दैनिक भास्कर हिंदी: सिवनी हादसा : सभी को रुला गई उनकी यूँ वापसी - पंचशील नगर निवासी परिवार के 2 लोगों समेत 3 की मौत

March 20th, 2021

पड़ोसियों ने कहा था नागपुर में फैला है कोरोना, अभी मत जाओ, हर आँख हुई नम

डिजिटल डेस्क जबलपुर । कार पर जबलपुर से नागपुर जा रहे पंचशील नगर, ग्वारीघाट निवासी परिवार के सदस्यों की सिवनी-मोहगाँव के बीच सड़क हादसे में मौत हो गई। दर्दनाक खबर आते ही कॉलोनी में मातम छा गया। पड़ोसियों ने बताया कि परमिंदर सिंह सेठी और उनके साथ मौजूद 2 अन्य लोगों को जाने से पहले पड़ोसियों ने रोका भी था। उनका  कहना था कि नागपुर में संक्रमण काफी अधिक है लेकिन परमिंदर सिंह सेठी ने कहा कि रिश्ते होते ही हैं निभाने के लिए लिहाजा, उन्हें जाना ही पड़ेगा और वे रवाना हो गए। सिवनी कलबोड़ी में नेशनल हाईवे पर 48 वर्षीय परमिंदरसिंह सेठी अपनी पत्नी हरप्रीत कौर (44 वर्ष), बेटे रब्बुलसिंह सेठी (10 वर्ष) एवं 27 वर्षीय जसप्रीत राठौर के साथ कार क्रमांक एमपी 20 सीडी 3358 से नागपुर के लिए जा रहे थे। यह कार परमिंदर स्वयं चला रहे थे और सुबह 8:30 बजे सिवनी से 18 किमी आगे चल रहे ट्रक क्रमांक एमपी 20 जीसी 9495 में पीछे से उनकी कार ट्रक में ही जा घुसी। इसके बाद ट्रक चालक जहाँ मौके से फरार हो गया तो वहीं परमिंदर स्टेयरिंग में फँसकर रह गए और मौके पर ही उनकी मौत हो गयी। 
स्तब्ध हैं पड़ोसी व परिजन | - इस हादसे की खबर जब पंचशील नगर में रहने वाले परमिंदर के पड़ोसियों को लगी तो वे भी अवाक रह गए। इस दौरान यहाँ रहने वाले 52 वर्षीय अजय सिंह ने बताया कि नागपुर जाने के बारे में परमिंदर ने उन्हें एक-दो दिन पहले बताया था। इस पर उन्होंने उनसे यह कहा था कि नागपुर में कोरोना संक्रमण बेहद अिधक है और हो सके तो वे अपनी इस यात्रा को फिलहाल टाल दें। लेकिन परमिंदर ने यह कहते हुए उनके आग्रह को टाल दिया कि वहाँ जाना जरूरी है और वे पूरी सावधानी के साथ अपना सफर तय करेंगे लेकिन उन्हें भी यह नहीं मालूम था कि उनका यह सफर जिंदगी का अंतिम सफर साबित होगा। हादसे के बाद परिजनों की आँखों से आँसू नहीं रुक रहे हैं। 
ओएफके कर्मी की मौत का ये भी अजब संयोग| - सड़क हादसे के मृतकों में एक ऐसा भी नाम शामिल है जिसे एक दिन पहले ही दीर्घ कालीन सेवा के लिए आयुध निर्माणी खमरिया ने पुरस्कार दिया था। निर्माणी दिवस पर परमिंदर सिंह सेठी को 25 साल की सर्विस पूरी करने पर इस पुरस्कार से नवाजा गया था। उनके सहकर्मियों को अभी तक यकीन नहीं हो पा रहा है कि एक दिन पहले तक सर्विसेस एंड युटिलिटीज सेक्शन का सबसे मिलनसार साथी अब उनके बीच नहीं रहा।

खबरें और भी हैं...