दैनिक भास्कर हिंदी: सतना : दुष्कर्म पीड़ित मासूम को एयर एम्बुलेंस से भेजा गया दिल्ली, जबलपुर मेडिकल कॉलेज की टीम ने किया परीक्षण

July 3rd, 2018

डिजिटल डेस्क, सतना। उचेहरा क्षेत्र के परसमनिया-पठार में ज्यादती का शिकार हुई 4 वर्षीय मासूम को बेहतर इलाज के लिए मंगलवार शाम एयर लिफ्ट कर दिल्ली ले जाया गया, जहां देश के सर्वश्रेष्ठ अस्पताल एम्स में विशेषज्ञ चिकित्सकों द्वारा उसकी देखरेख की जाएगी। बच्ची के साथ उसके माता-पिता व नाना-नानी भी दिल्ली गए हैं। दिल्ली भेजने से पहले मेडिकल कॉलेज जबलपुर के 4 सदस्यीय दल को पीड़िता की हालत का जायजा लेने के लिए सतना बुलाया गया था। जिनकी सलाह के बाद ही उसे एम्स ले जाने का अंतिम निर्णय लिया गया। इस टीम में डॉ बीकेश अग्रवाल पीडियाट्रिक सर्जन, एचओडी पीडियाट्रिक डिपार्टमेंट मेडिकल कॉलेज, डॉ भारती साहू एचओडी गायनी डिपार्टमेंट, डॉ अभिषेक तिवारी सहायक प्राध्यापक पीडियाट्रिक, डॉ तनू सोनी सहायक प्राध्यापक गायनिक डिपार्टमेंट शामिल रहे।

अस्पताल में जमे रहे पुलिस व प्रशासन के आला अधिकारी
कलेक्टर मुकेश शुक्ला काफी देर तक परिजनों के पास रूककर ढांढस बंधाते रहे, वहीं दोपहर में ही रीवा रेंज के डीआईजी अविनाश शर्मा व एसपी राजेश हिंगणकर भी वहां पहुंच गए। शाम करीब पौने 4 बजे एम्बुलेंस से पीड़िता को हवाई पट्टी ले जाया गया, जहां सवा 4 बजे एयरोप्लेन से दिल्ली रवाना हुआ।

आरोपी न्यायालय में पेश, वकीलों ने पैरवी से किया इंकार
उधर आरोपी महेन्द्र गौंड पुत्र राजबहादुर सिंह 27 वर्ष को उचेहरा पुलिस ने शाम करीब साढ़े 5 बजे कोर्ट में पेश किया, लेकिन किसी भी वकील ने उसकी पैरवी नहीं की। इतना ही नहीं विधिक सहायता समिति में शामिल 5 वकीलों ने भी हाथ खड़े कर दिए, जिस पर न्यायालय ने एक दिन के लिए जेल भेज दिया। दोपहर करीब 3 बजे पुलिस दल न्यायालय पहुंचकर एडीपीओ से मिला। पुलिस बल को न्यायालय पहुंचने पर जानकारी मिली कि अधिवक्ता आक्रोशित हैं और स्थिति हंगामाई हो सकती है। पुलिस बल ने सूझबूझ का परिचय देते हुए देर शाम करीब साढ़े 5 बजे भीड़भाड़ कम हो जाने के बाद आरोपी को पेश किया। इस दौरान परिसर में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए थे। अप्रिय वारदात से बचने के लिए आरोपी को सुरक्षा घेरे में न्यायालय के समक्ष लाया गया था।


फॉरेंसिक टीम ने जुटाए तथ्य
सनसनीखेज वारदात में आरोपी को उसके अंजाम तक पहुंचाने के लिए पुलिस हर बिन्दु पर बारीकी से जांच कर रही है, जिसके तहत फॉरेंसिक टीम ने मंगलवार को घटनास्थल पर पहुंचकर खून के नमूने व अन्य भौतिक साक्ष्य एकत्र किए तो पीड़िता के घर से लेकर आरोपी के घर तक जांच पड़ताल की। इतना ही नहीं मेडिकल रिपोर्ट, आरोपी के कपड़े व डीएनए सेम्पल लेकर रातोंरात फॉरेंसिक लैब सागर भेज दिए गए। पुलिस की पूरी कोशिश है कि एक सप्ताह से पहले ही चालान पेश हो जाए।