comScore

एटीएम का क्लोन तैयार कर खाली कर देते थे खाता

एटीएम का क्लोन तैयार कर खाली कर देते थे खाता

डिजिटल डेस्क जबलपुर। शहर के विभिन्न थाना क्षेत्रों में एटीएम का क्लोन तैयार कर बैंक खातों से रकम खाली किए जाने की शिकायतों पर ओमती, अधारताल व गढ़ा थाना क्षेत्रों में धोखाधड़ी सहित विभिन्न धाराओं के तहत मामले दर्ज किए गये थे। इस मामले में पुलिस ने एक अंतर्राज्यीय गिरोह को पकड़ा था। पकड़े गये आरोपियों ने ओमती थाना क्षेत्र के शातिर बदमाश माजिद मूसा को भी गिरोह का सदस्य बताया था। गिरोह के पकड़े जाने के दौरान ही मूसा फरार हो गया था जिसकी गिरफ्तारी के लिए एसपी ने इनाम घोषित किया था। उक्त फरार इनामी  आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। 
इस संबंध में ओमती टीआई एसपी बघेल ने बताया कि 2 दिसम्बर व 13 जनवरी को शहर के विभिन्न क्षेत्रों में एटीएम से पैसे निकाले जाने की शिकायतें की गयी थीं जिस पर मामले दर्ज किए गये थे। जाँच के दौरान पुलिस ने आरोपी बजरंग बहादुर उर्फ सावन सिंह, संदीप सिंह, कुलदीप सिंह व कुशल कुमार यादव सभी निवासी प्रतापगढ़ यूपी को गिरफ्तार किया था। पकड़े गये आरोपियों ने पूछताछ में बताया था कि बड़ी ओमती रिपटा के पास रहने वाला माजिद मूसा पिता बाबू खान उम्र 33 वर्ष गिरोह की मदद करता था और यहाँ रहने, खाने की व्यवस्था करता था। वह पुराने एटीएम कार्ड भी उपलब्ध कराता था और धोखाधड़ी में जो पैसा मिलता था उसमें कुछ हिस्सा मूसा ले लेता था। घटना के बाद से वह फरार था और एसपी अमित सिंह ने उसकी गिरफ्तारी के लिए ढाई हजार का इनाम घोषित किया था। फरार इनामी आरोपी माजिद मूसा को गिरफ्तार करने मे एसटीएफ के सउनि निसार अली, प्रधान आरक्षक गजेन्द्र बागरी, आरक्षक विनोद पटेल, मनोज पाण्डे, गोविंद सूर्यवंशी, प्रवीण बावरिया, छत्रपाल पटेल की सराहनीय भूमिका रही। 
स्पाई कैमरे से करते थे रिकॉर्डिंग- पकड़े गये आरोपी ने बताया कि फरियादी जब एटीएम में जाता था तो आरोपी भी एटीएम में मौजूद होकर अपने मोबाइल में मौजूद स्पाई कैमरा चालू रखते थे। इस दौरान मोबाइल की स्क्रीन पर रिकॉर्डिंग नहीं दिखाई देती थी जिससे फरियादी को यह नहीं पता चलता था कि कोई रिकॉर्डिंग हो रही है। इस तरह से गिरोह के सदस्य एटीएम कार्ड नंबर व एटीएम पिन नम्बर को कैमरे में रिकॉर्ड कर लेते थे और फिर एटीएम की क्लोनिंग कर खाते से रकम उड़ा देते थे।
 

कमेंट करें
SJTwE