comScore

 खतरनाक हो चुकी है जर्जर पानी की टंकी - स्कूल के 250 मासूमों की जान संकट में

 खतरनाक हो चुकी है जर्जर पानी की टंकी - स्कूल के 250 मासूमों की जान संकट में

डिजिटल डेस्क कटनी । जिस टंकी से लोगों की प्यास बुझती थी, अब वही पानी की टंकी  मासूमों के ऊपर खतरा बनीं हुई है। माध्यमिक शाला नदीपार स्कूल के बीचों-बीच बनीं टंकी को तकनीकी दल भी अनुपयोगी बता चुका है। इसके बावजूद नगर निगम के अफसर हादसे के इंतजार में हाथ पर हाथ रखकर बैठे हुए हैं, जिससे स्कूल प्रशासन सख्ते में है। यहां पर वर्तमान समय में प्राथमिक और माध्यमिक स्कूल में दो सौ से अधिक विद्यार्थी अध्ययनरत हैं,इसी परिसर में आंगनबाड़ी केन्द्र में 50 मासूम दर्ज हैं।   इस स्थिति में वर्ष भर खतरों के साया में मासूम पढऩे को विवश हैं। दो वर्ष के अंतराल में स्कूल प्रशासन अनुपयोगी टंकी को हटाने के लिए कई बार नगर निगम को पत्र भी लिख चुका है। इसके बावजूद अफसर सब कुछ जानते हुए भी अंजान है। कुछ दिन पहले यहां पर शहर सरकार आपके द्वार का शिविर लगाया गया था। जिसमें निगम के अफसर पहुंचे थे। इसके बावजूद समस्या जस की तस बनीं हुई है।
एक हटाई दूसरे से मुंह मोड़ा
भोपाल में जर्जर टंकी गिरने के कारण हुए हादसे के बाद नगर निगम ने भी पानी टंकियों की जांच कराई। जिसमें कई टंकी ऐसे रहे। जिसमें सुधार कार्य करते हुए उसे दुरुस्त कराया गया। आजाद चौक और नदीपार स्कूल की टंकियों की भी जांच तकनीकी अधिकारियों ने की। टंकियों की जर्जर हालात को देखते हुए अधिकारियों ने दोनों टंकियो को भविष्य के लिए खतरनाक बताया। इसके बावजूद निगम के अफसर आजाद चौक के समीप की जर्जर टंकी को तो हटा दिए, लेकिन नदीपार स्कूल की टंकी की तरफ मुंह मोड़ लिए।
इसलिए बना है खतरा
वर्तमान समय में स्कूल परिसर के बीचों-बीच यह पानी की टंकी बनीं हुई है। टंकी के चारों तरफ सुरक्षा को लेकर किसी तरह के इंतजाम नहीं किए गए हैं।टंकियों की सीढ़ी ऊपरी हिस्से में जर्जर है। प्लेटफार्म से लोहे के राड दिखाई दे रहे हैं। सीढ़ी भी इस तरह से बनीं हुई है कि बच्चे खेल-खेल में सीढिय़ों में भी चढऩे से नहीं चूकते। इसके पहले एक बच्चा सीढ़ी से गिरकर घायल भी हो चुका है। इसकी जानकारी स्कूल प्रधान अध्यापिका श्रीमती ज्योति वर्मा ने नगर निगम को लिखित में भी दी, फिर भी निगम के अफसर नहीं चेते।
तीन संस्थाओं की सुरक्षा
यहां पर तीन-तीन संस्थाओं की सुरक्षा को प्रशासन ने ताक में रख दिया है। नदीपार प्राथमिक विद्यालय में करीब सौ विद्यार्थी अध्ययनरत हैं। माध्यमिक स्कूल में 107 बच्चे अध्ययनरत हैं। संभवत: जिले का एक ऐसा यह स्कूल होगा। जहां पर सबसे अधिक बच्चे अध्ययनरत हैं। आंगनबाड़ी में भी रोजाना दर्जनों
बच्चे पहुंचते हैं। इसके बावजूद तीन-तीन संस्थाओं में दर्ज मासूमों की सुरक्षा को प्रशासन ने ताक में रख दिया है। टंकी के अनुपयोगी होने पर समीप में ही एक टंकी का निर्माण करते हुए उससे वार्डों में पानी की सप्लाई की जाती है। इसके बावजूद इस टंकी को शो-पीस बनाकर निगम के अफसर रखे हुए हैं।
इनका कहना है
टंकी से किसी तरह से खतरा क्षेत्र में नहीं है। टंकी की स्थिति को देखते हुए उसे अनुपयोगी घोषित कर दिया गया है। साथ में उसमें पानी भी नहीं भरा
जा रहा है।
 राकेश शर्मा, ईई नगर निगम कटनी
 

कमेंट करें
IByHr