comScore

अगले 30 साल के लिए अत्याधुनिक हुआ जबलपुर रेलवे स्टेशन , प्लेटफॉर्म नं. 1 और 3 का काम पूरा

अगले 30 साल के लिए अत्याधुनिक हुआ जबलपुर रेलवे स्टेशन , प्लेटफॉर्म नं. 1 और 3 का काम पूरा

डिजिटल डेस्क,जबलपुर। मुख्य रेलवे स्टेशन को आधुनिक और सुविधाजनक बनाने के लिए चल रहे नॉन इंटरलॉकिंग के कार्य के तहत जल्द ही प्लेटफॉर्म नं. 1 और 3 को खोल दिया जाएगा, जिसके बाद प्लेटफॉर्म नं. 2 पर काम शुरु किया जाएगा। बताया जा रहा कि नॉन इंटरलॉकिंग वर्क के लिए रेलवे की टेक्निकल टीम ने प्लानिंग तैयार कर ली है, जिसके अनुसार अब सिग्नलिंग के काम पर जोर दिया जाएगा। नॉन इंटरलॉकिंग में पिछले 19 दिनों के दौरान रेल पटरियों और टर्न आउट को बदलने का काम किया गया, जिसके लिए प्लेटफॉर्म नं. 1 और 3 को बंद कर दिया गया था। रेलवे से मिली जानकारी के अनुसार अब दोनों प्लेटफॉर्म का काम पूरा हो चुका है, जिसे देखते हुए रेल  प्रशासन ने 19 अगस्त तक दोनों प्लेटफॉर्म को खोलने का मन बना लिया है। जैसे ही प्लेटफॉर्म नं. 1 और 3 को खोला जाएगा, सबसे अधिक व्यस्त रहने वाले प्लेटफॉर्म नं. 2 को बंद कर दिया जाएगा।

रेलवे को हाईटेक तकनीकसे फुल प्रूफ बनाने की तैयारी

नॉन इंटरलॉकिंग का काम 29 जुलाई से चल रहा है, जो 27 अगस्त तक चलेगा। इस काम के लिए एक महीने का ब्लॉक लिया गया है, जिसका उद्देश्य आने वाले 30 सालों के लिए जबलपुर रेलवे स्टेशन को रेलवे को हाईटेक तकनीक के लिहाज से फुलप्रूफ करना है। जिससे ट्रेनों की एक ओर स्पीड बेहतर होगी, वहीं लेटलतीफी का दौर भी खत्म हो जाएगा। एक बार नॉन-इंटरलॉकिंग का काम जैसे ही पूरा होगा, मुख्य रेलवे स्टेशन के आउटर पर ट्रेनों को खड़े रखने की समस्या हमेशा के लिए खत्म हो जाएगा।

मदन महल और अधारताल रेलवे स्टेशन से चल रही गाड़ियां

एक महीने के लिए नॉन-इंटरलॉकिंं के कार्य को देखते हुए रेल प्रशासन ने पिंक स्टेशन मदन महल और अधारताल रेलवे स्टेशन से कई गाड़ियों का संचालन किया जा रहा है। यात्रियों की सुविधा के लिए बस और ऑटो की व्यवस्थाएं की गई हैं।
 

कमेंट करें
3WjOY