• Dainik Bhaskar Hindi
  • City
  • Finance Minister Nirmala Sitharaman holds bilateral meeting with UK Secretary of State for International Trade RT John Marie Elizabeth Truss

दैनिक भास्कर हिंदी: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने ब्रिटेन की अंतरराष्ट्रीय व्यापार राज्य सचिव आरटी हॉन मैरी एलिजाबेथ ट्रस के साथ द्विपक्षीय बैठक की

February 6th, 2021

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। केंद्रीय वित्त एवं कॉर्पोरेट मामलों के मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण ने यूनाइटेड किंगडम के अंतरराष्ट्रीय व्यापार राज्य सचिव आरटी हॉन मैरी एलिजाबेथ ट्रस से मुलाकात की। आरटी हॉन मैरी एलिजाबेथ ट्रस, अंतरराष्ट्रीय व्यापार राज्य सचिव, ब्रिटेन ने भारत को एक दूरदर्शी आधुनिक बजट पेश करने के लिए बधाई दी जिसमें कोविड-19 के बाद की दुनिया में निवेश और सुधार पर ध्यान केंद्रित करने पर जोर दिया गया है। सुश्री ट्रस ने स्वीकार किया कि फिनटेक, डिजिटल इकोनॉमी, स्टार्ट-अप्स, इनोवेशन और डेटा के क्षेत्र में भारत एक दबदबा वाला देश बन गया है। सुश्री ट्रस ने इसके आगे कोविड-19 महामारी की त्वरित और प्रभावी तरीके से नियंत्रित करने पर भारत की सराहना की। उन्होंने कहा कि कोविड वैक्सीन के क्षेत्र में निकट सहयोग ने दोनों देशों के बीच घनिष्ठ और विश्वसनीय साझेदारी का प्रदर्शन किया।

ब्रिटेन की सरकार दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र के साथ काम करने के लिए इच्छुक है। श्रीमती सीतारमण ने बजट के माध्यम से लाए गए सुधारों पर प्रकाश डाला और ब्रिटेन के साथ निकट सहयोग के क्षेत्रों में सुझाव दिया, जिसमें बुनियादी ढांचे, बीमा क्षेत्र में निवेश, गोल्बल वैल्यू चेन में छोटे और मध्यम उद्यमों को एक साथ करना शामिल है। वित्त मंत्री ने माना कि भारत-ब्रिटेन वार्षिक आर्थिक और वित्तीय वार्ता के जरिये दोनों देशों के बीच विभिन्न क्षेत्रों में निकट सहयोग किया जा रहा है। यह ध्यान दिया गया कि भारत और ब्रिटेन सीमा शुल्क मामलों में एक दूसरे को पारस्परिक प्रशासनिक सहायता देने पर भी काम कर रहे हैं। बैठक में भारत के महत्वपूर्ण द्विपक्षीय साझेदारों में से एक के रूप में ब्रिटेन के महत्व को रेखांकित किया गया, जिसमें मजबूत लोकतंत्र, साझा प्रवासी व्यापार और निवेश शामिल थे।

दोनों पक्षों द्वारा यह माना गया कि पिछले एक दशक से द्विपक्षीय व्यापार में लगातार वृद्धि हो रही है और दोनों देशों के पास कोविड-19 और ब्रेक्जिट अवधि के बाद इसे और बढ़ाने की अपार संभावनाएं मौजूद हैं।