• Dainik Bhaskar Hindi
  • City
  • JCB and Crane removed the bus when the dead body was removed - a strange road accident took place

दैनिक भास्कर हिंदी: जेसीबी व क्रेन से बस को हटाया तब निकल सके शव - हुआ था अजीब सड़क हादसा

December 25th, 2020

पाटन-बगदरी सड़क हादसा, मौके पर दुर्घटना का शिकार होने से बाल-बाल बचे कई ग्रामीण
डिजिटल डेस्क जबलपुर ।
 पाटन थाना क्षेत्र के समीपी ग्राम बगदरी घाटी के पास हुए हादसे में कई ग्रामीणों की जान जाने से बच गयी। घटना के दौरान मौजूद लोगों का कहना था कि वे बस को पलटता देख जान बचाने के लिए यहाँ वहाँ भागे वहीं कुछ बाइक सवार अचानक हुए हादसे से बेखबर थे और बस की चपेट में आ गये। हादसे के बाद बस सड़क किनारे पलटी थी और उसमें दबे शवों को निकालने के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ी। मौके पर क्रेन व जेसीबी की मदद से बस को हटवाया गया तब कहीं जाकर दबे कुचले शवों को बाहर निकाला जा सका। 
उधर हादसे की जाँच में जुटे पुलिस अधिकारियों का कहना था कि यह हादसा बस चालक की लापरवाही के कारण हुआ है। बस चालक 21 दिसम्बर को बारात लेकर इंदौर गया था और वापसी के बाद दोपहर में बस की बुकिंग थी जिसके चलते चालक बस को तेज गति भगा रहा था और यह हादसा हुआ। इस हादसे में बाल-बाल बचे राघवेंद्र सिंह ने पुलिस को बताया कि वह जान बचाने के लिए भागा और गहरे गड्ढे में गिर गया था। 
छोटे घुमाव के कारण अक्सर होती हैं घटनाएँ 
ग्रामीणों का कहना था कि बगदरी घाटी में जहाँ हादसा हुआ वहाँ पर छोटा घुमाव होने के कारण अक्सर हादसे होते हैं। इससे पूर्व इसी स्थान पर क्रेन लोड कर आ रहा ट्राला, टायर लोड कर आ रहा ट्रक पलटा था। इसके अलावा करीब एक दर्जन हादसे पिछले कुछ दिनों में हुए हैं।
पुलिस वाहनों से अस्पताल पहुँचाया
हादसे की खबर पाकर एएसपी बघेल, एसडीओपी देवी सिंह,  टीआई पाटन आसिफ इकबाल, टीआई बेलखेड़ा सुजीत श्रीवास्तव व थानों का स्टाफ मौके पर पहुँचा और घायलों को एम्बुलेंस व पुलिस वाहनों पर बैठाकर मेडिकल पहुँचाया गया। वहीं एसपी सिद्धार्थ बहुगुणा भी मौके पर पहुँचे और घटनास्थल का मुआयना करते हुए उन्होंने घटनास्थल के पास छोटा घुमाव होने के कारण संकेतक लगाने व रोड इंजीनियरिंग की खामियों को दूर करने के लिए संबंधित विभाग से पत्राचार कर सड़क पर सुधार कराए जाने के निर्देश दिए। 
डायल 100 पहुँची थी मौके पर 
जानकारों के अनुसार बोलेरो पलटने की खबर पाकर डायल 100 मौके पर पहुँची थी। उमसें सवार आरक्षक गनपत, पायलट मनीष बर्मन व सैनिक दौलत राम बोलेरो सवार घायलों को गाड़ी से बाहर निकाल रहे थे। सबसे पहले घायल महिला फूला बाई जो कि लकवा से ग्रस्त थीं और परिजन उनका इलाज कराने के लिए जबलपुर आ रहे थे को बाहर निकालकर सड़क किनारे बैठाया गया था, उसके कुछ ही देर बाद तेज गति से आई बस पटल गयी थी। बस पलटती देख डायल 100 कर्मी जान बचाकर भागे जो कि घायल हो गए थे।
 

खबरें और भी हैं...