comScore
Dainik Bhaskar Hindi

जानिये घर में शंख रखने और बजाने के ये हैं ग्यारह आश्चर्यजनक लाभ

BhaskarHindi.com | Last Modified - January 03rd, 2019 16:10 IST

4.9k
0
0
जानिये घर में शंख रखने और बजाने के ये हैं ग्यारह आश्चर्यजनक लाभ

डिजिटल डेस्क। मारी पूजा-पाठ में शंख रखने और बजाने का चलन अनादिकाल से है।  देश के कई भागों में लोग शंख को पूजाघर में रखते हैं और इसे नियमित रूप से बजाते भी हैं।  ऐसे में यह उत्सुकता एकदम स्वाभाविक है कि शंख केवल पूजा-अर्चना में ही उपयोगी है या इसका सीधे तौर पर कुछ लाभ भी है! हिन्दू धर्म की कई ऐसी बातें हैं, जो न केवल आध्यात्मिक रूप से नही बल्कि कई अनेकरूप से भी लाभदायक हैं। शंख रखने, बजाने व इसके जल का उचित उपयोग करने से कई प्रकार के लाभ होते हैं। और कई लाभ तो स्वास्थ्य से जुड़े हुये हैं।

आइये बताते हैं पूजा में शंख बजाने और इसके उपयोग से क्या-क्या लाभ होते हैं:-

  1. ऐसी मान्यता है कि जिस घर में शंख होता है, वहां लक्ष्मीजी का वास होता है। धार्मिक ग्रंथों में शंख को लक्ष्मी का भाई बताया गया है, क्योंकि लक्ष्मी के समान ही शंख भी सागर से ही उत्पन्न हुआ है और शंख को समुद्र मंथन से निकले चौदह रत्नों में से एक मना जाता है।
  2. शंख को इसलिए भी शुभ माना गया है, क्योंकि माता लक्ष्मी और भगवान विष्णु, दोनों ही अपने हाथों में शंख को धारण करते हैं।
  3. पूजा-पाठ में शंख बजाने से वातावरण पवित्र होता है। जहां तक शंख की ध्वनि जाती है, इसे सुनकर लोगों के मन में सकारात्मक विचार उत्पन्न होते हैं। अच्छे विचारों का फल भी स्वाभाविक रूप से अच्छा ही होता है।शंख के जल से विष्णु लक्ष्मी आदि का अभिषेक करने से भगवन प्रसन्न होते हैं और उनकी कृपाद्रष्टि प्राप्त होती है।ब्रह्मवैवर्त पुराण में कहा गया है कि शंख में जल रखने और इसे छिड़कने से वातावरण शुद्ध बना रहता है।
  4. शंख की ध्वनि लोगों को पूजा-अर्चना के लिए प्रेरित करती है। ऐसी मान्यता है कि शंख के द्वारा पूजा करने से मनोकामनाएं पूरी होती हैं और इस की ध्वनि से दुष्ट आत्माएं पास नहीं आती हैं।वैज्ञानिकों का मानना है कि शंख की ध्वनी से वातावरण में उपस्थित कई प्रकार के जीवाणुओं-कीटाणुओं का नाश हो जाता है कई प्रयोग से इस प्रकार के परिणाम मिले भी हैं।
  5. आयुर्वेद के अनुसार, शंखोदक के भस्म के उपयोग से पेट की बीमारियां, पथरी, पीलिया आदि कई प्रकार के रोगों से मुक्ति मिलती हैं। वैसे इसका उपयोग अयुवेदाचार्य के परामर्श से ही किया जाना चाहिए।
  6. शंख को नित्य बजाने से फेफड़े का व्यायाम होता है। पुराणों में कहा गया है कि यदि श्वास का रोगी नियमित रूप से शंख बजाए, तो वह रोग से मुक्त हो सकता है।
  7. शंख में रखे पानी का सेवन करने से हड्डियां मजबूत होती हैं। यह पानी दांतों के लिए भी लाभदायक होता है। शंख में कैल्शियम, फास्फोरस व गंधक के गुण होने की करण से यह लाबंह दायक है।
  8. वास्तुशास्त्र के अनुसार शंख में ऐसे कई गुण होते हैं, जिससे घर में सकारत्मक ऊर्जा आती है। शंख की ध्वनि से 'सोई हुई भूमि' जाग्रत होकर शुभ फल देती है।

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ये भी देखें
Survey

app-download