comScore

Manipur: मणिपुर में गिरा कांग्रेस का अविश्वास प्रस्ताव, BJP सरकार ने साबित किया बहुमत, 8 कांग्रेस विधायक वोटिंग में शामिल नहीं हुए

Manipur: मणिपुर में गिरा कांग्रेस का अविश्वास प्रस्ताव, BJP सरकार ने साबित किया बहुमत, 8 कांग्रेस विधायक वोटिंग में शामिल नहीं हुए

डिजिटल डेस्क, इम्फाल। मणिपुर के सीएम एन बीरेन सिंह ने सोमवार को विधानसभा में वॉयस वोट के माध्यम से विश्वास मत जीता। मतदान के दौरान आठ कांग्रेस विधायक अनुपस्थित थे। विश्वास मत के बाद, कांग्रेस विधायकों ने विरोध जताया और सदन के वेल में कुर्सियां ​​फेंक दीं। पूर्व बीजेपी नेता लुखोशी ज़ो से जुड़े हाई-प्रोफाइल ड्रग जब्ती मामले को CBI को सौंपने की विपक्ष की मांग पर कार्रवाई नहीं होने के बाद कांग्रेस ने 28 जुलाई को अविश्वास प्रस्ताव लाया था।

विधानसभा में भाजपा सरकार के विश्वास मत जीतने के बाद मणिपुर के सीएम एन बीरेन सिंह ने कहा, हमने वॉयस वोट से विश्वास मत जीता है। अध्यक्ष जो कुछ भी कर रहे हैं वह नियमानुसार है। विपक्षी विधायक कम संख्या में थे। वहीं मणिपुर के पूर्व सीएम और सीएलपी नेता ओकराम इबोबी सिंह ने कहा, मणिपुर में कानून का शासन नहीं है। हम वोट विभाजन की मांग कर रहे हैं। वे (भाजपा) इसे पसंद नहीं करते हैं। सत्तारूढ़ पार्टी के भीतर, बहुत से लोग इस सरकार को पसंद नहीं करते हैं। 

विधायकों को जारी किया गया था व्हिप
कांग्रेस के चीफ व्हिप के गोविंदस ने अपने विधायकों को एक व्हिप जारी किया था, जिसमें उन्हें मुख्यमंत्री की ओर से दिए गए विश्वास प्रस्ताव के खिलाफ वोट करने के लिए कहा गया था। तीन-लाइन व्हिप में कहा गया था कि पार्टी के सभी सदस्यों को 10 अगस्त की सुबह 11 बजे से सत्र की समाप्ति तक सदन में रहना होगा और मणिपुर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के निर्देशानुसार चर्चा और मतदान में भाग लेना होगा।

विधानसभा के समीकरण
चार सदस्यों के दलबदल विरोधी कानून के तहत अयोग्य ठहराए जाने और भाजपा के तीन विधायकों के इस्तीफे के बाद 60 सदस्यीय सदन की ताकत 53 हो गई है, जिसमें अध्यक्ष वाई खेमचंद भी शामिल हैं। कांग्रेस के पास 24 विधायक हैं और सत्तारूढ़ गठबंधन के स्पीकर समेत 29 सदस्य हैं, जिनमें 18 भाजपा विधायक, एनपीपी और एनपीएफ के चार-चार विधायक, तृणमूल कांग्रेस और लोक जनशक्ति पार्टी के एक-एक और एक निर्दलीय विधायक शामिल हैं।

कमेंट करें
3mplj