ओपिनियन: ऑनलाइन गेमिंग पर एक प्रगतिशील कानून बनाने का समय

August 25th, 2021

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। तमिलनाडु सरकार ने नवंबर 2020 में, विधानसभा चुनावों की पृष्ठभूमि में, ऑनलाइन गेम पर प्रतिबंध लगाने वाला एक अध्यादेश पारित करने का फैसला किया था। इस फैसले के बाद इससे संबंधित अध्यादेश ने सभी ऑनलाइन खेलों पर प्रतिबंध लगा दिया, यहां तक कि यह भी स्पष्ट किया गया कि केवल कौशल के खेल, दांव लगाना, शर्त लगाना, पैसे या अन्य दांव के लिए खेले जाने वाले खेल को राज्य में अनुमति नहीं दी जा सकती है।

दुनिया भर में तीन अरब लोग ऑनलाइन गेम खेलते हैं - यह दुनिया की आबादी का लगभग 40 प्रतिशत है। वे सभी प्रकार के खेल खेलते हैं - रेसिंग, खेल, एक्शन, पहेली, प्रश्नोत्तरी, शतरंज से लेकर कार्ड गेम तक। दुनिया में मौजूद लाखों खेलों को एक श्रेणी में रखना संभव नहीं है।

ऑनलाइन गेम खेलने वाले तीन अरब लोगों में से, ऐसे लोगों का एक अच्छा प्रतिशत है, जो ऑनलाइन कौशल टूनार्मेंट में भाग लेने के लिए प्रवेश शुल्क का भुगतान करते हैं या पुरस्कार अर्जित करने के लिए टूनार्मेंट में प्रवेश करते हैं और ये वे लोग थे, जिन्हें तमिलनाडु के कानून से वंचित किया जा रहा था।

मद्रास हाईकोर्ट ने अपने हालिया फैसले में सही माना कि तमिलनाडु अध्यादेश अत्यधिक था। इसने कानून को संविधान के अनुच्छेद 19(1)(जी) के उल्लंघन के रूप में भी माना, जो सभी नागरिकों को किसी भी पेशे से जुड़ने या किसी भी व्यापार या व्यवसाय को करने के अधिकार की गारंटी देता है।

मद्रास उच्च न्यायालय के अलावा इस संबंध में सर्वोच्च न्यायालय और कई उच्च न्यायालयों ने कई निर्णयों में पुष्टि की है कि कौशल का खेल (गेम्स ऑफ स्किल), चाहे ऑनलाइन हो या ऑफलाइन, पूरी तरह से वैध गतिविधि है। आइए तमिलनाडु सरकार और ऑनलाइन गेमिंग के आलोचकों द्वारा रखे गए तर्कों की जांच करें। कुछ लोगों का कहना है कि ऑनलाइन गेम में खिलाड़ी बाय-इन और ऐड-ऑन्स के लिए बहुत पैसा खर्च करते हैं। निश्चित रूप से, खरीदार अमेजन और फ्लिपकार्ट पर अधिक खर्च करते हैं, लेकिन यह उन पर प्रतिबंध लगाने का कारण नहीं होना चाहिए।

कई जिम्मेदार गेमिंग ऐप्स में सर्वोत्तम प्रथाएं होती हैं, जो इन खेलों को खेलने के लिए उपयोग की जाने वाली धनराशि को सीमित करती हैं। साथ ही, खिलाड़ियों को बहुत अधिक पैसा खर्च करने पर चेतावनी देने के लिए नियमित सूचनाएं भी हैं। सभी गेमिंग ऐप्स इस नियम का पालन करें, यह सुनिश्चित करने के लिए विनियमन पेश किया जा सकता है। 

दूसरा तर्क जो सामने रखा गया है वह यह है कि गेमर्स गेमिंग प्लेटफॉर्म पर बहुत अधिक समय बिताते हैं। यह सिर्फ स्किल गेमिंग ऐप्स के लिए ही नहीं, बल्कि फ्री फायर या बैटलग्राउंड मोबाइल इंडिया जैसे किसी भी ऑनलाइन गेम या यूट्यूब या नेटफ्लिक्स जैसे स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म के लिए भी सही हो सकता है।

हालांकि, यह एक ऐसा मुद्दा है, जिसे संबोधित करने की आवश्यकता है और वैध गेमिंग ऐप्स में चेतावनी सूचनाएं होती हैं यदि कोई व्यक्ति गेम खेलने में बहुत अधिक समय बिता रहा है और यह सभी गेमिंग प्लेटफॉर्म पर एक मानक विशेषता होनी चाहिए। तीसरा तर्क यह है कि निर्दोष लोगों को ठगा जा रहा है।

