comScore

लोकसभा में बोलीं निर्मला सीतारमण- आर्थिक विकास सरकार का प्रमुख एजेंडा

लोकसभा में बोलीं निर्मला सीतारमण- आर्थिक विकास सरकार का प्रमुख एजेंडा

हाईलाइट

  • लोकसभा में बजट चर्चा के बाद वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने दिया जवाब
  • केंद्रीय वित्तमंत्री सीतारमण ने 5 जुलाई को संसद में पेश किया था बजट

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। केंद्रीय वित्तमंत्री सीतारमण आज (10 जुलाई) लोकसभा में बजट चर्चा के बाद जवाब देना शुरू कर दिया है। उन्होंने सबसे पहले चर्चा में हिस्सा लेने वाले सभी सदस्यों का आभार जताया। सीतारमण ने कहा, इस बार का बजट अगले दस साल का विजन पेश करता है, हमारा लक्ष्य विनिर्माण के क्षेत्र को बढ़ावा देना है। जीएसटी लागू होने के बाद यह दूसरा बजट है और केंद्र सरकार की ओर से चलाई जा रही योजनाओं के लिए 82 हजार 845 करोड़ रुपये ज्यादा दिए गए हैं।  

वित्त मंत्री ने कहा, सबका साथ, सबका विकास सरकार की प्राथमिकता है। यह बजट सरकार की मंशा को दर्शाता है जिससे कृषि, सोशल सेक्टर, स्वास्थ्य, एजुकेशन क्षेत्र को मजबूती मिलेगी। उन्होंने कहा, सरकार के कुल व्यय में 3.44 लाख करोड़ का इजाफा हुआ है जो कि पहले से ज्यादा है। इस बजट से कृषि और सामाजिक क्षेत्र में निवेश बढ़ेगा। बजट से सरकार के कर राजस्व में इजाफा होगा, विनिवेश का लक्ष्य 1.05 लाख करोड़ रखने के लिए सरकार प्रतिबद्ध है। सीतारमण ने लोकसभा में कहा, देश के आधारभूत ढांचे को मजबूती देने के लिए सरकार ने काफी काम किया है। हम देश में FDI को बढ़ावा दे रहे हैं। घरेलू उद्योगों को मजबूती देकर रोजगार बढ़ाया जा रहा है और घरेलू निर्माण पर भी जोर दिया जा रहा है। उन्होंने कहा, आर्थिक विकास सरकार का प्रमुख एजेंडा है। हम किसानों के लिए पीएम किसान योजना लेकर आए हैं। 

कांग्रेस सांसदों ने वित्त मंत्री के संबोधन के दौरान सदन में उनके बयान पर आपत्ति जताई जिसमें उन्होंने खुद को टीचर कहा था, इसके बाद सदन में हंगामा शुरू हो गया। स्पीकर ओम बिड़ला ने कहा, अगर कुछ गलत होगा तो उसे सदन की कार्यवाही से हटा दिया जाएगा।

लोकसभा में बजट चर्चा के दौरान कांग्रेस सांसद मोहम्मद सादिक ने कहा, सरकार का बजट लोकलुभावन है। इसमें सच्चाई नहीं है। पिछली बार भी सरकार ने नौकरी से लेकर 15-15 लाख देने और विदेशों से कालाधन लाने की बात कही थी लेकिन यह पूरा नहीं हो सका। सादिक ने कहा, सत्ताधारी दल के लोग हमेशा कहते है 70 साल में कांग्रेस ने क्या किया, अगर ये जानना है तो अपनी दादी से पूछो जो बोरी से कुर्सी पर और कुर्सी से सोफे पर आ गई हैं। दादा से पूछो जो हरिद्वार जाते हुए रोते थे कि वापस आ पाएंगे भी या नहीं लेकिन आज जाते हैं और आज कार से जाते हैं और गंगा नहाकर वापस लौट भी आते हैं, यह सड़कें, बांध आपने नहीं बनाए, बीजेपी ने नहीं बनाए। 

बता दें कि, निर्मला सीतारमण ने 5 जुलाई को संसद में आम बजट 2019-20 पेश किया था। बीजेपी ने अपने सासंदों को व्हिप जारी कर लोकसभा में हाजिर रहने के लिए कहा था। पार्टी की ओर से सांसदों को तीन लाइन का व्हिप जारी किया गया था। गौरतलब है कि, देश की पहली पूर्णकालिक महिला वित्त मंत्री के रूप में निर्मला सीतारमण ने 5 जुलाई को मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का पहला आम बजट पेश किया था। बजट पेश करते हुए सीतारमण ने कहा था, मजबूत देश के लिए मजबूत नागरिक जरूरी है, देश के हर नागरिक तक पहुंचने की सरकार की कोशिश जारी है।

कमेंट करें
PLyDc