दैनिक भास्कर हिंदी: 57 नए संक्रमित, इतने ही स्वस्थ हुए, मौतों का सिलसिला जारी... 36 कोरोना संदिग्धों की चिताएं जली

April 28th, 2021

परतला मोक्षधाम में 20, देवर्धा में 11, पांढुर्ना में 3 और कब्रिस्तान में 2 का कोरोना प्रोटोकॉल अंतिम संस्कार किया
डिजिटल डेस्क छिंदवाड़ा।
जिले में मंगलवार को जितने कोरोना मरीज स्वस्थ हुए उतने ही नए संक्रमित मिले हैं। जबकि मौतों का सिलसिला अब भी जारी है। मंगलवार को 36 कोरोना संदिग्धों की मौत हुई। जिसमें परतला मोक्षधाम में 20, देवर्धा में 11, पांढुर्ना में 3 और कब्रिस्तान में 2 का कोरोना प्रोटोकॉल अंतिम संस्कार किया गया। सरकारी रिकार्ड में मंगलवार को कोरोना से दो मौतों की पुष्टि की गई है। कोविड बुलेटिन के अनुसार मंगलवार को 57 मरीज कोरोना को मात देकर घर लौटे हैं। जिला अस्पताल में भर्ती इन मरीजों की सेकंड रिपोर्ट निगेटिव आने पर उन्हें घर भेजा गया है। वहीं आरटीपीसीआर लैब से जारी रिपोर्ट के अनुसार 57 नए संक्रमित मिले हैं।
सिर्फ 2 एक्टिव केस घटे, आंकड़ा 372
सोमवार को जिले में एक्टिव केस 374 थे। मंगलवार को नए संक्रमित और स्वस्थ हुए संक्रमितों का आंकड़ा बराबरी पर यानी 57-57 रहा। जबकि सरकारी रिकार्ड में दो की मौत हुई। ऐसे में सिर्फ दो एक्टिव केस घटे हैं। वर्तमान में जिले में एक्टिव केस की संख्या 372 है। जिनका जिला अस्पताल के कोविड सेंटर और होम आइसोलेट कर इलाज किया जा रहा है। हालांकि एक सप्ताह पहले के आंकड़ों पर गौर करें तो एक्टिव केस लगभग आधे रह गए हैं।
 इनका प्रोटोकाल के तहत हुआ अंतिम संस्कार
शहर के पातालेश्वर निवासी 65 वर्षीय वृद्ध, गुलाबरा के 42 वर्षीय व्यक्ति, कोलाढाना की 64 वर्षीय वृद्धा, भादे कॉलोनी के 65 वर्षीय व्यक्ति, बजरंग नगर के 45 वर्षीय व्यक्ति, सोनपुर मल्टी के 67 वर्षीय वृद्ध, चंदनगांव के 51 वर्षीय व्यक्ति, बड़वन के 58 वर्षीय व्यक्ति, चंदनगांव की 50 वर्षीय  महिला, मेनरोड छोटी बाजार के 79 वर्षीय वृद्ध, गणेश चौक के 80 साल के बुजुर्ग, सिवनीप्राणमोती के 64 वर्षीय व्यक्ति, बजरंग नगर की 55 साल की महिला का कोरोना प्रोटोकाल के तहत अंतिम संस्कार किया गया। भमोड़ी के 62 वर्षीय व्यक्ति, गुढ़ी अंबाड़ा के 64 वर्षीय वृद्ध, थांवड़ी के 55 वर्षीय व्यक्ति, अमरवाड़ा के 65 वर्षीय व्यक्ति, चौरई के 45 वर्षीय व्यक्ति, पिपरिया के 57 वर्षीय व्यक्ति, गाडरवाड़ा नरसिंहपुर के 40 वर्षीय व्यक्ति का परतला मोक्षधाम में प्रोटोकाल के तहत अंतिम संस्कार हुआ।