comScore

Speak Up India: राहुल गांधी ने कहा- हाथरस घटना में सरकार का रवैया अमानवीय और अनैतिक, अपराधियों को बचा रही सरकार

October 12th, 2020 17:23 IST

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। हाथरस मामले को लेकर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने सरकार पर निशाना साधा है। राहुल गांधी ने सोमवार को कांग्रेस की ओर से चलाए गए डिजिटल कैंपेन के तहत एक वीडियो शेयर किया। वीडियो शेयर करते हुए राहुल ने लिखा,  'हाथरस घटना में सरकार का रवैया अमानवीय और अनैतिक है। वे पीड़ित परिवार की मदद करने की बजाए अपराधियों की रक्षा करने में लगे हैं। आइये, देशभर में महिलाओं पर हो रहे अन्याय के ख़िलाफ़ आवाज़ उठायें- एक क़दम बदलाव की ओर।

क्या कहा राहुल ने वीडियो में?
राहुल गांधी ने अपने वीडियो में कहा, 'कुछ वक्त पहले मैं हाथरस गया था, जाते वक्त मुझे रोका गया, दूसरी बार मैं चला गया। मुझे उस परिवार से मिलने से क्यों रोका गया था, उनकी बेटी के साथ बलात्कार हुआ, फिर हत्या कर दी गई। जब मैंने पीड़ित परिवार से बात की, तब सरकार ने पीड़ितों पर आक्रमण शुरू कर दिया।' राहुल गांधी ने कहा, सरकार का काम अपराधियों की रक्षा करने का नहीं है। यूपी सरकार पीड़ितों को न्याय नहीं दे रही है। यूपी सरकार को अपराधियों को जेल में डालना चाहिए। ऐसा देश में लाखों महिलाओं के साथ ऐसा होता है।  हमें समाज को बदलना है और माता-बहनों के साथ जो किया जा रहा है, वो अन्याय है। 

क्या है पूरा मामला?
आरोप है कि हाथरस के बूलगढ़ी गांव में 14 सितंबर को 4 लोगों ने 19 साल की लड़की से गैंगरेप किया था। आरोपियों ने लड़की की रीढ़ की हड्डी तोड़ दी और उसकी जीभ भी काट दी थी। दिल्ली में इलाज के दौरान पीड़िता की मौत हो गई। इसके बाद चारों आरोपी गिरफ्तार कर लिए गए। हालांकि, पुलिस का दावा है कि दुष्कर्म नहीं हुआ था। सियासी संग्राम के बीच योगी सरकार ने हाथरस गैंगरेप मामले की सीबीआई जांच के आदेश दे दिए। हालांकि पीड़िता के भाई ने कहा कि हम चाहते थे कि सुप्रीम कोर्ट के जज की निगरानी में मामले की जांच की जाए। वहीं, पीड़िता का रात में दाह संस्कार कराने को लेकर प्रशासन निशाने पर है। गैंगरेप की शिकार दलित लड़की के पिता हो या भाई, चाचा हो या कोई अन्य रिश्तेदार, सब एक सुर से पुलिस पर जबरन दाह संस्कार कराने का आरोप लगा रहे हैं। बीते दिनों कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी पीड़िता के परिवार से मिलने के लिए हाथरस जा रहे थे लेकिन उन्हें बीचे रास्ते में ही पुलिस ने रोक दिया था। हालांकि बाद में उन्होंने हाथरस पहुंचकर पीड़िता के परिवार से मुलाकात की थी।

कमेंट करें
ZBHvP