comScore

Yes Bank के खाताधारकों को बड़ी राहत, अब किसी भी ATM से निकाल सकते हैं पैसा

Yes Bank के खाताधारकों को बड़ी राहत, अब किसी भी ATM से निकाल सकते हैं पैसा

हाईलाइट

  • यस बैंक ने पहले सुविधा वापस ले ली थी
  • अब कस्टमर किसी भी एटीएम से अपने पैसे निकाल सकते हैं
  • प्रवर्तन निदेशालय ने राणा कपूर की तीन बेटियों के आवास पर भी छापेमारी की

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। यस बैंक (Yes Bank) ने अपने ग्राहकों को बड़ी राहत दी है। अब खाताधरक किसी भी बैंक के एटीएम से पैसे निकाल सकते हैं। आर्थिक समस्या से लड़ रहीं यस बैंक ने पहले सुविधा वापस ले ली थी। बैंक ने बयान जारी कर कहा है कि अब कस्टमर किसी भी एटीएम से अपने पैसे निकाल सकते हैं। 

बेटियों के आवास पर भी छापेमारी
इससे पहले प्रवर्तन निदेशालय ने मुंबई में यस बैंक (Yes Bank) के संस्थापक राणा कपूर (Rana Kapoor) से पूछताछ करने के अलावा अपनी जांच का दायरा बढ़ाते हुए उनकी तीन बेटियों के आवास पर भी छापेमारी की। ईडी के एक सूत्र ने कहा कि केंद्रीय जांच एजेंसी ने यस बैंक घोटाले में अपनी जांच का विस्तार किया है और वह मुंबई और नई दिल्ली में तीन स्थानों पर तलाशी ले रही है। सूत्र ने कहा कि राणा कपूर की तीनों बेटियों राखी कपूर टंडन, रोशनी कपूर और राधा कपूर के आवासीय परिसरों में तलाशी ली जा रही है। सूत्र ने कहा कि कपूर की बेटियों के आवासीय परिसरों की तलाशी इसलिए ली जा रही है, क्योंकि वे घोटाले की कथित लाभार्थी हैं। एजेंसी अपनी इस कार्रवाई से पहले कपूर को अपने मुंबई स्थित कार्यालय में पूछताछ के लिए लेकर आई थी। ईडी ने शुक्रवार की रात को यस बैंक के संस्थापक के आवास पर छापेमारी की थी और मुंबई में उनके समुद्र महल स्थित आवास पर भी राणा से पूछताछ की गई थी। ईडी के अधिकारियों ने कहा कि कपूर से रातभर पूछताछ की गई और बीच में आराम का कुछ समय दिया गया।

लुक आउट सर्कुलर जारी
ईडी ने कपूर के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का मामला दर्ज किया है और उनके आवास पर छापा मारा गया। इसके अलावा कपूर के खिलाफ एक लुक आउट सर्कुलर भी जारी किया गया था, ताकि वह देश से बाहर न भाग सके। ईडी ने डीएचएफएल के खिलाफ अपनी जांच जारी रखने के क्रम में कपूर के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का मामला दर्ज किया, जिसमें कथित तौर पर पाया गया कि एक लाख फर्जी कर्जदारों का उपयोग करके 80 शेल कंपनियों को 12,500 करोड़ रुपये दिए गए। इन शेल कंपनियों के साथ लेन-देन की तारीख 2015 तक है।

यस बैंक की विफलता वित्तीय संस्थानों के कुप्रबंधन का हिस्सा - चिदंबरम
पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने शनिवार को यस बैंक (Yes Bank) संकट पर मोदी सरकार पर पलटवार करते हुए कहा कि यस बैंक की विफलता वित्तीय संस्थानों के कुप्रबंधन का हिस्सा है। उन्होंने कहा कि भारत के पांचवें सबसे बड़े निजी क्षेत्र के बैंक की स्थिति भाजपा सरकार के तहत वित्तीय संस्थानों के कुप्रबंधन के कारण चरमराई है। पार्टी मुख्यालय में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए पूर्व वित्त मंत्री ने कहा कि उन्हें पता है कि सरकार और वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण इस कहानी को मीडिया से गायब करना चाहेंगी। कांग्रेस नेता ने कहा कि उनके बेहतरीन प्रयासों के बावजूद भाजपा की ओर से वित्तीय संस्थानों का कुप्रबंधन एक ऐसा मुद्दा होगा, जो सार्वजनिक तौर पर सभी के सामने रहेगा और इस पर बड़े पैमाने पर बहस होगी।

कमेंट करें
DwBRA