comScore

घर की बनी मिठाइयां ही हैं सेहतमंद, मिलावटी चीजों से बचें

घर की बनी मिठाइयां ही हैं सेहतमंद, मिलावटी चीजों से बचें

डिजिटल डेस्क, नागपुर। मिठाइयों के बिना दिवाली का त्योहार अधूरा है। बाजार में भले ही तरह-तरह की मिठाइयों की भरमार है, लेकिन आहार विशेषज्ञों के अनुसार घर में बनने वाली मिठाइयां व नमकीन सबसे बेहतर विकल्प हैं। दिवाली के अवसर पर घर-घर में लड्डू, गुलाब जामुन, चूड़ा, चकली जैसे व्यंजन बनते हैं। कई बार हमें लगता है कि घर के इन व्यंजनों की तुलना में बाजार की रंग-बिरंगी मिठाइयां ज्यादा स्वादिष्ट होती हैं। आहार विशेषज्ञ नीता शर्मा कहती हैं हमें हर तरह की भारतीय मिठाइयां जैसे होम मेड लड्डू, बर्फी, काजू कतली, गुलाब जामुन और गुजिया जरूर खानी चाहिए। सबसे दुखद बात यह है कि लोग अपनी मिठाइयों लड्डू, काजू कतली और गुलाब जामुन को सेहत के लिए हानिकारक मानते हैं और इसकी जगह वेस्टर्न स्वीट्स जैसे कप केक्स और चॉकलेट्स खाते हैं और इसे हेल्दी मानते हैं, जो कि पूरी तरह से गलत है।

स्वाद के साथ स्वास्थ्य भी

घर पर बनी मिठाइयां बाजार में बिकने वाली मिठाइयों की तुलना में काफी सेहतमंद होती हैं, इसलिए इन्हें अवॉइड करने के बजाय इन्हें दिवाली थाली और दिवाली लंच के तौर पर ले सकते हैं। बहुत से लोग यह नहीं जानते कि घर पर बनी मिठाइयां ग्लाइसेमिक इंडेक्स में कम होती हैं, जिससे ये मिठाइयां हमारे शरीर में शुगर के स्तर को बढ़ाने के बजाय कंट्रोल करती हैं। होम मेड मिठाइयों में मौजूद घी, नारियल, दालें और मूंगफली ग्लाइसेमिक इंडेक्स को कम करते हैं और ये सामग्रियां मिठाइयों के स्वाद को भी बढ़ाती हैं। तो अब चॉकलेट खाने की बजाय जब भी आपको कुछ मीठा खाने का मन हो तो होममेड लड्डू, बर्फी या हलवा खाएं।
 

कमेंट करें
XWbVE