comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

विराट के नाम एक और रिकॉर्ड, कोहली ने ठोंके टी-20 में सबसे तेज 2 हजार रन

July 04th, 2018 14:10 IST

हाईलाइट

  • विराट ने मैच में नाबाद 20 रनों की पारी खेली ।
  • पारी के दौरान 8वां रन बनाते ही विराट ने टी-20 क्रिकेट में अपने 2 हजार रन पूरे कर लिए ।
  • विराट दुनिया के चौथे क्रिकेटर हैं जिन्होंने टी-20 में 2000 रन बनाए हैं।

डिजिटल डेस्क, मैनचेस्टर । रन मशीन के नाम से मशहूर टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली जने मंगलवार को मैनचेस्टर में इंग्लैंड के खिलाफ खेले गए पहले टी-20 मुकाबले में एक खास उपलब्धि अपने नाम कर ली । विराट ने मैच में नाबाद 20 रनों की पारी खेली । पारी के दौरान 8वां रन बनाते ही विराट ने टी-20 क्रिकेट में अपने 2 हजार रन पूरे कर लिए । विराट दुनिया के चौथे क्रिकेटर हैं जिन्होंने टी-20 में 2000 रन बनाए हैं। 

Image result for virat

टी-20 में सबसे तेज 2 हजार रन 

विराट कोहली भले ही टी-20 क्रिकेट में 2000 रन बनाने वाले क्रिकेटरों की सूची में चौथे नंबर पर हैं लेकिन विराट ने ये उपलब्धि सबसे कम मैचों में हासिल की है। विराट ने महज 61 मैचों में ये उपलब्धि हासिल की है । 

Related image

विराट से पहले T-20 में सबसे तेज 2000 रन बनाने का रिकॉर्ड न्यूजीलैंड के पूर्व कप्तान ब्रैंडन मैक्कुलम के नाम था जिन्होंने 67 मैचों में ये मुकाम हासिल किया था । 

Image result for martin guptill


मैक्कुलम के अलावा न्यूजीलैंड के ही मार्टिन गप्टिल भी टी-20 क्रिकेट में 2000 रन बना चुके हैं । मार्टिन गप्टिल ने 70वें मैच में ये उपलब्धि हासिल की थी।

Image result for shoaib malik batting

पाकिस्तान के स्टार ऑलराउंडर शोएब मलिक भी टी-20 क्रिकेट में 2000 रन बनाने का कारनामा कर चुके हैं । शोएब मलिक ने 99वें टी-20 मैच में ये उपलब्धि हासिल की थी ।

Image result for mitali raj batting

 
वहीं, महिला क्रिकेट में मिताली राज भारत की ओर से अंतरराष्ट्रीय टी20 मुकाबले में 2000 रन बना चुकी हैं । 

Image result for guptill-virat


 
गप्टिल से 250 रन पीछे विराट

टी-20 क्रिकेट में सबसे ज्यादा रन बनाने का रिकॉर्ड मार्टिन गप्टिल के नाम दर्ज हैं अब तक गप्टिल 2 हजार 271 रन बना चुके हैं । वहीं अगर विराट कोहली की बात की जाए तो वो गप्टिल से महज 250 रन पीछे हैं। 

Related image

2000 रन से 19 रन दूर 'हिटमैन' रोहित 

विराट के बाद 2000 क्लब में शामिल होने वाले अगले भारतीय बल्लेबाज रोहित शर्मा होंगे । रोहित इस क्लब में शामिल होने से अब सिर्फ 19 रन दूर हैं ।  

कमेंट करें
NlIXe
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।