comScore

भारतीय महिला टीम ने 4x400m रिले रेस में लगातार पांचवीं बार जीता गोल्ड

August 31st, 2018 11:29 IST

हाईलाइट

  • भारतीय महिलाओं ने एथलेटिक्स की 4*400मी रिले रेस में गोल्ड जीता है।
  • हिमा दास, सरिताबेन गायकवाड़, विस्मया कोरोथ और पूवम्मा राजू की चौकड़ी ने जीता गोल्ड।
  • एशियन गेम्स इतिहास में भारतीय महिलाओं का 4*400मी रिले रेस में यह लगातार पांचवां गोल्ड मेडल है।

डिजिटल डेस्क, जकार्ता। इंडोनेशिया में चल रहे 18वें एशियन गेम्स में भारतीय महिला टीम ने एथलेटिक्स की 4x400मीटर रिले रेस में गोल्ड जीता है। हिमा दास, सरिताबेन गायकवाड़, विस्मया कोरोथ और पूवम्मा राजू की चौकड़ी ने 3 मिनट 28.72 सेकेंड में रेस को पूरी कर गोल्ड मेडल पर कब्जा जमाया। एशियन गेम्स के इतिहास में भारतीय महिलाओं का 4x400मी रिले रेस में यह लगातार पांचवां गोल्ड मेडल है।

हिमा दास ने शुरुआत में ही दिलाई भारत को लीड
हिमा दास ने भारत की ओर से इस रेस की शुरुआत की। शुरुआत में पीछे रही हिमा ने यह रेस टॉप पर रहते हुए 52.07 सेकेंड में पूरी की। इसके बाद अन्य भारतीय खिलाड़ियों ने इस बढ़त को अंत तक बरकरार रखी और एकतरफा जीत हासिल की। विस्मया कोरोथ लास्ट लेग में दूसरे स्थान पर रही बहरीन की खिलाड़ी से बहुत आगे निकल चुकी थी। बहरीन की टीम ने सिल्वर और वियतनाम ने ब्रॉन्ज जीता। बहरीन की टीम ने इस रेस को पूरा करने के लिए 3 मिनट 30.62 सेकेंड का समय लिया। वहीं वियतनाम की टीम ने 3 मिनट 33.23 सेकेंड का समय निकाला।

हिमा का तीसरा मेडल
भारत की युवा सनसनी हिमा दास का यह एशिया गेम्स 2018 में तीसरा मेडल है। इससे पहले वह दो सिल्वर जीत चुकी हैं। हिमा ने 400मी रेस और मिक्सड 4x400मी रिले रेस में सिल्वर जीता था। 4x400मी रिले रेस में एशिया की नं दो पूवम्मा राजू ने भी शानदार प्रदर्शन दिखाया। राजू इंचियॉन में हुए 2014 एशियन गेम्स में गोल्ड जीतने वाली टीम का भी हिस्सा रह चुकी हैं। इस टीम में राजू के अलावा टिंटू लुका, मंदीप कौर, प्रियंका पवार भी शामिल थी। उस वक्त भारत ने 3.28.68 मिनट के साथ 4x400मी रिले का वर्ल्ड रिकॉर्ड भी बनाया था। 

सरिता ने खो-खो से शुरू किया था करियर, महज 21 साल की हैं विस्मया कोरोथ
सरिता गायकवाड़ ने खो-खो से अपना करियर शुरू किया था। सरिता ने महज चार साल पहले से ही रेस इवेंट में भाग लेना शुरू किया। सरिता ने इंटर यूनिवर्सटी नेशनल लेवल एथलेटिक्स टूर्नामेंट में लगातार तीन साल मेडल जीता। इसके बाद इंडोनेशिया एशियन गेम्स के लिए हुए सेलेक्शन ट्रायल में दो गोल्ड जीते और अपने इस फैसले को सही साबित करते हुए एशियन गेम्स में भी गोल्ड जीत लिया। भारत की चौथी धाविका विस्मया वेल्लुवा कोरोथ ने भी गजब का जज्बा दिखाया। लास्ट में उन्होंने अपनी स्पीड से दूसरे खिलाड़ी को आसपास भी नहीं भटकने दिया। उन्होंने महज 21 साल की उम्र में गोल्ड मेडल जीतकर देश को गौरवान्वित किया है।

इसी के साथ यह 2018 एशियन गेम्स में एथलेटिक्स में भारत अब तक सात गोल्ड, दस सिल्वर और दो ब्रॉन्ज समेत कुल 19 मेडल्स जीत चुका है। वहीं सभी खेलों को मिलाकर भारत के नाम 13 गोल्ड, 21 सिल्वर और 25 ब्रॉन्ज हैं। भारत  59 मेडल्स के साथ आठवें स्थान पर है। 

कमेंट करें
F9EfY