दैनिक भास्कर हिंदी: मौत बनकर टूटा बिजली का तार, बेटी , नातिन व पिता सहित 3 की मौत

June 4th, 2018

डिजिटल डेस्क, सतना। रामपुर बाघेलान थाना अंतर्गत दलदल गांव में सोमवार दोपहर को बिजली का तार टूटकर गिरने से नातिन व बेटी समेत अधेड़ की जान चली गई। वहीं बचाने की कोशिश में मृतक की पत्नी व दूसरी बेटी बुरी तरह झुलस गए। घायलों को गंभीर हालत में संजय गांधी अस्पताल में रेफर कर दिया गया। यह हादसा तब हुआ जब पूरा परिवार खाना खाने बैठा था।

पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक राम विश्वास सिंह पटेल पिता रामेश्वर 55 वर्ष निवासी दलदल ने गांव से बाहर स्थित खेत पर अहरी घर बना रखी है। जहां वह परिवार के साथ निवास करता था। हमेशा की तरह सोमवार दोपहर करीब दो बजे पूरा परिवार खाना खाने बैठा था। तभी घर से डेढ़ सौ मीटर दूर ट्रांसफार्मर का तार शार्ट सर्किट के चलते टूटकर आंगन में गिरा।  यह तार घर की सर्विस लाइन को नुकसान पहुुंचाता हुआ जमीन कर गिरा। जिससे मृतक के घर की सर्विस लाइनफाल्ट होकर अधेड़ की कमर पर गिरी और वह करंट की चपेट में आ गया। इस दौरान पास में बैठी पुत्री माया सिंह पति विजय सिंह 35, नातिन आंचल सिंह पुत्री प्रताप सिंह 10 वर्ष ने उसे बचाने की कोशिश की तो वह भी करंट की चपेट में आ गए। तीनों को तड़पते देख रामविश्वास की पत्नी केशकली 52 वर्ष व दूसरी बेटी ममता पति प्रताप सिंह 30 वर्ष मदद के लिए दौड़ी लेकिन खुद ही खतरे में फंस गई।

इस बीच शोरगुल सुनकर खेतों व गांवों में मौजूद लोग बचाव के लिए दौड़ पड़े। मौके पर पहुंचकर हालत की गंभीरता को देखते हुए सूखी लकडिय़ों को तार से अलग कर केशकली व ममता को बचा लिया तथा डायल 100 पर खबर देकर दोनों को रामपुर अस्पताल भेज दिया। जहां से उन्हें रीवा रेफर कर दिया गया। घटना स्थल पर पहुंची पुलिस ने मृतकों के शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए मरचुरी भेज दिए।

ASP समेत पुलिस बल मौके पर
दलदल गांव में करंट लगने से तीन लोगों की मौत की खबर लगते ही अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक आरएस प्रजापति, TI राजेन्द्र मिश्रा, तहसीलदार रामपुर, मनकहरी चौकी प्रभारी राजश्री रोहित समेत आसपास के थानों का बल मौके पर पहुंच गया। आनन-फानन लाशों को पोस्टमार्टम के लिए भेजकर पुलिस जांच में जुट गई। इस बीच विद्युत वितरण केन्द्र में फोनकर सप्लाई बंद दी गई।

ग्रामीणों में आक्रोश
इस घटना से ग्रामीण खासे आक्रोशित हैं। विद्युत अमले की लापरवाही और मेन्टीनेंस के नाम पर खानापूर्ति के खिलाफ कार्यवाही  की मांग कर रहे हैं।