comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

Tata Tigor EV भारत में हुई लॉन्च, सिंगल चार्ज पर चलेगी 213 किलोमीटर

Tata Tigor EV भारत में हुई लॉन्च, सिंगल चार्ज पर चलेगी 213 किलोमीटर

हाईलाइट

  • Tigor EV तीन वेरिएंट में लॉन्च की गई है
  • इस कार को पहले से बेहतर किया गया है
  • सब्सिडी के बाद कार की कीमत 9.44 लाख है

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। देश की सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी Tata Motors ने अपनी नई इलेक्ट्रिक कॉम्पैक्ट सेडान कार Tigor EV को लॉन्च कर दिया है। कंपनी ने इसमें कई बदलाव किए हैं, नई Tigor तीन वेरिएंट- XE+, XM+ और XT+ में उपलब्ध है। अब यह पहले से अधिक दूरी तय करेगी। यह कार अब फुल चार्ज में 213 किलोमीटर की माइलेज देगी। कितनी खास है ये कार और क्या है इसकी कीमत, आइए जानते हैं...

नई Tigor EV की कीमत 9.44 लाख, एक्स-शोरूम दिल्ली (सरकार की सब्सिडी में कटौती के बाद) है, यह कीमत देश के 30 शहरों लागू होगी। टाटा मोटर्स नई Tigor EV पर 3 साल की वारंटी या 1.25 लाख किलोमीटर की वारंटी दे रही है। 

सभी वेरिएंट की कीमत
Tigor EV के XE+ वेरिएंट की कीमत 13.09 लाख रुपए, एक्स शोरूम दिल्ली है। वहीं XM+ वेरिएंट की कीमत 13.26 लाख रुपए और XT+ वेरिएंट की कीमत 13.41 लाख रुपए है। जबकि दिल्ली के बाहर पर्सनल यूज के लिए इस कार के XE+ वेरिएंट की कीमत 12.59 लाख रुपए है। XM+ वेरिएंट की कीमत 12.76 लाख रुपए और XT+ वेरिएंट की कीमत 12.90 लाख रुपए रखी गई है।

फीचर्स
नई Tigor EV को ARAI ने सर्टिफाइड किया है। बात करें फीचर्स की तो इस इलेक्ट्रिक कार के टॉप मॉडल XT + में ब्लूटूथ, USB और AUX कनेक्टिविटी के साथ हरमन 2-DIN ऑडियो सिस्टम दिया गया है। इस कार में 14 इंच के व्हील, हाईट एडजेस्टेबल ड्राइवर की सीट, एक शार्क-फिन एंटीना और एलईडी टेल लैंप दिए गए हैं। सुरक्षा का ध्यान रखते हुए इस कार के XE+ वेरिएंट को छोड़कर सभी में ड्यूल एयरबैग दिए हैं। इसके अलावा इसमें एबीएस दिया गया है।

पावर
इस कार में 72V,तीन फेज वाली एसी इंडक्शन मोटर दी गई है, जो 40 BPH और 105 NM का टॉर्क देगी। इसमें सिंगल स्पीड ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन दिया गया है। कंपनी का दावा है कि यह कार 12 सेकेंड में 0 से 60 किमी प्रति घंटा की रफ्तार पकड़ सकती है, वहीं इसकी टॉप स्पीड 80 किमी प्रति घंटा है। 

वहीं DC15 kW फास्ट चार्जर से यह 90 मिनट में 80 फीसदी तक चार्ज हो जाती है। वहीं स्टैंडर्ड एसी वॉल सॉकेट से कार छह घंटे में 80 फीसदी तक चार्ज होती है।

कमेंट करें
Jp94k
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।