comScore

Rajasthan: पायलट समेत 19 विधायकों को नोटिस, अविनाश पांडे बोले- गलतियों की माफी मांग लें तो बात बन सकती है

Rajasthan: पायलट समेत 19 विधायकों को नोटिस, अविनाश पांडे बोले- गलतियों की माफी मांग लें तो बात बन सकती है

डिजिटल डेस्क, जयपुर। राजस्थान में चल रही सियासी उठापठक के बीच कांग्रेस महासचिव और राज्य प्रभारी अविनाश पांडे का बयान सामने आया है। अविनाश पांडे ने ने ट्वीट कर सचिन पायलट को दोबारा पार्टी को शामिल करने की मंशा जाहिर की है। उन्होंने कहा कि पायलट के लिए पार्टी के दरवाजे बंद नहीं हुए हैं, भगवान उनको सद्बुद्धि दे और उन्हें उनकी गलती समझ आए। मेरी प्रार्थना है भाजपा के मायावी जाल से वो बाहर निकल आए। उधर, विधानसभा अध्यक्ष ने कांग्रेस की ही शिकायत पर पायलट समेत 19 विधायकों को नोटिस भेजा है।

पायलट गलती स्वीकार कर लें तो बात बन सकती है
अविनाश पांडे से जब सवाल किया गया कि अगर पायलट ‘सरकार गिराने की साजिश’ के लिए अपनी गलती स्वीकार कर लें और माफी मांग लें तो बात बन सकती है? इस सवाल पर अविनाश पांडे ने कहा, 'निश्चित रूप से बन सकती है। लेकिन हर चीज की समयीमा होती है। भगवान सचिन पायलट को ज्ञान दें और वह सरकार को गिराने की कोशिश न करें। उन्हें अपनी गलती स्वीकार करनी चाहिए। वार्ता के लिए दरवाजे उनके लिए हमेशा खुले थे और आज भी खुले हैं। लेकिन, अब वह इस सब से आगे निकल गए हैं, इसलिए ये चीजें अब मायने नहीं रखती हैं। 

पायलट ने कहा- फिलहाल भाजपा में नहीं जा रहे
बता दें कि सचिन पायलट ने बुधवार सुबह मीडिया से बात करते हुए कहा कि वो अभी भी कांग्रेस में हैं और फिलहाल भाजपा में नहीं जा रहे हैं। सरकार गिराने की बात करना गलत है, मैं अपनी ही पार्टी के खिलाफ ऐसा क्यों करूंगा? सचिन पायलट से जब पूछा गया कि, वह मुख्यमंत्री गहलोत से आखिर नाराज क्यों हैं? इसके जवाब में उन्होंने कहा, वह गहलोत से नाराज नहीं है। उन्होंने गहलोत से कोई खास ताकत भी नहीं मांगी थी। वह सिर्फ ये चाहते थे कि जनता से किए गए वादों को पूरा किया जाए।

पायलट समेत 19 विधायकों को नोटिस
वहीं सचिन पायलट को डिप्टी सीएम और प्रदेशाध्यक्ष पद से हटाए जाने के बाद कांग्रेस ने उन्हें अयोग्य घोषित करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। विधानसभा अध्यक्ष ने बुधवार को कांग्रेस की ही शिकायत पर पायलट समेत 19 विधायकों को नोटिस भेजा है। उन्हें शुक्रवार तक अब अपना जवाब दाखिल करना है। कांग्रेस ने पायलट और बागी विधायकों से पूछा है कि पार्टी विरोधी गतिविधियों और कांग्रेस विधायक दल की दो बैठकों में शामिल नहीं होने पर उन्हें अयोग्य क्यों नहीं ठहराया जाना चाहिए।

कमेंट करें
nDVz7