हालांकि यह एक सामान्य बयान की तरह लगता है, यह मुद्दा वास्तव में निष्पक्ष खेल का है। सभी प्रतिष्ठित प्लेटफॉर्म आमतौर पर वैश्विक फर्मों से या²च्छिक संख्या जनरेटर और नो-बॉट्स प्रमाणपत्र प्राप्त करते हैं, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि कोई यूजर (उपयोगकर्ता) कंप्यूटर के खिलाफ नहीं खेल रहा है और निष्पक्षता और पारदर्शिता रखी गई है।

प्रत्येक ऑपरेटर के लिए विशिष्टताएं भिन्न हो सकती हैं, लेकिन सभी भारतीय ऑपरेटरों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि प्लेटफॉर्म सुरक्षित और निष्पक्ष हैं और वे इस दिशा में लगातार नवाचार (इनोवेशन) कर रहे हैं। कुछ आलोचकों का कहना है कि ये खेल सभी उम्र के बच्चों द्वारा खेले जाते हैं। जहां तक स्किल गेमिंग प्लेटफॉर्म का संबंध है, यह एक दुर्भावनापूर्ण और भ्रामक तर्क है। ऐसे कई खेल हैं जो बच्चों के लिए हैं - ऐसे खेल जो उनकी भाषा, समझ, गणित आदि की सहायता के लिए हैं।

ये स्किल गेमिंग ऐप्स से अलग हैं। भारत में सभी वैध गेमिंग ऐप्स में अनिवार्य रूप से स्पष्ट किया गया होता है कि केवल वयस्क ही गेम खेल सकते हैं और यह केवाईसी जांच के माध्यम से किया जा रहा है। गेम्स ऑफ चांस और गेम्स ऑफ स्किल्स के खेल के बीच अंतर करना महत्वपूर्ण है। गेम्स ऑफ चांस क्या हैं? ये ऐसे खेल हैं जहां जीतने के लिए भाग्य सबसे महत्वपूर्ण कारक है।

ये प्योर लक यानी भाग्य पर आधारित गेम हैं, जैसे इंस्टेंट विन स्क्रैच कार्ड, ऑनलाइन बिंगो, ऑनलाइन लॉटरी, कैसीनो गेमिंग, तीन पत्ती आदि। दूसरी ओर गेम्स ऑफ स्किल्स यानी कौशल के खेल में रणनीति, मानसिक या शारीरिक कौशल जैसे महत्वपूर्ण खेल कौशल शामिल हैं।

जबकि मद्रास उच्च न्यायालय के फैसले ने कौशल के ऑनलाइन गेम की वैधता के बारे में सीधे तौर पर स्पष्ट किया है, यह विभिन्न राज्य सरकारों के लिए ऑनलाइन गेमिंग से संबंधित प्रगतिशील कानून बनाने का अवसर है। न केवल तमिलनाडु सरकार, बल्कि आंध्र और तेलंगाना सरकारें, जिन्होंने व्यापक प्रतिबंध अध्यादेशों को अपनाया है, को एक नया कानून बनाने से पहले सभी पहलुओं की जांच करनी चाहिए, जो सभी हितधारकों - गेमर्स, उद्योग, गेमिंग तकनीक क्षेत्र और निर्यात क्षेत्र के हितों पर विचार करता हो।

इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि कानून निर्माताओं को गैर-सूचित कार्यकर्ताओं द्वारा गुमराह नहीं किया जाना चाहिए और विशेषज्ञों और उद्योग निकायों के साथ विस्तृत चर्चा करनी चाहिए। जो महत्वपूर्ण है वह यह है कि कानून को सभी बेईमान दिग्गजों को बाहर करना चाहिए और केवल उन्हीं कौशल गेमिंग प्लेटफॉर्म को बढ़ावा देना और प्रोत्साहित करना चाहिए, जो नैतिकता और निष्पक्ष खेल के उच्चतम मानकों का पालन करते हैं।

फ्रांस और संयुक्त राज्य अमेरिका जैसे देश दुनिया भर के गेम डेवलपर्स को अपने देशों में संचालन स्थापित करने के लिए आमंत्रित कर रहे हैं। वे अपने देशों को दुनिया के गेमिंग हब के रूप में विकसित करना चाहते हैं। भारत और तमिलनाडु जैसे राज्य एक सबक ले सकते हैं और गेमिंग को पहचानने की दिशा में काम कर सकते हैं, जो अब सबसे बड़ा सामाजिक मंच है, सबसे बड़ा शगल है और दुनिया में सबसे बड़े खेल विषयों में से एक है।

(लेखक नई दिल्ली स्थित एक सार्वजनिक नीति थिंक-टैंक पॉलिसी मैट्रिक्स के संस्थापक हैं। व्यक्त किए गए विचार व्यक्तिगत हैं)

आईएएनएस