दैनिक भास्कर हिंदी: जबलपुर मेडिकल कॉलेज में चालू नहीं हुईं कोबाल्ट मशीनें

March 9th, 2021

डिजिटल डेस्क  जबलपुर । बजट सत्र के दौरान विधानसभा में सोमवार को चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने विधायक विनय सक्सेना के एक प्रश्न के जवाब में बताया कि जबलपुर के नेताजी सुभाष चंद्र बोस अस्पताल (मेडिकल कॉलेज) में कैंसर अस्पताल में एक कोबाल्ट मशीन  क्रियाशील है, जिससे मरीजों का उपचार किया जा रहा है, परन्तु दूसरी कोबाल्ट मशीन 20 मार्च 2020 से बंद पड़ी है। 7 नवम्बर 2020 को इस बंद मशीन का नया सोर्स अपलोड हो चुका है तथा एईआरबी से अनुमति प्राप्त होते ही इसे चालू कर दिया जायेगा। मंत्री ने बताया कि उक्त मशीन के अब तक चालू न होने से प्रतिदिन पांच मरीजों का रेडिशियन उपचार प्रभावित हुआ है।  
जबलपुर में डाक बंगला-विधायक संजय यादव को वन मंत्री विजय शाह ने बताया कि जनपद पंचायत जबलपुर के ग्राम चिरापौडी नकडिया में डाक बंगला निर्माण हेतु प्रस्ताव एस्टीमेट एवं ड्राईंग सहित वन विभाग में लंबित है। पूर्ण प्रस्ताव तैयार होने एवं राशि उपलब्ध होने पर स्वीकृति जारी करना संभव होगी। 
निजी लैब से जांच 
विधायक सुशील कुमार तिवारी को सारंग ने बताया कि मेडिकल कालेज द्वारा कोरोना काल में प्रायवेट लैब से टेस्ट कराये गये। लेकिन इसके लिये टेण्डर प्रक्रिया नहीं अपनाई गई। जनहित एवं कोविड मरीजों के जीवन रक्षा हेतु मेडिकल कालेज की प्रशासकीय अनुमति प्राप्त कर निजी लैब से कोविड-19 की जांच कराई गई तथा इसका भुगतान स्वशासी/आयुष्मान योजना के अंतर्गत किया गया। 
मेडिकल हब  
मंत्री ने विधायक लखन घनघोरिया को बताया कि जबलपुर शहर को मेडिकल हब के रुप में विकसित  करने तथा मरीजों को बेहतर इलाज उपलब्ध कराने के उद्देश्य से चिकित्सा महाविद्यालय जबलपुर परिसर में सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल तथा स्कूल ऑफ एक्सीलेंस इन पल्मोनरी मेडिसिन स्थापित किया गया है।

खबरें और भी हैं...