दैनिक भास्कर हिंदी: हाइटेक IPL सट्टा रैकेट का भंडाफोड़: तीन सटोरिए पुलिस के हत्थे चढे़

April 22nd, 2018

डिजिटल डेस्क,सतना। एकतरफ फटाफट क्रिकेट का जुनून सर चढ़कर बोल रहा है तो वहीं दूसरी तरफ सट्टेबाजी का बाजार असामान छू रहा है। हर कोई पैसे बनाने के खेल में शामिल होना चाह रहा है जिसका फायदा उठाकर शातिर सटोरियों ने सतना के उतैली क्षेत्र में ठीहा जमा लिया था, ये लोग कई दिन से लाखों-करोड़ों का वारा-न्यारा कर रहे थे। इस बीच मुखबिर से मिली पुख्ता सूचना पर पुलिस कप्तान राजेश हिंगणकर ने सीएसपी वीडी पांडेय को कार्यवाही के लिए निर्देश दिया, जिन्होंने कोलगवां टीआई हेमंत विष्णु बर्वे की अगुवाई में एक टीम बनाकर शनिवार रात को उतैली में मैदान के पास बने यादव के घर में छापा डलवा दिया। जहां पूरा सेटअप देखकर पुलिस टीम हैरान रह गई।

मौके से कटनी के कुख्यात सटोरिए गणेश पोपतानी उर्फ बाबा पुत्र नारायण दास 35 वर्ष व मनीष चांदवानी उर्फ  मोनू पुत्र प्रहलाद राय 38 वर्ष निवासी माधव नगर, कटनी तथा पंकज पोपतानी उर्फ गोलू पुत्र शैलेन्द्र कुमार 22 वर्ष निवासी लालमाटी थाना घमापुर जिला जबलपुर को रंगे हाथ पकड़ लिया गया, तब तीनों लोग रॉयल चैलेन्जर्स बैंगलुरू और दिल्ली डेयर डेविल्स के बीच चल रहे मैच पर दांव लगवा रहे थे।

कटनी से जुड़े तार 
पकड़े गए रैकेट के तार कटनी से जुड़े हुए हैं जहां से मिले इशारे पर दांव लग रहे थे। हर गेंद से लेकर रन व छक्के-चौकों के साथ विकेट गिरने तथा एक-एक खिलाड़ी के प्रदर्शन पर सट्टा बाजार ऊपर-नीचे हो रहा था। पुलिस  देर रात तक आरोपियों से पूछताछ में जुटी रही। प्रारंभिक जानकारी में डेढ़ से दो करोड़ का सट्टा लगने की बात सामने आई है। 

सर्वर बॉक्स,10 मोबाइल,डायरी समेत साजो-सामान जब्त 
छापामार कार्यवाही के दौरान पुलिस ने पेटीनुमा मशीन बरामद की, जिसमें काली पट्टियां लगी हुई थीं। इस मशीन में कनेक्टर के जरिए सैमसंग कम्पनी के 10 मोबाइल लगे थे, जिन पर सट्टा लगाने वालों के फोन लगातार आ रहे थे। इसके अलावा सोनी कम्पनी का वाइस रिकार्डर मिला, जिस पर पूरी बातचीत रिकार्ड हो रही थी। पुलिस को हिसाब-किताब लिखने वाली डायरी, कैलकुलेटर, पेन ड्राइव, एलईडी टीवी, एचपी कैम्पनी का पी-7 लैपटॉप समेत 13 चीजें हाथ लगी हैं। 

आरोपियों के विरूद्ध कायमी कर पुलिस जांच में जुट गई है इनके जरिए IPL सट्टे से जुड़े बड़े खिलाडियों और सतना में सक्रिय तमाम सटोरियों तक पहुंचने के लिए पुलिस ने प्रयास शुरू कर दिए हैं। पकड़े गए लोग इतने शातिर हैं कि किराए पर घर लेते समय खुद को थोक व्यापारी बताया था। कार्यवाही में कोलगवां टीआई के साथ उपनिरीक्षक हेमंत शर्मा, आरक्षक पूर्णेन्श पांडेय, अतुल, संजय मिश्रा, अरविंद सिंह, सैनिक ओमप्रकाश आदि शामिल रहे।