comScore

पुलिस के हत्थे चढ़ा  सगी बहनों की हत्या का आरोपी, दो अब भी फरार 

पुलिस के हत्थे चढ़ा  सगी बहनों की हत्या का आरोपी, दो अब भी फरार 


डिजिटल डेस्क सतना। रायपुर में दो सगी बहनों की हत्या के फरार 3 में से एक मुख्य आरोपी  सैफ खान (23) को गुरुवार की भोर एसपी की क्राइम टीम ने मैहर स्टेशन परिसर से उस वक्त गिरफ्तार कर लिया जब वो बिलासपुर -रीवा एक्सप्रेस से उतर कर गायब होने की कोशिश में था। क्राइम टीम ने आरोपी को छत्तीसगढ़ पुलिस के हवाले कर दिया है। पूछताछ में मुख्य आरोपी ने बताया कि फरार एक अन्य आरोपी गुलाम मुस्तफा जहां शहडोल में उतर गया था,वहीं एक अन्य आरोपी देवनारायण वारदात के बाद से ही इन दोनों से अलग हो गया था। एक आरोपी के शहडोल में छिपे होने की आशंका पर वहां की पुलिस को भी अलर्ट किया गया है। 
 ऐसे हुई गिरफ्तारी-
पुलिस ने बताया कि 10 दिसंबर को रायपुर टिकरापारा थाना क्षेत्र के गोदावरी नगर के एक निजी हॉस्टल में रह कर नर्सिंग की पढ़ाई कर रहीं  मंजू सिदार और उसकी छोटी बहन मनीष सिदार की दिन दहाड़े हत्या के फरार 3 में से मुख्य आरोपी  सैफ खान (23) और गुलाम मुस्तफा के बिलासपुर -रीवा एक्सप्रेस से भागने की सूचना रायपुर के एडिशनल एसपी क्राइम प्रफुल्ल ठाकुर ने सतना पुलिस को दी थी। श्री ठाकुर ने मुख्य आरोपी का फोटो भी उपलब्ध कराया था। एसपी रियाज इकबाल ने मामले की गंभीरता के मद्देनजर अलर्ट की कमान एडिशनल एसपी गौतम सोलंकी को सौंपी। श्री सोलंकी के नेतृत्व में क्राइम टीम की एक टुकड़ी सादे लिबास में जहां मैहर स्टेशन परिसर के बाहर तैनात की गई, वहीं आरपीएफ और जीआरपी की मदद से स्टेशन को भी छावनी में तब्दील कर दिया गया। 
ऑटो ड्राइवर ने की तस्दीक -
आरोपियों के बिलासपुर -रीवा एक्सप्रेस में ही होने और मैहर में उतर कर भागने की आशंका की पुख्ता खबर के चलते एसपी की क्राइम टीम ने मैहर स्टेशन परिसर की पार्किंग में आटो रिक्शा के चालकों को मुख्य आरोपी के फोटो दिखा कर पहचान करा रखी थी। बताया गया है कि दो सगी बहनों की हत्या का मुख्य आरोपी स्टेशन परिसर में तैनात पुलिस को झांसा देकर स्टेशन से बाहर निकल कर पार्किंग तक पहुंच गया। इसी बीच एक आटो ड्राइवर की उस पर नजर पड़ी और उसने इस बात की खबर पार्किंग में सादे लिबास में मौजूद क्राइम टीम को दी। इस तरह से आरोपी सैफ खान पुलिस के हत्थे चढ़ गया। उसे मैहर में ही छत्तीसगढ़ की रायपुर पुलिस के हवाले कर दिया गया। 
 सीसीटीवी फुटेज से हुई थी शिनाख्त-
इसी बीच रायपुर के एडिशनल एसपी (क्राइम) प्रफुल्ल ठाकुर ने बताया कि  टिकरापारा थाना क्षेत्र के गोदावरी नगर के एक निजी हॉस्टल में रह कर रायगढ़ की दो सगी बहनें मंजू सिदार और उसकी छोटी बहन मनीषा सिदार क्रमश: पैरामेडिकल और बीएससी नर्सिंग की पढ़ाई कर रही थीं।  तीन मंजिला हॉस्टल के तीसरे माले के एक कमरे में 10 दिसंबर को सुबह सवा 10 बजे 2 आरोपी पहुंचे। माना जा रहा है कि मंजू और मुख्य आरोपी के बीच किसी बात को लेकर विवाद हुआ। गुस्से में आरोपी ने अपने एक सहयोगी के साथ मिल कर पहले लोहे के तवे से मंजू पर और फिर विरोध करने पर उसकी छोटी बहन मनीषा पर हमला कर दिया। दोनों की मौत हो गई। आरोपी भाग निकले। मगर, आते और जाते वक्त दोनों सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गए। घटना स्थल के निरीक्षण के दौरान रायपुर पुलिस को पता चला कि आरोपी 3 थे। इनमें से रायगढ़ के मुधबन पार का रहने वाला सैफी उर्फ सैफ और गुलाम मुस्तफा हॉस्टल के अंदर गए थे। जांच में पुलिस को पता चला है कि दोहरे हत्याकांड का मुख्य आरोपी सैफ उर्फ सैफी मृतका मंजू सिदार का फेसबुक फ्रेंड भी था। मंजू ने रायगढ़ के चक्रधर नगर थाने में उसके खिलाफ छेडख़ानी और धमकी देने की रिपोर्ट भी दर्ज कराई थी। परिजनों ने भी उससे मंजू की जान का खतरा बताया था। 

कमेंट करें
uqS0L