comScore

प्रेमिका ने सुपारी देकर करवाई थी ऑटो चालक की हत्या

प्रेमिका ने सुपारी देकर करवाई थी ऑटो चालक की हत्या

डिजिटल डेस्क जबलपुर। लार्डगंज थाना क्षेत्र में ऑटो चालक अवध नरेश तिवारी की हुई अंधी हत्या के मामले में खुलासा हुआ है कि उसकी हत्या किसी और ने नहीं बल्कि उसकी ही प्रेमिका गीता चक्रवर्ती ने सुपारी देकर कराई थी। पुलिस ने इस मामले में 35 हजार रुपये की सुपारी देकर कराई गई हत्या की आरोपी गीता चक्रवर्ती एवं नाबालिग आरोपी शेरा बदला हुआ नाम को गिरफ्तार कर लिया है।  शेरा ने जिस चाकू से हत्या की थी उसे भी बरामद कर लिया है। इस मामले में एसपी अमित सिंह ने जानकारी दी है कि 26 अक्टूबर की रात 10 बजे भूलन क्षेत्र में मारपीट के दौरान चाकू लगने से 38 साल के अवध नरेश तिवारी निवासी शारदा चौक इंद्रा  बस्ती साहू मोहल्ला को गंभीर हालत में सुनील लोधी द्वारा अस्पताल मेें भर्ती कराया गया था। उसकी मौत सुबह के वक्त हो जाने के बाद जब इस मामले की जाँच की गई, तो मृतक की पत्नी रानू तविारी ने जानकारी दी कि मरने से पहले थोड़ी देर के लिए अवध नरेश को होश आया था। उस दौरान उसने बताया था कि उसे धोखे से भूलन बुलाकर गीता के कहने पर शेरा ने उस पर हमला किया। उसने हमला कराने वालों में गीता के पति मद्दू एवं देवर जगदीश का भी नाम लिया था। 
गीता ने कबूली हत्या 
 एएसपी संजीव उइके ने जानकारी दी है कि गीता से जब पूछताछ की गई, तो उसने स्वीकार कर लिया कि उसने ही सुपारी देकर हत्या कराई थी। वह अपने प्रेमी अवध नरेश से तंग आ गई थी। वह शराब पीकर उसके घर के सामने आकर हंगामा करता था। वह शराब बेचने का धंधा करती थी और शराब की सप्लाई अवध नरेश करता था। इसके कारण पिछले दस सालों से उनके बीच मधुर संबंध थे। जब उनके संबंधों की जानकारी बच्चों एवं परिजनों को लगी तो वे विरोध करने लगे। कई बार उसने अवध नरेश को समझाइश दी लेकिन वह नहीं माना। 
शेरा से हुआ था झगड़ा 
 गीता ने बयान दिया है कि शेरा अपराधी किस्म का लड़का है और  उसका झगड़ा अवध से हुआ था। वह कई बार कह चुका था कि वह अवध की हत्या कर देगा। इसके कारण गीता ने उससे बात की तो उसने 50 हजार की माँग की। उससे 35 हजार रुपये में सौदा तय हुआ, उसके बाद 17 साल के नाबालिग शेरा को अवध की हत्या की सुपारी दी गई। 
भूलन बुलाया 
 थाना प्रभारी मधुर पटेरिया के अनुसार आरोपी शेरा ने पहले तो अवध से दोस्ती की और फिर सामान लाने के नाम पर अवध को ऑटो लेकर भूलन बुलाया और फिर उस पर चाकू से हमला कर हादसे का रूप देने की कोशिश की गई। अवध को मेडिकल अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहाँ उसने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। शेरा के पास से सुपारी  के 31 हजार रुपये बरामद कर लिये गए हैं। उसने चार हजार रुपये कपड़े एवं खाने पीने में खर्च कर दिये। जहाँ तक हत्या का मामला था तो उसमें केवल गीता व शेरा की ही भूमिका पाई गई। इस मामले की गुत्थी सुलझाने में एसआई अनिल मिश्रा, गनपत लाल, अभय नोरिया, भृगु राशन, प्रशांत सोलंकी, राजीव सिंह, विकास सिंह आदि की भूमिका सराहनीय रही।

कमेंट करें
je06i