comScore

PLI: भारत में iPhone बनाने के लिए इन देसी-विदेशी कंपनियों ने किया आवेदन, 5 साल में बनाएंगी 11 लाख करोड़ रुपए के मोबाइल फोन

PLI: भारत में iPhone बनाने के लिए इन देसी-विदेशी कंपनियों ने किया आवेदन, 5 साल में बनाएंगी 11 लाख करोड़ रुपए के मोबाइल फोन

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। अमेरिकन कंपनी एप्पल (Apple) के स्मार्टफोन आईफोन (iPhone) की भारत में मैन्युफैक्चरिंग को लेकर कई कंपनियों ने आवेदन किया है। पीएलआई लाभ लेने के लिए जिन कंपनियों ने आवेदन किया है उसमें सैमसंग (Samsung), फॉक्सकॉन (Foxconn) होन हाई (Honn High), राइजिंग स्टार (Rising Star), विस्ट्रॉन (Wistron) और पेगाट्रॉन (Pegatron) शामिल हैं। बता दें कि फॉक्सकॉन होन हाई, राइजिंग स्टार, विस्ट्रॉन और पेगाट्रॉन iPhone की कॉन्ट्रैक्ट मैन्युफैक्चरर्स हैं। बात करें पेगाट्रॉन की तो यह ताइवानी कंपनी भारत की नई निवेशक है। वहीं एपल और सैमसंग की ग्लोबल मोबाइल फोन सेल्स रेवेन्यू में करीब 60 फीसदी हिस्सेदारी है।

भारत में शुरू हुई iPhone 11 की मैन्युफैक्चरिंग, ग्राहकों को मिलेगा ये लाभ

इन कंपनियों ने भी किया आवेदन
इस योजना के तहत आवेदन करने वाली भारतीय कंपनियों में लावा, डिक्सन टेक्नोलॉजीज, माइक्रोमैक्ट तथा पैजट इलेक्ट्रॉनिक्स शामिल हैं। योजना के तहत लावा का अगले पांच साल में 800 करोड़ रुपए का निवेश करने की योजना है।

मिलेगा रोजगार
मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, स्कीम के तहत प्रोडक्शन लिंक इंसेंटिव (पीएलआई) का लाभ लेने के लिए कंपनियों ने मिनिस्ट्री ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स एंड आईटी के पास प्रस्ताव जमा किया है। प्रस्ताव के मुताबिक, इससे 12 लाख रोजगार के अवसर पैदा होंगे। इसमें 3 लाख प्रत्यक्ष और 9 लाख अप्रत्यक्ष रोजगार शामिल होंगे।

मोबाइल और डिवाइस का निर्माण
एपल के कॉन्ट्रैक्ट मैन्युफैक्चरर्स समेत Samsung (सैमसंग), Lava (लावा) and Dixon (डिक्सन) जैसी कंपनियां अगले पांच साल में देश में 11 लाख करोड़ रुपए की मोबाइल डिवाइस और इसके उपकरण बनाएंगी। इन मोबाइल और डिवाइस का निर्माण सरकार की इलेक्ट्रॉनिक्स मैन्युफैक्चरिंग को बढ़ावा देने वाली नई स्कीम के तहत किया जाएगा।

Samsung ने भारत में लॉन्च की UHD Business TV सीरीज, जानें कीमत और फीचर्स

मोबाइल हैंडसेटों का प्रोडक्शन
मीडिया रिपोर्ट के अनुसार,‘‘इन प्रस्तावों के तहत अगले पांच साल में 15,000 रुपए से अधिक कीमत के करीब नौ लाख करोड़ रुपए के मोबाइल हैंडसेटों का प्रोडक्शन किया जाएगा। वहीं 15,000 रुपए से कम कीमत के दो लाख करोड़ रुपए के मोबाइल हैंडसेटों का प्रोडक्शन होगा। इस प्रस्तावित उत्पादन कैपेसिटी में करीब 7 लाख करोड़ रुपए के मोबाइल फोन का निर्यात होने का अनुमान है।

कमेंट करें
sIlB8