दैनिक भास्कर हिंदी: डॉ. पायल तडवी आत्महत्या मामला:  आरोपी डॉक्टरों को नहीं मिली जमानत 

July 4th, 2019

डिजिटल डेस्क,मुंबई। मुंबई के नायर अस्पताल की डॉ. पायल तडवी आत्महत्या मामले की जांच दो सप्ताह में पूरी कर ली जाएगी। गुरुवार को इस मामले की जांच कर रही मुंबई पुलिस की अपराध शाखा ने बॉम्बे हाईकोर्ट को यह जानकारी दी। इस पर हाईकोर्ट ने कहा कि जांच एजेंसी मामले में आरोपी डॉक्टरों के खिलाफ दर्ज आपराधिक मामले की जानकारी मेडिकल काउंसिल आंफ इंडिया और राज्य में कार्य कर रही समतुल्य संस्था को भी इसकी सूचना दी जाए। हाईकोर्ट में मामले में आरोपी तीन महिला डॉक्टरों की जमानत आवेदन पर सुनवाई चल रही है। निचली अदालत ने तीनों डॉक्टरों को जमानत देने से इंकार कर दिया है। लिहाजा आरोपी डाक्टरों ने हाईकोर्ट में जमानत आवेदन दायर किया है। न्यायमूर्ति साधना जाधव के सामने जमानत आवेदन पर सुनवाई हुई। इस दौरान न्यायमूर्ति ने इस मामले को लेकर शिकायत करनेवाली डाक्टर तडवी की मां व अन्य पक्षकारों को नोटिस जारी किया और उन्हें अपना पक्ष रखने को कहा। 

सुनवाई के दौरान न्यायमूर्ति ने कहा कि जांच एजेंसी को खुद इस मामले में आरोपी डॉक्टरों के विषय में मेडिकल काउंसिल को जानकारी देनी चाहिए थी। ताकि वह भी इस मामले में हस्तक्षेप कर सके। वे अदालत के निर्देश की प्रतीक्षा क्यों कर रहे हैं? सरकारी वकील ने कहा कि अभी भी आरोपी डॉक्टर जांच में सहयोग नहीं कर रहे हैं। हमे उनके मोबाइल से कुछ जानकारी मिली है जिसका सत्यापन करने की प्रक्रिया जारी है। हमारी जांच करीब दो सप्ताह में पूरी कर ली जाएगी। इस पर न्यायमूर्ति ने कहा कि पुलिस इस मामले में फोरेंसिक व लिखावट विशेषज्ञों से भी सहयोग ले ताकि मामले की जांच प्रभावी तरीके से हो सके। डॉक्टर पायल तडवी ने नायर अस्पताल के छात्रावास में 22 मई को फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। इसके बाद इस मामले में अस्पताल में कार्यरत डॉ हेमा अहूजा, डॉ भक्ति मेहरे व डॉ अंकिता खंडेलवाल को गिरफ्तार किया था। गिरफ्तारी के बाद से तीनों डॉक्टर हिरासत में हैं। फिलहाल तीनों डॉक्टरों को आर्थर रोड जेल में रखा गया है।