दैनिक भास्कर हिंदी: Amit Shah Conference: नड्डा पर हुए हमले के लिए शाह ने TMC को ज़िम्मेदार ठहराया, बोले- यहां राजनीतिक हिंसा चरम पर है

December 20th, 2020

डिजिटल डेस्क, कोलकाता। पश्चिम बंगाल दौरे के दूसरे दिन गृहमंत्री अमित शाह ने बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा पर हुए हमले की निंदा की। दिन भर के कार्यक्रम के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस कर ते हुए शाह ने इस हमले के लिए टीएमसी को जिम्मेदार बताया। उन्होंने कहा कि जेपी नड्डा पर हुआ हमला सिर्फ नड्डा पर हमला नहीं, बंगाल में लोकतंत्र पर हमला है। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में सब को अपनी बात रखने का हक है। इस तरह की हिंसा से हम डरेंगे नहीं। जितना इस तरह का वातावरण बनाएं, हम उतनी मज़बूती से वापसी करेंगे। अमित शाह ने कहा, पश्चिम बंगाल में राजनीतिक हिंसा अपने चरम पर है। हम हिंसा का जवाब लोकतंत्र से देंगे।

बंगाल सरकार में भ्रष्टाचार चरम पर
शाह ने कहा कि बंगाल सरकार में भ्रष्टाचार चरम पर है। केंद्र का पैसा यहां लोगों तक नहीं पहुंच रहा है। शाह ने कहा, बंगाल में बदलाव के लिए जनता सहयोग करे। उन्होंने ममता बनर्जी से पूछा कि आप किसानों का समर्थन करती हैं फिर क्यों किसानों तक छह हज़ार रुपये पहुंचने नहीं दे रहीं? उन्होंने कहा कि पहले बंगाल अमीर राज्यों में से एक था और आज बंगाल टोलबाजी और भ्रष्टाचार में नंबर 1 है।

ममता बनर्जी को अपने भतीजे की चिंता
शाह ने कहा कि बंगाल की 10 करोड़ जनता की चिंता की बजाए ममता बनर्जी को अपने भतीजे की चिंता है। वह चाहती है कि कुछ भी करके एक बार उन्हें मुख्यमंत्री बनाया जाए। ऐसी सोच के साथ जो सरकार चलेगी वो किसी राज्य का क्या विकास करेगी। उन्होंने कहा कि बंगाल में परिवारवाद, राजनीतिक अपराधिकरण बढ़ गया है। शाह ने कहा, मां, माटी, मानुष का नारा लेकर चलने वाले टोलबाजी, तुष्टिकरण, तानाशाही में अटक कर रह गए हैं। टीएमसी एक पारिवारिक पार्टी बनकर टीएमसी बनकर रह गई है।

बंगाल में स्कूलों की हालत खराब
अमित शाह ने ममता सरकार को घेरते हुए कहा, बंगाल में शिक्षा क्षेत्र में 90% प्राथमिक स्कूलों में डेस्क नहीं है। 30% से ज्यादा स्कूलों में पर्याप्त क्लासरूम नहीं है। 10% स्कूलों में बिजली कनेक्शन नहीं है। 56% स्कूलों में शौचालय नहीं है। शिक्षा के क्षेत्र में ये बंगाल की स्थिति है। उन्होंने कहा कि बंगाल में प्रति व्यक्ति आय 1960 में महाराष्ट्र की तुलना में दोगुनी थी, लेकिन अब यह महाराष्ट्र की आधी भी नहीं है। इसके लिए कौन जिम्मेदार है? उन्होंने कहा कि राज्य में जूट उद्योग भी काफी प्रभावित हुआ है। शाह ने कहा कि मैं जानता हूं टीएमसी मेरी तरफ से पेश किए गए आंकड़ों पर सवाल उठाएगी। टीएमसी चाहे तो भाजपा युवा मोर्चा के अध्यक्ष के साथ इन आंकड़ों पर चर्चा कर सकती है।

CAA के सवाल पर क्या बोले अमित शाह?
प्रेस कॉन्फ्रेंस में अमित शाह ने नागरिकता संशोधन कानून लागू करने के सवाल पर जवाब देते हुए कहा कि सीएए के नियम बनाना बाकी है। कोरोना काल में चीजें व्यवस्थित नहीं हो पाईं हैं। कोरोना की वैक्सीन आने के बाद हम इस पर विचार करेंगे और इस बाबत जानकारी दी जाएगी।

खबरें और भी हैं...