पन्ना: महाशिवरात्रि पर शिवालयों में गूंजे हर-हर बम-बम बोले के जयकारे

March 2nd, 2022

डिजिटल डेस्क, पन्ना। धार्मिक मान्यताओं एवं परम्पराओं के अनुरूप जिले भर में आज शिवरात्रि का पर्व उत्साहपूर्वक मनाया गया। शिवालयों में हर-हर महादेव एवं ओम नम: शिवाय के मंत्र गूंजायमान रहे। जगह-जगह श्रृद्धालुओं द्वारा शिव पार्वती का विवाह लौकिक रूप से उत्साह के साथ मनाया गया। पन्ना से सात किमी. दूर लक्ष्मीपुर स्थित प्राचीन देव स्थल मानस बट में शिवरात्रि के महाआयोजन में ज्योतिर्मठ बद्रिकाश्रम हिमालय के शंकराचार्य जगत गुरू स्वामी वासुदेवानंद सरस्वती जी महाराज उपस्थित हुये। वासुदेवानंद सरस्वती जी महाराज के सानिध्य में शिव-पार्वती विवाह उत्सव से संबंधित कार्यक्रम आयोजित किये गये। महाराज श्री ने ऐतिहासिक प्राचीन बट वृक्ष जिसे मानस बट के बटुकेश्वर के रूप में जाना जाता है यहां पर विराजमान होकर भक्तजनों को सर्व शक्तिमान भगवान शिव के स्वरूप और माता पार्वती की शक्ति एवं महिमा की जानकारी दी। मानस बट में यह आयोजन चालीस वर्ष से हो रहा है चालीस वर्ष पूर्व जगत गुरू शांतानन्द जी महाराज पन्ना में आये हुये थे और स्वर्गीय महाराज नरेन्द्र ङ्क्षसह द्वारा उन्हें लक्ष्मीपुर स्थित अति प्राचीन बट वृक्ष एवं उस स्थल के संबंध में जानकारी दी जिस पर आत्म शक्ति से जगत गुरू शंकराचार्य जी महाराज वहां पहुंचे और इस स्थल को अत्यंत आध्यात्मिक होने की जानकारी देते हुये शिवरात्रि के दिन यहां पर मानस पाठ का आयोजन किया और तब से अब तक यहां पर प्रतिवर्ष शिवरात्रि पर्व पर जगत गुरू शंकराचार्य के मार्ग दर्शन में मानस पाठ एवं माता शिव पार्वती विवाह का आयोजन किया जा रहा है। शिव पार्वती विवाह में श्रृद्धा के साथ लोगों ने बारात उसी स्वरूप में निकाली जिस रूप में भगवान की बारात का गाथाओं में वर्णन है। भगवान की बारात के साथ ही आज भव्य तरीके से आरती की गई तथा तैयार किये गये भव्य मण्डप में भगवान शिव पार्वती का श्रृद्धा भक्ति के साथ विवाह सम्पन्न हुआ।
श्री जुगल किशोर जी मंदिर में दर्शन के लिये उमड़ा जन सैलाब
आज महाशिवरात्रि पर्व पर जिला मुख्यालय सहित क्षेत्रांचल में मौजूद भगवान शंकर जी के मंदिरों में दिन भर श्रृद्धालुओं की भीड़ देखी गई। बुन्देलखण्ड के प्रसिद्ध श्री जुगल किशोर जी मंदिर के दर्शन करने के लिये भारी जन सैलाब क्षेत्रांचल से उमड़ा जहां पर भगवान श्री जुगल किशोर जी दर्शन के उपरांत परिसर के पीछे मौजूद भगवान शंकर जी की पूजा अर्चना की गई। इसके साथ ही सलेहा के समीपी ग्राम चौमुखनाथ में श्रृद्धालुओं का बड़ी तादात में आना जाना बना रहा। गुनौर से लगभग ५-६ किमी दूर स्थित ग्राम बेली हिनौती के समीप मढ़ेश्वर में, कुंजवन स्थित शिव मंदिर, पन्ना-सतना राष्ट्रीय राजमार्ग स्थित जिला मुख्यालय से लगभग दो किमी. दूर मोहनगढ़ी मंदिर में, सतना बैरियल स्थित गिरजेश्वर महादेव मंदिर, पन्ना नगर के कटरा मोहल्ला स्थित शिव मंदिर में, बड़ा बाजार के शिवजी मंदिर में दिन भर पूजा अर्चना का दौर चलता रहा।   
मिर्जा राजा तलैया में भी हुआ पूजन
शहर के मिर्जा तलैया में मंदिर में भगवान शिव का पूजन-अर्चन विधि-विधान के साथ किया गया साथ अखण्ड श्री रामचरित मानस का पाठ भी किया गया। इस आयोजन मुरारीलाल थापक, रामगोपाल तिवारी, वैभव थापक, अशोक कुमार पाण्डेय, विजयकांत थापक, अन्नू थापक, सारंश, राजेन्द्र सिंह सहित अन्य भक्तगण उपस्थित रहे। 
सारंग मंदिर में भी लगा भक्तों का तांता
जिला मुख्यालय से लगभग १५ से २० किमी दूर स्थित ग्राम अहिरगुवां के सारंगधर मंदिर में १२ शिव ज्योतिलिंग होने के चलते यहां पर सुबह से ही श्रृद्धालुओं की बड़ी भीड़ देखी गई यहां पर भक्तों द्वारा भगवान भोलेनाथ को दूध एवं बेलपत्र चढ़ाकर पूजा-अर्चना की इसके बाद ही रक्सेहा स्थित प्रदीप मजूमदार के निवासस्थल पर भगवान शिव मंदिर में विवाह आयोजन कार्यक्रम का आयोजन किया गया वहां पर रात्रि जागरण हुआ तथा पन्ना नगर के धरम सागर तालाब में श्री श्री १००८ मंशापूर्ण महादेव मंदिर में मां पार्वती एवं भगवान शंकर जी विवाह का आयोजन किया गया।  
घर-घर पूजे गये महादेव 
महाशिवरात्रि के अवसर पर श्रृद्धालुओं द्वारा वृत्त रखा गया और भगवान भोलेनाथ की श्रृद्धापूर्वक विशेष पूजा अर्चना करते हुये भगवान का श्रृंगार किया गया। हवन पूजन कार्यक्रम भी सम्पन्न हुआ। महाशिवरात्रि के शुभ अवसर पर आज कई लोगों द्वारा अपने बच्चों को कन्छेदन कराये गये। भोलेनाथ की भक्ति में सत्यनारायण कथा सहित विविध प्रकार के भक्तिमय आयोजन लोगों द्वारा किये गये।