comScore

हाईरिस्क व्यक्तियों की सप्ताह में कम से कम दो बार हो जाँच - कलेक्टर के निर्देश

हाईरिस्क व्यक्तियों की सप्ताह में कम से कम दो बार हो जाँच - कलेक्टर के निर्देश

डिजिटल डेस्क जबलपुर ।  कोरोना संक्रमण के लिहाज से हाईरिस्क के रूप में चिन्हित व्यक्तियों का सप्ताह में कम से कम दो बार स्वास्थ्य परीक्षण करने के निर्देश कलेक्टर भरत यादव ने दिए हैं। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य विभाग के अमले को शहरी और ग्रामीण क्षेत्र में हाईरिस्क के रूप में चिन्हित प्रत्येक व्यक्ति के घर जाकर, सार्थक एप के माध्यम से उनके स्वास्थ्य पर निगरानी रखनी होगी। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को समय पर कोरोना संदिग्ध मरीजों की सूचना नहीं देने वाले निजी अस्पतालों के विरुद्ध भी कार्यवाही करने के निर्देश दिए हैं। कलेक्टर ने बैठक में क्वारंटीन एवं होम आइसोलेशन के नियमों का उल्लंघन करने वाले व्यक्तियों पर कार्यवाही करने और जुर्माना लगाने के निर्देश भी दिए।  उन्होंने कहा कि कोरोना टेस्ट के लिए तय प्रोटोकॉल के मुताबिक सैम्पल लिए जाएँ। साथ ही शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में लगातार स्वास्थ्य सर्वे हो तथा दस दिन के बाद उन्हीं क्षेत्रों में दोबारा सर्वे किया जाए।
दो हटे, एक नया कंटेनमेंट जोन बना
कोरोना संक्रमण का 21 दिन से कोई प्रकरण नहीं मिलने पर सोमवार को दो कंटेनमेंट जोन को डिनोटिफाई कर दिया गया है।  कंटेनमेंट से मुक्त किये गये क्षेत्र में मिलौनीगंज एवं ग्राम पंचायत बरगी का वॉर्ड नम्बर 7 शामिल है।  जिला दण्डाधिकारी एवं कलेक्टर भरत यादव ने इस बारे में आदेश भी जारी कर दिया है। वहीं कोरोना के एक से अधिक प्रकरण मिलने पर नेपियर टाउन बराट रोड को नया कंटेनमेंट जोन बनाया गया है। कलेक्टर द्वारा जारी आदेश के मुताबिक नये कंटेनमेंट जोन में नेपियर टाउन के मकान नम्बर 426 एवं इसके आसपास के प्रभावित क्षेत्र को शामिल किया गया है।

कमेंट करें
AZuOE