दैनिक भास्कर हिंदी: स्कूल का फरमान : छात्राएं पहनेंगी केवल व्हाइट और स्किन रंग के अंडर गारमेंट्स

July 5th, 2018

डिजिटल डेस्क, पुणे। लड़कियों के अंतर्वस्त्र पर पुणे की एक स्कूल में अजीब फरमान जारी किया है। इस स्कूल ने छात्राओं को व्हाइट और स्किन रंग के अंतर्वस्त्र पहनने की अनिवार्यता की है। यही नहीं स्कूल ने छात्राओं के लिए 20 से 22 जटिल नियम भी अनिवार्य किए हैं। जिसके उल्लंघन पर सीधे फौजदारी की कार्रवाई की चेतावनी दी गई है। यह स्कूल है पुणे का जाना माना माईर्स एमआईटी का विश्व शांति गुरुकुल के तहत आने वाले श्री सरस्वती न्यू इंग्लिश स्कूल, श्री स्वामी विवेकानंद प्राथमिक शाला और एमआईटी पूर्व प्राथमिक शाला के प्रबंधन ने कैलेंडर (डायरी) के जरिए ये नियमावली जारी की है। प्रबंधन ने अपनी 20 से 22 जटिल शर्तों की पूर्तता करने को लेकर शपथ पत्र लिखकर लाने की अनिवार्यता की है। इससे आक्रोशित अभिभावकों ने प्राथमिक शिक्षा विभाग के सह निदेशक दिनकर टेमकर से मुलाकात कर स्कूल प्रबंधन के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।

ऐसी हैं नियमावली
गुरुकुल के स्कूलों में पढ़ने वाली छात्राओं को व्हाइट और स्कीन रंग के अंतर्वस्त्र पहनने होंगे। उनकी स्कर्ट की लंबाई घुटनों तक ही होनी चाहिए। वह प्रबंधन द्वारा अधिकृत घोषित टेलर से ही सिले होने चाहिए। छात्राएं किसी भी तरह का मेकअप नहीं करेंगी, छात्र- छात्रा कोई टैटू नहीं बनवाएंगे, बाल एकदम छोटे रहेंगे। अभिभावकों के लिए भी कुछ नियमावली बनाई गई है। इसमें वे आपस में बात नहीं करेंगे, स्कूल के खिलाफ कोई आंदोलन नहीं करेंगे, प्रबंधन और मीडिया से संवाद नहीं करेंगे।

लड़कियों की सुरक्षा के लिए ऐसे नियम
वहीं दूसरी तरफ एमआईटी की कार्यकारी निदेशक सुचित्रा कराड़ नागरे ने कहा कि अंतर्वस्त्र विशिष्ट रंगों की सख्ती छात्राओं की सुरक्षा हेतु की गई है। अभिभावकों को नियम, शर्तों को लेकर जो भी आपत्ति थी वे प्रशासन से बात कर सकते हैं। इस संदर्भ में हम चर्चा के लिए तैयार हैं।

साइकिल पार्किंग के नाम देना होगा शुल्क
इसके अलावा साइकिल पार्किंग के लिए सालाना शुल्क के लिए 1500 रुपए एडवांस में चुकाने होंगे। स्कूल डायरी में उल्लेखित इस नियमावली को लेकर अभिभावकों ने कड़ी नाराजगी जताई है। शुल्क वृद्धि के विरोध में भी अभिभावकों की कृति समिति और स्कूल प्रबंधन के बीच विवाद जारी है। महाराष्ट्र राज्य माध्यमिक व उच्च माध्यमिक शिक्षा मंडल के तहत के स्कूल बंद कर सीबीएसई बोर्ड जबरन लादने की कोशिश की जा रही है। इस बारे में भी शिक्षा आयुक्त और शिक्षा निदेशालय से अभिभावकों ने कई शिकायतें की है। उनकी कृति समिति ने शिक्षा आयुक्त को दिए शिकायत पत्र में अंतर्वस्त्र के विशिष्ट रंगों की सख्ती, पार्किंग शुल्क, विलंब पर जुर्माना आदि मुद्दों को उठाया है। स्कूल प्रबंधन के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। इस शिकायत पत्र पर 59 अभिभावकों के हस्ताक्षर मौजूद हैं।