दैनिक भास्कर हिंदी: राजस्थान में 28 जुलाई को कैबिनेट विस्तार! विधायकों को जयपुर में मौजूद रहने का निर्देश दिया गया

July 25th, 2021

डिजिटल डेस्क, जयपुर। राजस्थान कैबिनेट में फेरबदल से पहले, कांग्रेस महासचिव केसी वेणुगोपाल और पार्टी की राजस्थान इकाई के प्रभारी अजय माकन ने रविवार को पार्टी विधायकों और पीसीसी के सदस्यों से मुलाकात की। विधायकों को जयपुर में मौजूद रहने का निर्देश दिया गया है क्योंकि 28 जुलाई को कैबिनेट विस्तार होने की संभावना है।

दिल्ली रवाना होने से पहले केसी वेणुगोपाल और अजय माकन रविवार को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से भी मुलाकात करेंगे।

इससे पहले खबर थी कि कांग्रेस रविवार को पार्टी विधायकों की बैठक बुलाएगी। हालांकि, पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट को बैठक के लिए नहीं बुलाए जाने पर हंगामे के बाद प्रदेश कांग्रेस इकाई के अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने स्पष्ट किया कि विधायकों की कोई निर्धारित बैठक नहीं थी। उन्होंने कहा कि विधायकों को केवल केसी वेणुगोपाल और अजय माकन के स्वागत समारोह के लिए बुलाया गया था। 

यह बैठक उन खबरों के बीच हुई है जिनमें कहा गया है कि सचिन पायलट के नेतृत्व वाला कांग्रेस गुट राज्य मंत्रिमंडल के विस्तार में लगातार हो रही देरी को लेकर पार्टी आलाकमान से खफा है। कैबिनेट में संभावित फेरबदल से पहले सचिन पायलट और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के करीबी नेताओं के बीच जुबानी जंग चल रही है। 

शनिवार को केसी वेणुगोपाल और अजय माकन ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के साथ उनके आवास पर मैराथन बैठक की थी।  सूत्रों के मुताबिक बैठक में अशोक गहलोत ने कहा कि राज्य मंत्रिमंडल विस्तार का फैसला कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और पार्टी आलाकमान पर छोड़ दिया गया है। 

केसी वेणुगोपाल और अजय माकन के साथ बैठक में अशोक गहलोत ने कैबिनेट विस्तार और फेरबदल के लिए सुलह फार्मूले पर चर्चा की। इसके अलावा राज्य में लंबित बोर्डों, निगमों में नियुक्तियों के मुद्दे पर भी चर्चा हुई।

अशोक गहलोत ने दोनों नेताओं से कहा कि राजनीतिक नियुक्तियों को लेकर जो भी फैसला लिया जाता है, उसमें पार्टी के वरिष्ठ नेताओं, कांग्रेस प्रतिनिधियों और स्थानीय नेताओं की सहमति जरूरी होती है।

राजस्थान कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा भी केसी वेणुगोपाल और अजय माकन के स्वागत के लिए मुख्यमंत्री आवास पहुंचे लेकिन बैठक शुरू होने से पहले ही निकल गए।

नवजोत सिंह सिद्धू और मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के नेतृत्व वाले गुटों के बीच अंदरूनी कलह को शांत करने के लिए पंजाब में कांग्रेस आलाकमान के हस्तक्षेप के बाद राजस्थान मंत्रिमंडल में फेरबदल पर बहस तेज हो गई है। सूत्रों ने बताया कि राजस्थान में सचिन पायलट के नेतृत्व वाला कांग्रेस धड़ा राज्य मंत्रिमंडल के विस्तार में लगातार देरी से पार्टी आलाकमान से नाराज है।

अशोक गहलोत के नेतृत्व के खिलाफ बगावत करने के बाद जुलाई 2020 में सचिन पायलट को उपमुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस कमेटी (पीसीसी) प्रमुख के पद से बर्खास्त कर दिया गया था। कैबिनेट विस्तार के साथ, सचिन पायलट के नेतृत्व वाले खेमे को राज्य पर कुछ पकड़ हासिल करने की उम्मीद है।

खबरें और भी हैं...