ऐलान : एक कॉलोनी की मतदाता सूची सही बताएं, 5 लाख पुरस्कार पाएं

July 22nd, 2022

डिजिटल डेस्क, अकोला। महानगरपालिका चुनाव के लिए 19 जुलाई को मनपा ने अंतिम मतदाता सूची जारी की, लेकिन इस अंतिम मतदाता सूची में भी गलतियां बरकरार होने का आरोप इच्छुक व पूर्व पार्षद लगा रहे है। इन गलतियों से खफा एक पूर्व पार्षद ने सीधी घोषणा कर डाली कि प्रभाग क्र. 21 में एक भी कालोनी की मतदाता सूची बीएलओ सही बताए और 5 लाख रूपए पुरस्कार पाए। इसके अलावा पूर्व पार्षद ने मनपा प्रशासन से भी दर्ज आपत्तियों का निवारण न होने की शिकायत की है। आपत्तियों का निवारण न होने पर न्यायालय का दरवाजा खटखटाने की चेतावनी दी है। बता दें कि अकोला महानगरपालिका क्षेत्र की प्रभाग निहाय प्रारूप मतदाता सूची जारी होते ही गड़बड़ियों को लेकर हंगामा शुरू हुआ। कई प्रभागों के मतदाताओं के नाम दूसरे ही प्रभागों में डाले गए। अनेक मतदाताओं के नाम ही सूची से गायब पाए गए। सूची में एक ही वोटर का नाम अलग-अलग सूची में पाया गया। मृत वोटरों के नाम सूूची में जस के तस बने हुए है। एक ही परिवार के सदस्यों के नाम अलग-अलग प्रभागों में डाले गए। इस कारण इच्छुक व पूर्व पार्षदों ने बड़े पैमाने पर आपत्तियां दर्ज की। इन आपत्तियों का निवारण करने के लिए मनपा का चुनाव विभाग दिन-रात जुटा रहा। एक बार मियाद भी बढ़ाकर मिली। इस बीच 16 जुलाई को मतदाता सूची राज्य चुनाव आयोग की वेबसाईट पर अपलोड की गई। तकनीकी खामियों की वजह से तीन दिन की देरी से 19 जुलाई को अंतिम मतदाता सूची जारी की गई। अवलोकन के लिए मनपा स्थायी समिति सभागृह, जोन कार्यालय तथा मनपा की वेबसाईट पर सूची उपलब्ध कराई गई, जिनके अवलोकन के बाद इच्छुक व पूर्व पार्षदों में बेचैनी का माहौल बढ़ गया है। कई प्रभागों में अभी भी गड़बड़ी बरकरार होने से फिर शिकायतें बढ़ गई है। प्रभाग क्र. 21 में हुई गड़बड़ियों को लेकर पूर्व पार्षद विनोद मापारी ने प्राधिकृत अधिकारी को शिकायत सौंपकर आपत्तियों का निवारण न किए जाने का आरोप किया है। साथ ही बीएलओ से अपील की है कि वे प्रभाग क्र. 21 में एक भी कालोनी की मतदाता सूची सही बताए और उनसे 5 लाख रूपए पुरस्कार ले जाए। उनकी इस घोषणा से मनपा में भी हड़कम्प मच गया है।