comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

फखर जमान ने ODI में जड़ा दोहरा शतक, पहले विकेट के लिए रिकॉर्ड 304 रन की पार्टनरशिप

July 21st, 2018 11:14 IST

हाईलाइट

  • पाकिस्तान-जिम्बाब्वे के बीच खेले गए वनडे सीरीज के चौथे मुकाबले में पाकिस्तान ने इतिहास रच दिया।
  • सलामी बल्लेबाज फखर जमान और इमाम उल हक ने वनडे क्रिकेट में पहले विकेट के लिए 304 रनों की रिकॉर्ड साझेदारी की।
  • फखर जमान ने 210 रन बनाकर अपने ही देश के सईद अनवर (194 रन) का रिकॉर्ड तोड़ दिया।

डिजिटल डेस्क, हरारे। पाकिस्तान-जिम्बाब्वे के बीच खेले गए वनडे सीरीज के चौथे मुकाबले में पाकिस्तान ने इतिहास रच दिया। सलामी बल्लेबाज फखर जमान और इमाम उल हक ने वनडे क्रिकेट में पहले विकेट के लिए 304 रनों की साझेदारी की। वर्ल्ड की किसी भी टीम के लिए यह पहले विकेट की रिकॉर्ड पार्टनरशिप है। इससे पहले यह रिकॉर्ड श्रीलंका के उपुल थरंगा और जयसूर्या के नाम था। वहीं अपनी ताबातोड़ बल्लेबाजी के लिए मशहूर फखर ज़मान ने पाकिस्तान के लिए सर्वाधिक व्यक्तिगत स्कोर बना डाला। फखर ने 210 रन बनाकर अपने ही देश के सईद अनवर (194 रन) का रिकॉर्ड तोड़ दिया। इसी के साथ फखर वनडे में विवियन रिचर्ड्स के 38 साल पुराने सबसे तेज 1,000 रन बनाने के करीब पहुंच गए हैं। फखर के फिलहाल 17 मैचों में 980 रन हैं। इसके अलावा भी कई और रिकॉर्ड इस मैच में बने।

वनडे में किसी भी विकेट के लिए सर्वोच्च पार्टनरशिप
372 गेल और सैमुअल्स
331 सचिन और द्रविड़
318 गांगुली और द्रविड़
304 ज़मान और इमाम उल हक

पाकिस्तान के लिए सर्वोच्च व्यक्तिगत स्कोर
210 * फखर ज़मान
194 सईद अनवर
160 इमरान नज़ीर
152 शारजिल खान

पाकिस्तान के लिए सर्वोच्च वनडे स्कोर
399/1 vs बुलवायो 2018 *
385/7 vs दांबुला 2010
375/3 vs लाहौर 2015
371/9 vs नैरोबी 1996

वनडे क्रिकेट में सबसे ज्यादा व्यक्तिगत स्कोर
रोहित शर्मा - 264 बनाम श्रीलंका, कोलकाता, 2014
मार्टिन गपटिल - 237 * बनाम वेस्टइंडीज, वेलिंगटन, 2015
वीरेंद्र सहवाग - 219 बनाम वेस्टइंडीज, इंदौर, 2011
क्रिस गेल - 215 बनाम जिम्बाब्वे, कैनबरा, 2015
फखर ज़मान - 210 * बनाम जिम्बाब्वे, बुलवेयो, 2018 *
रोहित शर्मा - 209 बनाम ऑस्ट्रेलिया, बेंगलुरु, 2013
रोहित शर्मा - 208 * बनाम श्रीलंका, मोहाली, 2017
सचिन तेंदुलकर - 200 * बनाम दक्षिण अफ्रीका, ग्वालियर, 2010

ज़िम्बाब्वे में सर्वोच्च ओडीआई स्कोर
पाकिस्तान - 399/1 बनाम जिम्बाब्वे, बुलवेयो, आज
न्यूजीलैंड - 397/5 बनाम जिम्बाब्वे, बुलवेयो, अगस्त 2005
दक्षिण अफ्रीका - 363/3 बनाम जिम्बाब्वे, बुलवेयो, सितंबर 2001  

कमेंट करें
iDRaX
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।