दैनिक भास्कर हिंदी: ऑक्सीजन की और डिमांड बढ़ी, जबलपुर में शार्टेज, दूसरे जिलों का भी प्रेशर बढ़ा

April 24th, 2021



डिजिटल डेस्क जबलपुर। कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या बढऩे से ऑक्सीजन की डिमांड में और ज्यादा इजाफा हो गया है। जबलपुर में ही ऑक्सीजन सिलेंडरों की आपूर्ति करने में प्रशासन को पसीना छूट रहा है, दूसरी तरफ आसपास के जिले भी जबलपुर के भरोसे हैं। ऑक्सीजन की लगातार माँग बढऩे से अब परेशानी बढ़ती जा रही है। अधिकारी अब असमंजस में हैं। फिलहाल डिमांड और सप्लाई बराबरी की स्थिति में है, अगर प्लांट में या िफर िलक्विड का टैंकर आने में थोड़ी भी गड़बड़ी हुई तो हाहाकार मचना तय है।
4 हजार सिलेंडर का उत्पादन-
रिछाई में स्थित आदित्य और जैनिम प्लांट के साथ ही लीटी पनागर क्षेत्र में स्थित प्लांट पूरी क्षमता के साथ ऑक्सीजन के उत्पादन में जुटे हैं। अभी बड़े और छोटे सिलेंडर मिलाकर हर दिन लगभग 4 हजार सिलेंडरों का उत्पादन किया जा रहा है। कुछ सिलेंडर घरों में भी सप्लाई हो रहे हैं।
सिलेंडरों की हो रही कमी-
अस्पतालों के साथ ही सिलेंडरों की सप्लाई घरों में भी हो रही है। बहुत से लोगों ने घरों में सिलेंडर रख लिये हैं। कुछ तो ऐसे हैं जिन्हें जरूरत भी नहीं है, लेकिन भविष्य में उपयोग को देखते हुए सिलेंडर घर पर रखे हैं। ऐसी स्थिति में ये सिलेंडर एक तरह से फँस गये हैं। इससे सिलेंडरों की कमी भी बनी हुई है। भले ही ऑक्सीजन भरपूर है, लेकिन खाली सिलेंडरों की कमी आ रही है।
पड़ोसी जिले भी जबलपुर के भरोसे-
जानकारी के अनुसार जबलपुर से मंडला, कटनी, दमोह, नरसिंहपुर, सागर, छिंदवाड़ा और सिवनी सहित अन्य जिलों में ऑक्सीजन सिलेंडरों की सप्लाई की जाती है। पहले इन जिलों से ऑक्सीजन की िडमांड कम थी, लेकिन इन जिलों में भी मरीजों की संख्या बढऩे से ऑक्सीजन की माँग बढ़ रही है। इन जिलों में बैठे अधिकारी जबलपुर में दबाव बना रहे हैं कि उन्हें पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन की सप्लाई की जाए।
ऑक्सीजन की कमी नहीं-
जबलपुर में ऑक्सीजन की जितनी भी िडमांड है उसकी आपूर्ति की जा रही है। आसपास के जिलों से माँग बढऩे से कुछ परेशानी जरूर आ रही है। अभी तो स्थिति ठीक है, टैंकर भी लगातार आ रहे हैं।
-अनुराग तिवारी, एसडीएम अधारताल

 

खबरें और भी हैं...