comScore

फिट इंडिया मूवमेंट: फिटनेस जगत की हस्तियों से पीएम ने किया संवाद, कोहली से कहा- आपका नाम और काम दोनों ही विराट

September 24th, 2020 15:48 IST

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी फिट इंडिया मूवमेंट की पहली वर्षगांठ (First anniversary of Fit India Movement) पर आज गुरुवार को ऑनलाइन फिट इंडिया डायलॉग कार्यक्रम में शामिल हुए। इस मौके पर पीएम मोदी ने फिटनेस जगत की हस्तियों से संवाद किया। ताकि, देश के लोगों को फिट रहने के लिए प्रेरित किया जा सके। इस ऑनलाइन बातचीत में प्रतिभागियों ने अपनी फिटनेस के सफर और अच्छे स्वास्थ को लेकर अपने विचार साझा किए। फिट इंडिया मुहिम की वर्षगांठ के अवसर पर पीएम ने फिटनेस प्रोटोकॉल का शुभारंभ किया।

मोदी के साथ इस ऑनलाइन बातचीत में भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली, रनर और ऐक्टर मिलिंद सोमन, मशहूर डायटीशियन रुजुता दिवेकर, पैरालंपियन स्वर्ण पदक देवेंद्र झाझरिया, फुटबॉलर अफशां आशिक, स्वामी शिवाध्यानम सरस्वती, मुकुल कांतिकर के अलावा कई अन्य लोग शामिल हुए।

देवेंद्र झाझरिया ने पीएम से बताया अपना किस्सा
दो बार के पैरालिंपिक स्वर्ण पदक विजेता देवेंद्र झाझरिया ने पीएम मोदी से बात करते हुए बताया, 9 साल की उम्र में एक एक्सीडेंट में मेरे हाथ चले गए थे, लेकिन मेरी मां ने मुझे हौसला दिया और मैंने फिर से खेल की शुरुआत की। देवेंद्र ने पीएम को बताया, वो लगातार कंधे की एक्सरसाइज करता हूं ताकि लगातार काम किया जा सके। देवेंद्र ने बताया, उन्होंने साइकिल के टायर के ट्यूब से एक्ससाइज करना शुरू किया।

कश्मीर की बेटी और फुटबॉलर अफशां आशिक से संवाद
जम्मू-कश्मीर की महिला फुटबॉलर अफशां आशिक से पीएम मोदी ने कहा, भविष्य में दुनिया बेकहम नहीं बल्कि अफशां की बात करेगी। अफशां ने बताया, उनके फैसले को घर वालों ने सपोर्ट नहीं किया था, लेकिन फिर भी उन्होंने मुंबई आकर प्रैक्टिस करना शुरू कर दिया।
पीएम मोदी ने कहा, आप कश्मीर की बेटियों के लिए स्टार बन चुकी हैं। आपको फॉलो करके ना सिर्फ कश्मीर बल्कि देश के अलग-अलग हिस्सों से लड़कियां आपसे प्रभावित होंगी। इस दौरान पीएम मोदी ने उनसे प्रैक्टिस के बारे में सवाल पूछा। जिस पर अफशां ने बताया, वो एमएस धोनी की फैन हैं और उनसे ही शांत स्वभाव के बारे में सीखती हैं। पीएम ने अफशां से पूछा, कश्मीर के बच्चे खेल में क्यों सबसे आगे होते हैं? जिसपर अफशां ने बताया, वहां के मौसम के कारण कश्मीर के लोगों का स्टैमिना काफी अच्छा होता है, जो खेल में भी फायदेमंद है।

प्रधानमंत्री से बोले मिलिंद सोमन- मैं फिट रहने के लिए जिम नहीं जाता
बातचीत के दौरान ऐक्टर मिलिंद सोमन ने अपनी 81 वर्षीय मां को फिटनेस की मिसाल बताया। मिलिंद ने कहा, उनकी मां ने 60 वर्ष की उम्र में ट्रैकिंग शुरू की। मिलिंद सोमन ने बताया कि वह फिट रहने के लिए जिम जाने में विश्वास नहीं करते। वह आठ बाई दस फुट की जगह में भी फिट रह सकते हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के एक सवाल के जवाब में मिलिंद सोमन ने बताया, मेरा कोई रुटीन नहीं है। मुझे एक्सरसाइज करना पसंद है। दिन में जितना समय मिलता है, चाहे तीन मिनट हो या तीन घंटा हो, मैं एक्टिविटीज करता रहता हूं। मैं कभी जिम नहीं जाता। मैं कभी मशीन यूज नहीं करता। अगर सामान्य रूप से फिट रहना है, हेल्दी बनना है तो घर पर भी आसान चीजों को लेकर भी फिट और हेल्दी रह सकता हूं।

मिलिंद सोमन ने कहा, मैं 2012 में दिल्ली से बॉम्बे दौड़ा था। मेरी मां 81 साल की हैं, वो जो आज कर सकती हैं, मुझे उनकी उम्र में वैसा ही बनना है। मां मेरी मिसाल है। मिलिंद सोमन ने कहा, हमारे दादा लोग 40-40 किमी पैदल चलते थे। देश के कई हिस्सों में महिलाएं पानी लेने के लिए 40-40 किमी चलती हैं।

40 की उम्र में जिंदगी खत्म नहीं होती
मिलिंद सोमन ने कहा, मैं मैराथॉन दौड़ सकता हूं। इसकी तैयारी कर सकता हूं। लोगों को समझ होनी चाहिए कि हमें कितना फिट रहना चाहिए। मैराथॉन, पर्वत चढ़ने के लिए या सामान्य जीवन के लिए फिट रहने के अलग-अलग मापदंड होते है। फिट इंडिया मूवमेंट के जरिए यह समझ विकसित होगी। लोगों को समझना चाहिए कि 40 की उम्र में जिंदगी खत्म नहीं होती, यहां से शुरूआत हो सकती है।

PM ने कोहली से पूछा- आप भी यो-यो टेस्ट कराते हैं क्या?
विराट कोहली देश के सबसे फिट खिलाड़ियों में से एक हैं। फिट इंडिया मूवमेंट की पहली वर्षगांठ पर प्रधानमंत्री मोदी ने कोहली से पूछ ही लिया कि, उनकी फिटनेस का राज क्या है और क्या वह भी अपना यो-यो टेस्ट कराते हैं? कोहली अभी संयुक्त अरब अमीरात में आईपीएल खेल रहे हैं। वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए प्रधानमंत्री से मुखातिब हुए।

इस संवाद के दौरान प्रधानमंत्री ने कोहली से यो-यो टेस्ट और थकान के बारे में सवाल पूछा, जिसका कोहली ने अपने अंदाज में जवाब दिया। कोहली ने कहा, आजकल लाइफ की डिमांड ज्यादा हो गई है। फिटनेस को नहीं इंप्रूव करेंगे तो खेल में पीछे छूट जाएंगे। खेल में सफलता के लिए सिर्फ स्किल ही नहीं शरीर और दिमाग कितना तंदरुस्त है, ये भी मायने रखता है।

कमेंट करें
1OZab