• Dainik Bhaskar Hindi
  • Other Sports
  • Thailand open 2019: Satwik Sai Raj Rankireddy and Chirag Shetty created history, India wins BWF Super 500 tournament title for the first time

दैनिक भास्कर हिंदी: Thailand open: रैंकीरेड्डी-चिराग ने रचा इतिहास, भारत को पहली बार सुपर 500 टूर्नामेंट का खिताब जीताया

August 4th, 2019

हाईलाइट

  • पहली बार भारत ने मेंस डबल्स कैटेगरी में BWF सुपर 500 टूर्नामेंट का खिताब जीता
  • रैंकीरेड्डी और चिराग की जोड़ी ने फाइनल मुकाबले में जुन हुई और चेन की जोड़ी को 21-19, 18-21, 21-18 से हराया

डिजिटल डेस्क, बैंकॉक। भारत के स्टार शट्लर सात्विकसाईंराज रैंकीरेड्डी और चिराग शेट्टी की जोड़ी ने रविवार को थाईलैंड ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट का खिताब जीतकर इतिहास रच दिया है। पहली बार भारत ने मेंस डबल्स कैटेगरी में BWF सुपर 500 टूर्नामेंट का खिताब जीता है। रैंकीरेड्डी और चिराग की जोड़ी ने यह खिताब मेंस डबल्स कैटेगरी के फाइनल मुकाबले में वर्ल्ड नंबर-2 चीन के ली जुन हुई और लियू यू चेन की जोड़ी को 21-19, 18-21, 21-18 से मात देकर जीता है। यह मुकाबला एक घंटे और दो मिनट तक चला। दोनों जोड़ियों की बीच यह अब तक का दूसरा मुकाबला था। इससे पहले, इसी साल हुए ऑस्ट्रेलियन ओपन में चीनी जोड़ी ने रैंकीरेड्डी और चिराग की जोड़ी को 21-19, 21-18 से हराया था।

फाइनल मैच की शुरुआत भारतीय जोड़ी के लिए शानदार रही। उसने ज्यादा गलतियां न करते हुए पहले गेम में 9-6 से बढ़त बना ली। चीनी खिलाड़ियों ने वापसी करने का प्रयास किया, लेकिन भारतीय जोड़ी ब्रेक तक 11-9 से आगे रही।  इसके बाद, सात्विक और चिराग ने थोड़ा संयम खोया, जिसके कारण स्कोर 15-15 से बराबर हो गया। हालांकि, भारतीय जोड़ी आगे निकलने में कामयाब रही और चीनी खिलाड़ियों के एक गेम प्वाइंट बचाने के बावजूद 21-19 से जीत दर्ज करते हुए मुकाबले में बढ़त बना ली। 

दूसरे गेम के शुरुआत में भारतीय जोड़ी 5-2 से आगे रही और फिर 11-9 से बढ़त बना ली। इस बार चीनी खिलाड़ी वापसी करने में कामयाब रहे। वे मुकाबले को 14-14 से बराबरी पर ले आए और फिर 21-18 से जीत दर्ज करते हुए मैच को रोमांचक बना दिया। चीनी जोड़ी के लिए तीसरे गेम की शुरुआत दमदार रही। उसने 5-2 से बढ़त बनाई, लेकिन भारतीय खिलाड़ी वापसी करने में कामयाब रहे और मुकाबले को 14-14 से बराबरी पर ला खड़ा किया।  इसके बाद, पूरे मुकाबले सात्विक और चिराग की जोड़ी कभी पीछे नहीं हुई और इतिहास रच दिया।