दैनिक भास्कर हिंदी: नागालैंड में किसकी बनेगी सरकार, गवर्नर ने रियो-जेलियांग को दिया 48 घंटे का वक्त

March 5th, 2018

हाईलाइट

  • नागालैंड की 60 विधानसभा में से 59 सीटों के लिए 27 फरवरी को वोटिंग हुई थी और 3 मार्च को नतीजे घोषित किए गए। इन चुनावों में किसी भी पार्टी को बहुमत नहीं मिला है।
  • नेशनल डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी (NDPP) के नेता नेफ्यू रियो और नगा पीपुल्स फ्रंट (NPF) के नेता टीआर जेलियांग ने गवर्नर पीबी आचार्य के सामने सरकार बनाने का दावा पेश किया है, जिसके बाद गवर्नर ने दोनों ही नेता को 48 घंटे का समय दिया है।
  • (NDPP) के नेता नेफ्यू रियो ने गवर्नर के सामने 60 विधायकों में से 32 विधायकों का समर्थन होने की बात कही है, जबकि जेलियांग ने भी कहा है कि उनके पास सरकार बनाने के लिए पर्याप्त बहुमत है।
  • चुनावों में बीजेपी ने 12, NDPP ने 16, NPF ने 27, नेशनल पीपुल्स पार्टी (NPP) ने 2, JDU ने 1 और 1 इंडिपेंडेंट कैंडिडेट ने जीत दर्ज की है।
  • राज्य में सबसे बड़ी पार्टी NPF है, जिसे 27 सीटें मिली हैं, हालांकि बीजेपी गठबंधन ने 28 सीटों पर जीत दर्ज की है।

डिजिटल डेस्क, कोहिमा। नागालैंड के गवर्नर पीबी आचार्या ने नेशनल डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी (NDPP) के नेता नेफ्यू रियो और नगा पीपुल्स फ्रंट (NPF) के नेता टीआर जेलियांग को बहुमत साबित करने को कहा है। दोनों ही नेता ने गवर्नर आचार्य के सामने सरकार बनाने का दावा पेश किया है, जिसके बाद गवर्नर ने दोनों ही नेता को 48 घंटे का समय दिया है। बता दें कि 60 विधानसभा सीट वाले नागालैंड में किसी भी पार्टी को पूर्ण बहुमत नहीं मिला है। 

दोनों नेताओं ने पेश किया दावा

बताया जा रहा है कि नागालैंड में सरकार बनाने के लिए NPF नेता टीआर जेलियांग और NDPP नेता नेफ्यू रियो दोनों ने ही सरकार बनाने का दावा पेश किया है। रियो ने गवर्नर पीबी आचार्य के सामने 60 विधायकों में से 32 विधायकों का समर्थन होने की बात कही है, जबकि जेलियांग ने भी कहा है कि उनके पास सरकार बनाने के लिए पर्याप्त बहुमत है।

गवर्नर ने दिया 48 घंटे का समय

दोनों ही नेता की तरफ से सरकार बनाने का दावा पेश किए जाने के बाद गवर्नर पीबी आचार्य ने 48 घंटे का समय दिया है। गवर्नर ने दोनों ही नेताओं को विधायकों के समर्थन वाली चिट्ठी सौंपने के लिए 48 घंटे का समय दिया है। नागालैंड के गवर्नर पीबी आचार्य ने रविवार को मीडिया से बात करते हुए कहा कि 'रियो और जेलियांग दोनों ने ही बहुमत होने का दावा किया है, लेकिन मैंने अभी किसी को भी सरकार बनाने के लिए आमंत्रित नहीं किया है। मैंने उन दोनों को ही समर्थन कर रहे विधायकों के हस्ताक्षर सौंपने के लिए 48 घंटे का समय दिया है। इसके बाद ही कुछ फैसला लिया जाएगा।' उन्होंने कहा कि जिसके पास बहुमत होगा, उसे ही सरकार बनाने का न्यौता दिया जाएगा।

नागालैंड के क्या हैं नतीजे

नागालैंड की 60 विधानसभा में से 59 सीटों के लिए 27 फरवरी को वोटिंग हुई थी और 3 मार्च को नतीजे घोषित किए गए। इन चुनावों में किसी भी पार्टी को बहुमत नहीं मिला है। इन चुनावों में बीजेपी ने 12, NDPP ने 16, NPF ने 27, नेशनल पीपुल्स पार्टी (NPP) ने 2, JDU ने 1 और 1 इंडिपेंडेंट कैंडिडेट ने जीत दर्ज की है। राज्य में सबसे बड़ी पार्टी NPF है, जिसे 27 सीटें मिली हैं, हालांकि बीजेपी गठबंधन ने 28 सीटों पर जीत दर्ज की है। 

बीजेपी गठबंधन की सरकार बनना तय

नागालैंड में बीजेपी गठबंधन की सरकार बनना लगभग तय है। क्योंकि चुनावों में NDPP और बीजेपी ने मिलकर चुनाव लड़ा था। इसमें बीजेपी ने 20 और NDPP ने 40 सीटों पर अपने कैंडिडेट उतारे थे। चुनावों में NDPP ने जहां 16 सीटें जीती हैं, वहीं बीजेपी ने 12 सीटों पर जीत दर्ज की है। इसके साथ ही NDPP-BJP गठबंधन को NPP के दो विधायक, JDU का 1 और इंडिपेंडेंट कैंडिडेट ने भी समर्थन देने की बात कही है। इस हिसाब से इस गठबंधन को 32 विधायकों का समर्थन है। 

पहले NPF के साथ थी बीजेपी

बीजेपी नागालैंड में अभी तक NPF के साथ मिलकर चुनाव लड़ती थी लेकिन 2018 में बीजेपी ने NPF से 15 साल पुराने गठबंधन को तोड़कर NDPP से हाथ मिला लिया था। 2013 के विधानसभा चुनावों में NPF को 60 में से 38 और बीजेपी को 1 सीट मिली थी। जबकि 2018 के चुनावों में बीजेपी को जहां 11 सीटों का फायदा हुआ है, वहीं NPF को 11 ही सीटों का नुकसान हुआ है।