाजिक न्याय व अधिकारिता राज्य मंत्री रामदास आठवले ने पेट्रोल और डीजल के बढ़ते दाम से परेशान नहीं होने वाले बयान पर खेद जताया है। रविवार को आठवले ने कहा कि मीडिया ने मुझसे पूछा था कि पेट्रोल और डीजल की कीमतों में लगातार हो रही वृद्धि से क्या आप परेशान हैं। इसके जवाब में मैंने यह कहा था कि मैं परेशान नहीं हूं, क्योंकि मैं मंत्री हूं तो मुझे मुफ्त में पेट्रोल और डीजल मिलता है।

आठवले ने कहा, 'मैंने अपने बयान के जरिए आम लोगों का अपमान करने की कोशिश नहीं की है, लेकिन लोगों को लगता है कि मैंने उनका अपमान किया है तो मैं इसके लिए खेद प्रकट करता हूं।' आठवले ने कहा, 'मेरा बयान लोगों के लिए नहीं था। मुझसे पूछा गया था कि व्यक्गित रूप से आप परेशान हैं क्या। इस पर मैंने जवाब दिया था।'

गौरतलब है कि रामदास आठवले शनिवार को एक समीक्षा बैठक में भाग लेने जयपुर पहुंचे थे। यहां उनसे जब मीडियाकर्मियों ने पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों से आम आदमी को होने वाली परेशानी के बारे में पूछा, तो इसके जवाब में आठवले ने कहा, ‘मैं पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों से परेशान नहीं हूं क्योंकि मैं मंत्री हूं। सरकार मेरी गाड़ियों में डीजल और पेट्रोल भरवाती है। सरकारी पैसे पर पेट्रोल और डीजल जब आता है तो इस बारे में क्या सोचना। मेरा मंत्री पद जाएगा तो मैं परेशान हो जाऊंगा, लेकिन जनता परेशान है। इसे समझ सकते हैं और कीमतें कम करने का दायित्व सरकार का है।'

इस दौरान आठवले ने केंद्र सरकार का बचाव करते हुए कहा था कि सरकार तेल की कीमतों पर लगाम लगाने का प्रयास कर रही है। आठवले ने राज्यों को भी नसीहत दी कि वे भी तेल की कीमतों को काबू करने में मदद करें। उन्होंने कहा था, 'पेट्रोल-डीजल के दाम कम करने के लिए राज्यों को भी कोशिश करनी चाहिए, क्योंकि इसमें राज्य सरकार के भी टैक्स होते हैं और केंद्र के भी। इन्हें कम करने पर पेट्रोल-डीजल की कीमतें घट सकती हैं।'