comScore

हिजबुल के तीन आतंकी ढेर, मारा गया औरंगजेब का एक और हत्यारा

हिजबुल के तीन आतंकी ढेर, मारा गया औरंगजेब का एक और हत्यारा

हाईलाइट

  • जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में आतंकियों से मुठभेड़
  • सुरक्षाबलों ने तीन आतंकियों को किया ढेर
  • तीनों आतंकी हिजबुल मुजाहिदीन संगठन के

डिजिटल डेस्क, जम्मू। जम्मू-कश्मीर में दक्षिणी पुलवामा जिले के पंजगाम गांव में शनिवार को सुरक्षाबलों ने तीन आतंकवादियों को ढेर कर दिया। मुठभेड़ में मारे गए तीनों आतंकी हिजबुल मुजाहिदीन संगठन के है जिनकी पहचान शौकत डार, इरफान वार और मुजफ्फर शेख के रूप में हुई है। इनमें से एक आतंकी शौकत डार जून 2018 में सेना के जवान औरंगजेब की हत्या करने वाले ग्रुप में शामिल था।

जम्मू-कश्मीर पुलिस ने मुठभेड़ खत्म होने के बाद बयान जारी करते हुए कहा, एक विश्वसनीय इनपुट पर, पुलिस और सुरक्षाबलों ने शनिवार सुबह अवंतीपोरा के पंजगाम क्षेत्र में सर्च ऑपरेशन लॉन्च किया था। सर्च पार्टी में 130 बटालियन सीआरपीएफ, 55 आरआर और स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (एसओजी) के जवान शामिल थे। सर्च ऑपरेशन के दौरान, छिपे हुए आतंकवादियों ने सर्च पार्टी पर गोलीबारी की। इसके बाद सुरक्षाबलों ने भी इसका जवाब दिया और तीनों आतंकियों को ढेर कर दिया। मारा गया आतंकी शौकत डार (पंजगाम अवंतीपोरा) का रहने वाला था। जबकि इरफान वार (सोपोर) और मुजफ्फर शेख (ताहाब पुलवामा) का रहने वाला था।

पुलिस प्रवक्ता ने कहा, रिकॉर्ड के अनुसार शौकत डार के क्राइम रिकॉर्ड का लंबा इतिहास रहा है। उसने इलाके में कई हमलों को अंजाम दिया था। शौकत डार पिछले साल 2018 में सेना के जवान औरंगजेब की हत्या में शामिल एक समूह का हिस्सा था। वह पिछले साल एक पुलिसकर्मी अकीब अहमद वागे की हत्या में भी शामिल था। इरफान वार और मुज़फ़्फ़र शेख भी इलाके में सुरक्षा प्रतिष्ठानों पर हमले को अंजाम देने के लिए पुलिस के रडार पर थे। पुलिस रिकॉर्ड के अनुसार, शेख के खिलाफ आतंकवादी गतिविधियों के लिए कई आपराधिक मामले दर्ज किए गए थे।

प्रवक्ता ने कहा, एनकाउंटर साइट से हथियार और गोला-बारूद सहित अन्य सामग्री बरामद की गई है। पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है और एनकाउंटर साइट से मिली सभी सामग्रियों को केस रिकॉर्ड में अन्य मामलों की जांच के मकसद से लिया गया है। इस बीच, शनिवार को अनंतनाग और सोपोर में भी दो अलग-अलग मुठभेड़ हुईं है। 

कमेंट करें
rgzyA