comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

मध्यप्रदेश में सियासी बवाल: सुवासरा विधायक हरदीप सिंह ने दिया इस्तीफा, मुश्किल में कमलनाथ सरकार!

March 05th, 2020 23:48 IST
मध्यप्रदेश में सियासी बवाल: सुवासरा विधायक हरदीप सिंह ने दिया इस्तीफा, मुश्किल में कमलनाथ सरकार!

डिजिटल डेस्क, भोपाल। मध्यप्रदेश में कांग्रेस की कमलनाथ सरकार की मुसीबत अब बढ़ने लगी हैं। मंदसौर की सुवासरा विधानसभा सीट से कांग्रेस विधायक हरदीप सिंह डंग ने अपना इस्तीफा स्पीकर एनपी प्रजापति और मुख्यमंत्री कमलनाथ को भेज दिया है। डंग मध्यप्रदेश के सत्तापक्ष के लापता 4 विधायकों में से एक हैं और वे तीन दिन से लापता थे। माना जा रहा है कि जुगाड़ के बहुमत पर चल रही कमलनाथ सरकार के लिए यह इस्तीफा खतरे की घंटी की तरह है। सूत्रों का कहना है कि अभी कुछ और विधायक भी इस्तीफा दे सकते हैं। यदि ऐसा हुआ तो बहुमत का आंकड़ा कम हो जाएगा और कमलनाथ की सरकार गिर सकती है। हरदीप सिंह डंग ने अपना इस्तीफा देने के पीछे पार्टी में अपनी उपेक्षा का आरोप लगाया है। बताया जा रहा है कि विधानसभा से इस्तीफा देने वाले कांग्रेस विधायक हरदीप सिंह डंग बंगलुरु में है।

बता दें कि हरदीप सिंह डंग मंदसौर सीट से दूसरी बार विधायक बने हैं। उन्होंने 2018 विधानसभा चुनाव में 350 मतों से भाजपा के राधेश्याम पाटीदार को हराया था। करीबियों की मानें तो डंग सरकार के मुआवजा वितरण के तरीके को लेकर नाराज थे। 19 फरवरी को सीतामऊ में हुए कर्जमाफी के दूसरे चरण के सम्मेलन में भी प्रभारी मंत्री हुकुमसिंह कराड़ा की मौजूदगी में ही डंग ने ऐलान किया था कि किसानों की समस्याएं नहीं सुनी जा रही हैं और इसके लिए मंदसौर में बड़ा आंदोलन किया जाएगा। डंग ने कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने का भी समर्थन किया था।

अपने विधानसभा क्षेत्र की अनदेखी से दुखी डंग
अपने इस्तीफे में डंग ने लिखा कि वे अपने विधानसभा क्षेत्र की अनदेखी से दुखी हैं। उन्होंने लिखा कि न मैं कमलनाथ गुट का हूं, न दिग्विजय सिंह का और न ही सिंधिया गुट का हूं। मैं सिर्फ कांग्रेस का कार्यकर्ता हूं। इसलिए मुझे परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। डंग ने इस्तीफे में लिखा कि सरकार बनने के 14 महीने बाद भी मेरे विधानसभा क्षेत्र की उपेक्षा की जा रही है। मंत्री काम करने के लिए तैयार नहीं हैं। दलाल और भ्रष्टाचारी सरकार में बैठे हैं। 

विधायक बिसाहूलाल सिंह गुमशुदगी रिपोर्ट दर्ज
वहीं मामले में एक और ट्वीस्ट ये है कि कांग्रेस के एक अन्य लापता विधायक कांग्रेस विधायक बिसाहूलाल सिंह की गुमशुदगी की रिपोर्ट भोपाल में दर्ज करवाई गई है। बिसाहूलाल के बेटे ने शहर के टीटी नगर थाने में उनकी गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई है। वे तीन दिन से लापता हैं। बता दें कि हरदीप सिंह डंग और बिसाहूलाल के अलावा रघुराज कंसाना और निर्दलीय विधायक सुरेंद्र सिंह शेरा भी 3 दिन से लापता हैं। कमलनाथ सरकार के कैबिनेट मंत्री लाखन सिंह ने विधायक की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज होने की पुष्टि कर दी है।

