दैनिक भास्कर हिंदी: #INDvsSA: दूसरे टेस्ट में धवन हो सकते हैं 'आउट', ये खिलाड़ी होगा शामिल

January 11th, 2018

डिजिटल डेस्क, सेंचुरियन। केपटाउन टेस्ट हारने के बाद टीम इंडिया का पूरा फोकस अब 13 जनवरी से होने वाले दूसरे टेस्ट पर है। सेंचुरियन में होने वाला दूसरा टेस्ट इसलिए भी खास है, क्योंकि अगर टीम इंडिया ये मैच हारी तो सीरीज भी उसके हाथ से चली जाएगी। जबकि टीम इंडिया सेंचुरियन टेस्ट जीत जाती है, तो सीरीज जीतने का मौका उसे मिल जाएगा। लिहाजा टीम इंडिया अब दूसरे टेस्ट में ऐसी प्लेइंग इलेवन के साथ उतरना चाहती है, जो साउथ अफ्रीकी बॉलर के सामने टिक सके। फिलहाल जो खबर आ रही है वो शिखर धवन के फैंस के लिए अच्छी नहीं है, क्योंकि बताया जा रहा है कि दूसरे टेस्ट में शिखर धवन को प्लेइंग इलेवन से बाहर रखा जा सकता है और उनकी जगह किसी दूसरे को मौका दिया जा सकता है।


तो धवन की जगह कौन? 

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो सेंचुरियन टेस्ट में शिखर धवन का पत्ता कटना तय है और उनकी जगह केएल राहुल को प्लेइंग इलेवन में शामिल किया जा सकता है। टेस्ट क्रिकेट में केएल राहुल की परफॉर्मेंस जोरदार रही है। मुरली विजय की वापसी के बाद केएल राहुल को टीम से बाहर कर दिया गया, लेकिन सही मायनों में केएल राहुल ज्यादा अच्छे से खेलते हैं और टेकनीक के साथ शॉट लगाते हैं। राहुल ने अभी तक 21 टेस्ट मैचों की 33 पारियों में 44.62 के एवरेज से 1428 रन बनाए हैं। इसमें 4 सेंचुरी और 10 हाफ सेंचुरी भी शामिल है। इसके साथ ही टेस्ट मैचों में राहुल धवन से कहीं ज्यादा बेहतर खेलते हैं। राहुल को ऑफ स्टंप पता है और वो बॉलें छोड़ने में माहिर हैं।

Image result for lokesh rahul

शिवर धवन क्यों हो सकते हैं 'आउट'

टीम इंडिया के ओपनर शिखर धवन की जगह केएल राहुल को मौका देने के पीछे दो वजहें सामने आ रही हैं। पहली वजह तो ये है कि केपटाउन टेस्ट में शिखर धवन बैटिंग करने में नाकाम रहे और सेट होने के बाद भी अपना विकेट गंवा दिया। धवन ने केपटाउन टेस्ट की दोनों पारियों में 16 रन बनाए और वो लापरवाही भरे शॉट खेलने के चक्कर में आउट हो गए। धवन के इस तरह पवैलियन लौटने पर सौरव गांगुली भी खासे नाराज दिखे और उन्होंने धवन को टेकनीकल शॉट खेलने की सलाह भी दे डाली थी। 

इसके अलावा धवन की लचर फील्डिंग भी उन्हें दूसरे टेस्ट से बाहर करने की वजह बनने वाली है। धवन ने पहले टेस्ट की पहली पारी में केशव महाराज का कैच छोड़ दिया था। जब महाराज का कैच छूटा था तो उन्होंने खाता भी नहीं खोला था और धवन के कैच छोड़ने के बाद उन्होंने 35 रन बना डाले जो कि टीम इंडिया को बहुत महंगा पड़ गया।