5जी : भारत 5जी स्पेक्ट्रम नीलामी के लिए तैयार, रिलायंस जियो, भारती एयरटेल दौड़ में सबसे आगे

July 25th, 2022

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। निजी 5जी नेटवर्क को लेकर चल रही खींचतान के बीच मंगलवार से शुरू हो रही मेगा 5जी स्पेक्ट्रम नीलामी (1.9 लाख करोड़ रुपये) के साथ, रिलायंस जियो और भारती एयरटेल अपनी बाजार हिस्सेदारी बढ़ाने के लिए तैयार हैं, क्योंकि भारत 5जी युग के लिए तैयारी कर रहा है।

दौड़ में शामिल चार बड़े खिलाड़ी- रिलायंस जियो, भारती एयरटेल, वोडाफोन आइडिया और अडानी समूह ने बयाना जमा (ईएमडी) में संयुक्त रूप से 21,400 करोड़ रुपये जमा किए हैं, मेगा बोली के लिए अपने युद्ध चेस्ट और रणनीतियों के साथ तैयार हैं, यदि पिछली दो नीलामियों को ध्यान में रखा जाए तो यह लगभग 1.5 लाख करोड़ रुपये होने की संभावना है।

रिलायंस जियो इंफोकॉम ने 14,000 रुपये का ईएमडी जमा किया है, जबकि भारती एयरटेल ने 5,500 करोड़ रुपये का निवेश किया है।

4जी स्पेक्ट्रम के लिए 2021 की नीलामी में रिलायंस जियो ने अपनी जमा राशि का 77.9 फीसदी इस्तेमाल किया जबकि एयरटेल ने 87.7 फीसदी का इस्तेमाल किया।

5जी युग 4जी से 10 गुना तेज और 3जी की तुलना में 30 गुना तेज होगा, जिससे लाखों लोगों को ऐसा अनुभव मिलेगा जो पहले कभी नहीं देखा गया।

5जी नीलामी (72 गीगाहट्र्ज स्पेक्ट्रम) जुलाई के अंत तक समाप्त हो जाएगी और इस साल सितंबर तक रोलआउट होने की उम्मीद है।

दूरसंचार विभाग ने 600, 700, 800, 900, 1800, 2100, 2300, 2500, 3300 मेगाहट्र्ज और 26 गीगाहट्र्ज बैंड में स्पेक्ट्रम की नीलामी के लिए आवेदन (एनआईए) आमंत्रित करने के लिए एक नोटिस जारी किया है।

एनआईए कैप्टिव नॉन-पब्लिक नेटवर्क्‍स (सीएनपीएन) के विषय पर स्पष्ट स्पष्टता प्रदान करती है।

दूरसंचार कंपनियों को उस स्पेक्ट्रम को सरेंडर करने की अनुमति है, जिसकी नीलामी अधिग्रहण की तारीख से कम से कम 10 साल की अवधि के बाद की जाएगी।

पिछले महीने दूरसंचार कंपनियों को बड़ी राहत देते हुए दूरसंचार विभाग ने स्पेक्ट्रम उपयोग शुल्क (एसयूसी) पर 3 प्रतिशत की न्यूनतम दर को समाप्त कर दिया।

उद्योग जगत के नेताओं और विशेषज्ञों के अनुसार, भारत में 5जी तकनीकी कंपनियों, उद्यमों और पारिस्थितिकी तंत्र के खिलाड़ियों को निजी नेटवर्क बनाने और अगली पीढ़ी के डिजिटल परिवर्तन लाने के लिए सशक्त बनाएगा जो देश के लिए 1 ट्रिलियन डॉलर डिजिटल अर्थव्यवस्था बनने के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए महत्वपूर्ण है।

ब्रॉडबैंड इंडिया फोरम (बीआईएफ) के अनुसार, इससे उद्यमों के लिए बेहतर दक्षता, उत्पादकता और उत्पादन में वृद्धि होगी, डिजिटलीकरण में तेजी आएगी, क्षमताओं को बढ़ावा मिलेगा, स्वदेशी विनिर्माण को बढ़ावा मिलेगा और अंतत: देश के लिए अधिक आर्थिक लाभ प्राप्त होगा।

बीआईएफ के अध्यक्ष टीवी रामचंद्रन ने कहा, जैसा कि हम विनिर्माण, आपूर्ति श्रृंखला और आरएंडडी के साथ-साथ दुनिया भर में अग्रणी डिजिटल अर्थव्यवस्थाओं में से एक के रूप में भारत की स्थिति को मजबूत करने के लिए देखते हैं, समर्पित कैप्टिव निजी 5जी नेटवर्क के माध्यम से उद्यमों की उन्नति सभी महत्वपूर्ण क्षेत्रों में दक्षता हासिल करने में मदद करेगी।

निजी 5जी नेटवर्क एक बंद विनिर्माण इकाई, अस्पताल, हवाईअड्डे, शिपिंग पोर्ट, आदि के अंदर उच्च गति, बढ़ी हुई डेटा क्षमता और अल्ट्रा-लो लेटेंसी अनुप्रयोगों की तैनाती के बारे में हैं।

दूरसंचार कंपनियों का प्रतिनिधित्व करने वाली उद्योग की शीर्ष संस्था, सेल्युलर ऑपरेटर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (सीओएआई) ने सरकार से अनुरोध किया है कि बिग टेक कंपनियों को पीछे के दरवाजे के माध्यम से 5जी स्पेक्ट्रम नीलामी में प्रवेश करने की अनुमति न दी जाए।

सीओएआई ने कहा कि 5जी स्पेक्ट्रम प्रशासनिक आधार पर मुहैया नहीं कराया जाना चाहिए क्योंकि इससे देश में 5जी नेटवर्क के रोलआउट के लिए कोई व्यावसायिक मामला नहीं बनता है।

5जी नीलामी के साथ, भारत 5जी के नेतृत्व वाले भविष्य को जारी करने के करीब एक कदम आगे है, जिसमें 5जी-सक्षम उपकरणों का एक मजबूत आधार पहले से मौजूद है।

(आईएएनएस)

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ bhaskarhindi.com की टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.