दैनिक भास्कर हिंदी: हवाला: अप्रैल से जून के बीच जबलपुर से जयपुर और नागपुर में हुई 15 करोड़ की डीलिंग

July 8th, 2021



डिजिटल डेस्क जबलपुर। 3 जुलाई को कटनी रेलवे स्टेशन पर 51 लाख की हवाला रकम की जब्ती के मामले में सेन्ट्रल जीएसटी और आरपीएफ की टीमें लगातार जाँच कर रही हैं। अब तक इस मामले में सतना, भोपाल और इंदौर के साथ जबलपुर के भी कई व्यापारियों के नाम सामने आ चुके हैं। सूत्रों के अनुसार सेन्ट्रल जीएसटी की इन्वेस्टिगेशन टीम के सामने एक चौंकाने वाली जानकारी आई है, िजसमें अप्रैल 2021 से जून 2021 के बीच जबलपुर से राजस्थान के जयपुर और महाराष्ट्र के नागपुर में 15 करोड़ की बड़ी रकमों की डीलिंग हुई है। करीब पाँच से छह बार में अलग-अलग माध्यमों से नकद रकम पहुँचाने का काम हुआ है, िजसमें शहर के एक ट्रांसपोर्टर और कोरियर कंपनी के संचालक का नाम सामने आया है। संदेही व्यापारियों पर िशकंजा कसने के लिए जाँच दल पुख्ता सबूत जुटाने का प्रयास कर रही है। सूत्रों के मुताबिक जल्द ही आयकर विभाग इस मामले में बड़ी कार्रवाई कर सकता है।
उल्लेखनीय है कि नोटबंदी और जीएसटी जैसे नियम लागू होने के बाद हवाला कारोबार ने तेजी से पैर पसारे हैं। गुजरात के सूरत, बड़ौदा और अहमदाबाद हवाला कारोबारियों का गढ़ बन चुका है। पहले इसमें ज्यादातर सराफा कारोबारी ही शामिल रहते थे, लेकिन धीरे-धीरे दवा, ट्रांसपोर्ट, बिल्डर्स के बाद सटोरिए भी इस धंधे में उतर गए और फिर बड़ी-बड़ी रकमों का हवाला करने के लिए नई-नई तरकीबें भी उपयोग होने लगीं। 2015 के बाद जबलपुर में भी हवाला के धंधे में कई व्यापारी कूद पड़े। चूँकि जबलपुर सेन्ट्रल प्वॉइंट है और यहाँ की कनेक्टिविटी कई प्रदेशों से है। यही वजह है िक अब जबलपुर भी हवाला का बड़ा सेंटर बन चुका है।

खबरें और भी हैं...