दैनिक भास्कर हिंदी: ऑटो पर चस्पा हो रहे थाना प्रभारियों और आरटीओ के फोन नम्बर, सवारियां कर सकेंगी शिकायत

May 1st, 2019

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। ऑटो में सफर करने वाली सवारियों की शिकायतों को दूर करने के लिए ऑटो में यातायात थाना प्रभारियों और आरटीओ अमले के नम्बर अंकित किए जा रहे हैं, ताकि जरूरत पड़ने पर सवारियां अपनी शिकायतें उक्त नम्बर के जरिए दर्ज करा सकें। यह कार्य एसपी  निमिष अग्रवाल के निर्देश पर हो रहा है, जिसकी शुरूआत एएसपी ट्रैफिक अमृत मीणा ने यातायात थाने के सामने से की। अधिकारियों के ये नम्बर्स एक स्टीकर में अंकित हैं, जिसे नगर में संचालित सभी ऑटो-आपे में ड्राइवर सीट के पीछे चस्पा किया जाएगा। इस संबंध में एसपी अग्रवाल ने  सभी यातायात थाना प्रभारियों को निर्देशित किया गया है कि ऑटो से संबंधित शिकायत प्राप्त होने पर वे तत्काल मौके पर पहुंचकर विधि संगत कार्रवाई करें। वहीं आने वाले समय में ड्राइवर सीट पर सवारी बैठाने वालों पर आईपीसी की धाराओं के तहत कार्रवाई करें और ऑटो तुरन्त जब्त कर लिए जाएं। 

जेब काटने और मोबाइल चोरी की घटनाएं आम
विगत दिनों ऑटो चालकों द्वारा यात्रियों की जेबें काटने, मोबाइल चोरी करने एवं ठगी करने की शिकायतें प्राप्त हुई थीं। ऑटो चालकों के विरुद्ध दर्ज अपराध में गिरफ्तारी के दौरान जब उनसे पूछताछ की गई तो यह पता चला कि अनेकों ऑटो चालक जेब काटने के मकसद से ही सवारी को ड्राइवर सीट के बाजू में बैठाते हैं। उपरोक्त शिकायतों को दृष्टिगत रखते हुए एसपी द्वारा निर्देशित किया गया है कि एक विशेष अभियान चलाकर ऑटो चालकों को हिदायत दी जाए तथा इसके उपरांत भी नहीं मानने पर दोषी चालकों के विरुद्ध कठोर कानूनी कार्रवाई की जाए।

ड्राइवरों के रिकॉर्ड मेन्टेन किए जाएं
ट्रैफिक पुलिस को प्रत्येक ड्राइवर को पहचान कर उसके बार-बार अपराध करने पर उसका रिकॉर्ड मेन्टेन रखने, उसका लाइसेंस जब्त करने, परमिट निरस्त करने जैसे सुझाव भी मिल रहे हैं। पूर्व में भी जेबें काटने तथा ठगी करने वाले ऑटो चालकों के विरुद्ध चोरी की विभिन्न धाराओं में प्रकरण दर्ज कर गिरफ्तारी सुनिश्चित की गई थी। इसलिए संबंधित थाना प्रभारियों से प्राप्त प्रतिवेदन के आधार पर यातायात पुलिस द्वारा ऐसे सभी ऑटो चालकों के ड्राइविंग लाइसेंस निलंबित करने हेतु प्रतिवेदन तैयार किए जा रहे हैं, जिसे परिवहन अधिकारी को भेजा जाएगा। 

नगर पुलिस का सहयोग जरूरी
एसपी ने स्पष्ट कर दिया है कि ऑटो चालकों को पटरी पर लाने का कार्य केवल यातायात पुलिस के स्तर पर संभव नहीं है। अत: सभी थाना प्रभारी इसमें गंभीरतापूर्वक रुचि लेकर प्रयास करेंगे। सभी नगर पुलिस अधीक्षक तथा उपपुलिस अधीक्षक यातायात इसकी सतत मानीटरिंग करेंगे। 

खबरें और भी हैं...