comScore

प्रमोद सावंत बने गोवा के नए सीएम, 11 मंत्रियों के साथ ली शपथ


हाईलाइट

  • मनोहर पर्रिकर के बाद प्रमोद सावंत बने गोवा के सीएम।
  • 11 मंत्रियों के साथ ली पद और गोपनीयता की शपथ। 
  • प्रमोद सावंत गोवा विधानसभा के स्पीकर रहे हैं।  

डिजिटल डेस्क, पणजी। मनोहर पर्रिकर के निधन के बाद प्रमोद सावंत को गोवा का नया मुख्यमंत्री बनाया गया है। सावंत ने सोमवार को देर रात 2 बजे मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। उनके साथ 11 मंत्रियों ने भी पद और गोपनीयता की शपथ ली है। बता दें कि प्रमोद सावंत मनोहर पर्रिकर के विश्वसनीय और आरएसएस के बेहद करीबी हैं। इससे पहले वो गोवा विधानसभा के अध्यक्ष थे। 

[removed][removed]

प्रमोद सावंत की सरकार में सहयोगी महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी के सुधीन धवलीकर और गोवा फॉरवर्ड पार्टी के विजय सरदेसाई ने डिप्टी सीएम पद की शपथ ली है। इसके अलावा तीनों पार्टी और निर्दलीय समेत 9 और विधायकों ने भी मंत्री पद की शपथ ग्रहण की। सीएम और दो डिप्टी सीएम को राज्यपाल मृदुला सिन्हा ने राजभवन में पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई। फिलहाल गोवा विधानसभा के उपाध्यक्ष माइकल लोबो इस पद के लिए चुनाव होने तक कार्यवाहक अध्यक्ष होंगे।
 

[removed][removed]


राजनीति में लाने का श्रेय पर्रिकर को- सावंत
गोवा के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने से पहले प्रमोद सावंत ने कहा, पार्टी ने मुझे बड़ी जिम्मेदारी सौंपी है, जिसे मैं ईमानदारी से निभाऊंगा। सावंत ने कहा, उन्हें राजनीति में लाए जाने का श्रेय दिवंगत मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर को है। गौरतलब है कि 2017 में बीजेपी के नेतृत्व वाली सरकार बनने के बाद सावंत को विधानसभा अध्यक्ष बनाया गया था। वह किसी भी विधानसभा में सबसे कम उम्र के अध्यक्ष थे।


पर्रिकर के निधन के बाद से शुरू था सत्ता का संघर्ष
गौरतलब है कि मनोहर पर्रिकर के निधन के बाद से ही राज्य में सत्ता का संघर्ष शुरू हो गया था। बीजेपी की ओर से नितिन गडकरी गोवा में ही थे और उन्होंने लगातार बीजेपी विधायकों और गठबंधन के अन्य नेताओं के साथ बैठक की। मुख्यमंत्री पद के लिए पहले प्रदेश अध्यक्ष विनय तेंदुलकर का नाम सामने आया था, लेकिन शाम तक प्रमोद सावंत के नाम पर मुहर लगी। सोमवार रात दो बजे प्रमोद सावंत ने सीएम पद की शपथ ली। उनके साथ 11 मंत्रियों ने भी शपथ ली। 


कांग्रेस ने भी किया था सरकार बनाने का दावा
वहीं 14 विधायकों वाली कांग्रेस ने राज्यपाल को पत्र लिखकर सरकार बनाने का दावा पेश किया था। कांग्रेस ने सोमवार सुबह दावा किया था कि, बीजेपी के पास बहुमत नहीं है यही कारण है कि सबसे बड़ी पार्टी होने के नाते कांग्रेस को सरकार बनाने का मौका मिले। 

कमेंट करें
DyLTu