दैनिक भास्कर हिंदी:  जिला अस्पताल के अस्थिरोग विशेषज्ञ समेत -सामने आए कोरोना संक्रमण के 16 मामले

November 20th, 2020

डिजिटल डेस्क सतना। कोरोना वायरस के संक्रमण ने एक बार फिर जिला अस्पताल में अटैक कर दिया है। आर्थोपैडिक्स के कोरोना संक्रमित आने के बाद अस्पताल में हड़कंप मच गया। उल्लेखनीय है कि इससे पहले 17 नवंबर को जिला अस्पताल की फीवर क्लीनिक में रैपिड एंटीजन टेस्ट के दौरान अस्थिरोग विशेषज्ञ की पत्नी, एक बेटा और बेटी पॉजिटिव आए थे। इसके बाद डॉक्टर ने आरटीपीसीआर सेंपल कराया था। मेडिकल कॉलेज रीवा के आईसीएमआर लैब से गुरुवार को आई रिपोट में डॉक्टर कोरोना संक्रमित पाए गए। ज्ञात हो कि इससे पहले जिला अस्पताल में डॉक्टर-पैरामेडिकल स्टाफ को मिलाकर तकरीबन 50 लोग कोरोना संक्रमित हो चुके हैं। 19 नवंबर को जिले भर में कोरोना वायरस संक्रमण के 16 नए मामले सामने आए। 
प्राईवेट वार्ड में आइसोलेट
अस्थिरोग विशेषज्ञ में कोविड-19 की पुष्टि के बाद उन्हें जिला अस्पताल परिसर में हाल ही में बनकर तैयार हुए प्राईवेट वार्ड में आइसोलेट किया गया है। गौरतलब है कि पत्नी और दो बच्चों के कोरोना संक्रमित होने के बाद सिविल सर्जन ने डॉक्टर के घर जाने पर पावंदी लगा दी थी। डॉक्टर के पॉजिटिव आने के बाद स्वास्थ्य विभाग इनके संपर्क में आए डॉक्टर-पैरामेडिकल स्टाफ की कांन्टेक्ट ट्रेसिंग में जुट गया है। 
 शहरी क्षेत्र में 10 केस
गुरुवार को सर्वाधिक 10 कोरोना संक्रमित एक बार फिर सतना शहरी क्षेत्र में ही मिले। जिला अस्पताल और टिकुरिया टोला पीएचसी में रैपिड टेस्ट के दौरान तीन-तीन मरीज मिले। इसके अलावा मेडिकल कॉलेज रीवा के आईसीएमआर लैब में भी शहर के 4 लोग कोरोना संक्रमित पाए गए। रैपिड टेस्ट में मैहर में 2, सोहावल और रामनगर में एक-एक मरीज मिले। अमरपाटन और रामपुर बघेलान में एक-एक व्यक्ति आईसीएमआर की रिपोर्ट में पॉजिटिव पाए गए। 
   एक दिन में स्वस्थ हुए 23 लोग
कोरोना वायरस संक्रमण की रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद एक दिन में 23 लोगों को डिस्चार्ज किया गया। इसके साथ कोरोना को मात देकर घर पहुंचने वालों की संख्या बढ़कर 2 हजार 444 पहुंच गई। कोरोना वायरस संक्रमण की वजह से अब तक 78 लोगों की मौत हो चुकी है। जिले में संक्रमण के अभी 114 मामले एक्टिव हैं। 
 

खबरें और भी हैं...