comScore

देशभर में डॉक्टरों की हड़ताल से बिगड़े हालात, 43 डॉक्‍टरों ने दिया इस्‍तीफा


हाईलाइट

  • पश्चिम बंगाल में पिछले चार दिन से जारी है डॉक्टर्स की हड़ताल
  • मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के अल्टीमेटम के बाद भी हड़ताल जारी
  • आज बंगाल, महाराष्ट्र से दिल्ली तक डॉक्टर हड़ताल पर

डिजिटल डेस्क, कोलकाता। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की चेतावनी के बाद भी पश्चिम बंगाल में विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। बंगाल में जूनियर डॉक्टर्स के साथ मारपीट के बाद शुरू हुई हड़ताल की आंच अब पूरे देश तक पहुंच गई है। आज (14 जून) दिल्ली सहित देशभर में के डॉक्टर्स ने हड़ताल की। दिल्ली एम्स और सफदरजंग के डॉक्टर्स भी हड़ताल पर हैं। वहीं महाराष्‍ट्र के रेजिडेंट डॉक्‍टर्स भी हड़ताल पर उतरे। हड़ताल की वजह से मरीज और तीमारदारों को समस्या का सामना करना पड़ रहा है। वहीं 

देश के कई राज्‍यों में बड़ी संख्‍या में डॉक्‍टर हड़ताल पर हैं। डॉक्‍टर्स की हड़ताल से मुंबई, कोलकाता, नागपुर, पटना, हैदराबाद, वाराणसी समेत कई शहरों में चिकित्‍सा सेवाएं ठप पड़ी हैं। घटना के विरोध में अब बंगाल के 43 डॉक्‍टरों ने सामूहिक इस्‍तीफा भी दे दिया है। इस्‍तीफा देने वाले डॉक्‍टर्स की संख्‍या लगातार बढ़ती जा रही है। हड़ताल को अन्य शहरों में भी डॉक्टर्स का समर्थन मिल रहा है। दिल्ली मेडिकल असोसिएशन ने शुक्रवार को 'मेडिकल बंद' रखा। दिल्ली एम्स में ओपीडी सेवाएं बंद हैं, जिससे मरीजों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

हड़ताल पर बैठे डॉक्टर्स को भारतीय चिकित्सा संघ (IMA) का भी साथ मिला है। आईएमए ने शुक्रवार को ‘अखिल भारतीय विरोध दिवस’ घोषित किया है। हैदराबाद में भी डॉक्टर हड़ताल पर हैं। ऐसे में देशभर में हालात बिगड़ने के आसार नजर आ रहे हैं। देशभर में डॉक्टर हड़ताल कर रहे हैं। 

पश्चिम बंगाल में डॉक्टरों के खिलाफ हिंसा के विरोध में रायपुर के डॉ. भीमराव आंबेडकर मेमोरियल अस्पताल में डॉक्टरों का प्रदर्शन।

दिल्ली: पश्चिम बंगाल में जूनियर डॉक्टरों पर हमले के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन करते सफदरजंग हॉस्पिटल रेजिडेंट डॉक्टर्स असोसिएशन के डॉक्टर।

महाराष्ट्र:पश्चिम बंगाल में डॉक्टरों के खिलाफ हिंसा के विरोध में नागपुर के सरकारी मेडिकल कॉलेज में प्रदर्शन।

बता दें कि, बंगाल में लगातार चार दिन से जारी जूनियर डॉक्टर्स की हड़ताल से स्वास्थ्य सेवाओं का संकट गहराता जा रहा है। हड़ताल की वजह से ओपीडी में कामकाज प्रभावित हो रहा है। हड़ताल के चलते मरीजों और तीमारदारों को संकट का सामना करना पड़ रहा है। सही इलाज न मिलने से मरीजों की तबीयत भी बिगड़ रही है।

दरअसल सोमवार को इलाज के दौरान नील रतन सिरकार मेडिकल कॉलेज (एनआरएसएमसी) में एक मरीज ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया था। जिसके बाद उसके परिवारवालों ने दो जूनियर डॉक्टर्स की कथित तौर पर पिटाई कर दी। डॉक्टर्स की पिटाई को लेकर बंगाल में बवाल मचा हुआ है। 


 

कमेंट करें
NrS70