आंकड़ों का खेल
मध्यप्रदेश में कुल सीटें: 230
मौजूदा सदस्य संख्या: 228
विधानसभा अध्यक्ष को छोड़कर सदन में संख्या: 227 (भाजपा और कांग्रेस विधायकों के निधन से दो सीटें खाली)
कांग्रेस गठबंधन: 119 (कांग्रेस: 112, बसपा: 02, सपा: 01, निर्दलीय: 04)
भाजपा: 107
बहुमत का आंकड़ा: 114
कांग्रेस के पास 119 विधायकों का समर्थन है। इसमें कांग्रेस के 112, बसपा के 2, सपा के 1 और 4 निर्दलीय विधायक हैं। डंग का इस्तीफा स्वीकार होने के बाद उसके पास 119 विधायकों का समर्थन रह जाएगा, क्योंकि पिछले विधानसभा सत्र के दौरान कांग्रेस को 121 विधायकों का समर्थन था। इनमें से एक कांग्रेस विधायक की मौत हो चुकी है।

भाजपा ने कसा तंज 
कांग्रेस विधायक हरदीप सिंह डंग के इस्तीफे के बाद भाजपा सरकार पर हमलावर हो गई है। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने कहा कि आज कांग्रेस विधायक ही पीड़ित और प्रताड़ित है और उनको इस्तीफा देने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है। वीडी शर्मा ने कहा कि कांग्रेस सरकार अंर्तविरोध और अंतर्कलह से जूझ रही है और अब  कमलनाथ सरकार का अंत निकट दिखाई दे रहा है।

मुझे उनका कोई पत्र प्राप्त नहीं हुआ: सीएम कमलनाथ
इस मामले में सीएम कमलनाथ ने कहा कि हरदीप सिंह ढंग हमारी पार्टी के विधायक हैं। उनके इस्तीफा देने की खबर मिली है, लेकिन मुझे अभी तक उनका इस संबंध में न तो कोई पत्र प्राप्त हुआ है और न ही उन्होंने मुझसे अभी तक इस संबंध में कोई चर्चा की है और न प्रत्यक्ष मुलाकात की है। जब तक मेरी उनसे इस संबंध में चर्चा नहीं हो जाती, तब तक इस बारे में कुछ भी कहना ठीक नहीं होगा।

पार्टी कहेगी तो कांग्रेस का समर्थन करेंगे अथवा नहीं: बीएसपी विधायक
डंग के इस्तीफे पर बीएसपी विधायक संजीव सिंह ने कहा कि यह बहुत बड़ी बात है कि हरदीप सिंग डंग ने इस्तीफा दे दिया है। इसका कारण हरदीप सिंह ही बता पाएंगे कि उन्होंने इस्तीफा क्यों दिया। मुझे तो लग रहा है कि अन्य 3 विधायक भी अपना इस्तीफा दे देंगे। हमारा स्टैंड हमारी पार्टी तय करेगी, अगर उन्होंने कहा तो हम कांग्रेस को समर्थन देंगे अथवा नहीं।

मेरा समर्थन हमेशा कांग्रेस को ही रहेगा: सपा विधायक बबलू शुक्ल
डंग के इस्तीफे पर समाजवादी पार्टी के विधायक बबलू शुक्ल ने कहा कि हरदीप सिंह डांग सरकार से नाराज चल रहे थे। यह बहुत बड़ी बात है कि जब इंसान बहुत आहत होता है, तब ऐसा कदम उठता है। लड़ाई भाजपा कांग्रेस की है हमारा स्टैंड हमारी पार्टी तय करेगी। मेरा समर्थन हमेशा कांग्रेस को ही रहेगा।
 

कमेंट करें
XW1Ft
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।