2 वन मंडल की टीम रख रही नजर, ग्रामीणों को किया अलर्ट: मझगवां-पन्ना बॉर्डर पर मिला पन्ना बाघ

October 3rd, 2021


डिजिटल डेस्क सतना। 2 सप्ताह से अधिक समय से पन्ना टाइगर रिजर्व से पलायन किए पन्ना नामक बाघ की लोकेशन आखिरकार मिल ही गई। बाघ की तलाश में सतना और पन्ना रिजर्व टाइगर की टीम लगी थी और ये सफलता वन मंडल सतना के खाते में आ गई।
पन्ना टाइगर रिजर्व के फील्ड डायरेक्टर उत्तम कुमार शर्मा से मिली जानकारी के अनुसार पी-234 से जन्मे पी- 234-32 यानि पन्ना नामक बाघ 16 सितंबर को रिजर्व टाइगर से पलायन कर खुद की टेरेटरी बनाने निकल पड़ा। ये जानकारी कॉलर आईडी की वजह से जब रिजर्व टाइगर को लगी तो एक 6 सदस्यीय टीम उसकी ट्रेकिंग के लिए निकल पड़ी। टाइगर का मूवमेंट सतना वन मंडल के मझगवां रेंज में मिल रहा है, लिहाजा सssतना डीएफओ विपिन कुमार को सूचित कर दिया गया है। फील्ड डायरेक्टर श्री शर्मा ने कहा कि सतना-पन्ना वन मंडल टीम की निगहबानी में बाघ पूर्णतया सुरक्षित और महफूज जगह पर है। उसके इर्दगिर्द ट्रैप कैमरे भी लगा दिए गए हैं।
ग्रामीणों को किया अलर्ट
इधर, सतना वन मंडल के भरोसेमंद सूत्र ने बताया कि जहां पर टाइगर ट्रेस किया गया है, वहां से करीब 6 गांवों की सीमा लगती है और बाघ वहां से लगभग 5 किमी की दूरी पर है बावजूद इसके ग्रामीणों को सतर्क कर दिया गया है। बताया जाता है कि गांवों के आसपास लोकेशन मिलने के बाद वहां के लोग दहशत में हैं। ग्रामीणों ने भी बाघ को देखे जाने की बात वन विभाग से शेयर करते हुए सुरक्षा की मांग की है।
प्रजनन का भी समय
रिजर्व टाइगर के फील्ड डायरेक्टर का कहना है कि ये समय टाइगर की मैटिंग का है और 2 सप्ताह से बाघ उसी क्षेत्र में रुका हुआ है तो इसका मतलब साफ  है कि वहां कहीं न कहीं मादा टाइगर का भी मूवमेंट है। फिलहाल श्री शर्मा ने टाइगर की मुख्य लोकेशन को गोपनीय रखते हुए स्थान का नाम नहीं बताया है लेकिन उनका इशारा है कि पन्ना की एक बाघिन और एक बाघ सतना को उपहार स्वरूप मिल चुके हैं।

खबरें और भी हैं...