दैनिक भास्कर हिंदी: काले गुड़ की तस्करी : महुआ शराब बनाने में इस्तेमाल कर रहा माफिया

April 7th, 2019

डिजिटल डेस्क, नागपुर। मध्यप्रदेश से नागपुर जिले में काले गुड़ की तस्करी काफी लंबे समय से हो रही है। पर इस बात का खुलासा अब जाकर हुआ है। आबकारी विभाग के दस्ते ने काले गुड़ की तस्करी करने वालों पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। काले गुड़ की धरपकड़ शुरू हो चुकी है। मध्यप्रदेश में इस गुड़ की पैदावार बड़ी मात्रा में होती है। गुड़ का उपयोग जानवरों के खाद्य पदार्थ बनाने के लिए किया जाता है। नागपुर जिले के शराब माफिया इसका उपयाेग महुआ शराब बनाने के लिए कर रहे हैं। काले गुड़ की तस्करी में लिप्त तस्करों की धरपकड़ करने के लिए उनके रिकार्ड खंगाले जा रहे हैं। शनिवार को जिलाधीश कार्यालय परिसर में यह जानकारी दी गई। इस दौरान बताया गया कि आबकारी विभाग के दस्ते ने 25 से 27 मार्च को करीब 4 टन काला गुड़ जब्त किया था। इस माल को जांच के लिए क्षेत्रीय प्रयोगशाला में भेजा गया था। प्रयोगशाला ने आबकारी विभाग को प्रमाणपत्र दिया कि यह गुड़ इंसान के खाने के योग्य नहीं है। इस गुड़ का उपयोग जानवरों का खाद्य पदार्थ बनाने के लिए होता है। मध्यप्रदेश में इस गुड़ से जानवरों का खाद्य पदार्थ बनाया जाता है।  आबकारी विभाग ने प्रयोगशाला से मिली रिपोर्ट के अदालत के समक्ष रखा। 

कोर्ट को आबकारी विभाग के अधिकारियों ने बताया कि जब्त किया गया काला गुड़ भीषण गर्मी के चलते मालवाहन वाहन से पिघल रहा है। तब अदालत ने इस गुड़ को वापस मध्यप्रदेश भेजने का आदेश दिया। उसके बाद इस गुड़ को बेच दिया गया। यह गुड़ आबकारी विभाग द्वारा जारी किया जाने वाले अधिकृत आबकारी एम 2 नामक लाइसेंस के आधार पर बेचा गया। चार टन काला गुड़ का करीब 27 हजार रुपए राजस्व भी प्राप्त हुआ। मध्यप्रदेश के छिंदवाड़ा जिले से नागपुर जिले में महुआ शराब भट्ठियों में शराब बनाने के लिए काला गुड़ भेजा जाता है। इस गुड़ की तस्करी करने वालांे के बारे में जानकारी जुटाकर उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। इससे नागपुर जिले में होने वाले काले गुड़ की तस्करी पर रोक लगेगी। काले गुड़ की तस्करों के खिलाफ कार्रवाई शुरू किए जाने से यह कारोबार बंद हो सकता है। राज्य उत्पादन शुल्क विभाग के विभागीय उपायुक्त उषा वर्मा व अधीक्षक प्रमोद सोनोने के मार्गदर्शन में यह कार्रवाई निरीक्षक सुभाष हनवते, दुय्यम निरीक्षक बालू भगत व रावसाहेब कोरे कर रहे हैं। 

वाहनों की हो रही जांच

बताया गया कि राज्य उत्पादन शुल्क विभाग ने लोकसभा चुनाव के मद्देनजर राज्य की सीमा सुरक्षा तेज कर दी है, जिसके चलते पडोसी राज्य से हो रही अवैध शराब, काला गुड़ व अन्य तस्करी पर रोक लग रही है। इसके लिए आबकारी विभाग ने राज्य की सीमा के  शिरोंजी, बडेगांव, देवलापार कांद्री, केलवद, खुर्सापार, चोरखैरी इत्यादी ठिकानों पर चेक पोस्ट तैयार कर दिया है। इन चेक पोस्ट से गुजरने वाले वाहनों की गहन जांच शुरू है। इस जांच के दौरान ही आबकारी विभाग ने काला गुड़ की तस्करी का भांडाफोड़ किया है। आबकारी विभाग के विविध दस्तों ने सावनेर तहसील के कई स्थानों पर नाले के किनारे बनाई जाने वाली महुआ शराब के ठिकानों पर छापामार कार्रवाई किया है। नाले के किनारे बनाई जाने वाली महुआ शराब को आबकारी विभाग के दस्ते जब्त कर उनका सैंपल लेते हैं। उसके बाद महुआ शराब के रसायन पदार्थ को जैसे काला गुड़ व अन्य तरल पदार्थों को नाले में या आस-पास की जगह पर फेंककर उसे नष्ट कर देते हैं। गुड़ घुलनशील पदार्थ होने से पानी में आसानी से घुल जाता है। 

खाद्य पदार्थ बनाने वाले को बेचा गया काला गुड़

आबकारी विभाग के दस्ते ने जो काला गुड़ जब्त किया था। उस गुड़ को अदालत के आदेश पर बेचा गया। उससे जो रकम मिली उसे राजस्व विभाग के रूप में शासकीय खाते में जमा करने को कहा गया। आबकारी विभाग ने अदालत के आदेश का पालन करते हुए जब्त काला गुड़ को पशु खाद्य बनाने वाली कंपनियों को बेच दिया। काला गुड़  सावनेर तहसील के भिवसन खोरी व  उमरी खदान में अक्सर बड़ी मात्रा में भेजा जाता था। आबकारी विभाग द्वारा पहली बार इस क्षेत्र में कार्रवाई की गई।

अवैध शराब भट्ठी पर छापा

लोकसभा चुनाव को देखते हुए आबकारी विभाग का अवैध शराब के खिलाफ छापमार अभियान जारी है। इसी क्रम में आबकारी विभाग ने शनिवार को सावनेर के मौजा तिलणगी में निकाली जा रही  अवैध हाथभट्ठी की शराब पर छापा मारकर 2 लाख 43 हजार 575 रुपए का माल जब्त किया। कार्रवाई के दौरान आरोपी भागने में सफल रहे। चुनाव के दौरान अवैध शराब की मांग बढ़ जाती है। शराब देकर वोटरों को प्रभावित करने की कोशिश भी होती है। चुनाव आयोग के निर्देश पर विभाग लगातार कार्रवाई कर अवैध शराब पकड़ रहा है। विभाग को कार्रवाई की रिपोर्ट उसी दिन मुख्यालय भेजनी पड़ती है।विभाग ने 20 लीटर क्षमता के 66 ड्रम भट्ठी ब्यालर, 13 टंकी में बड़े पैमाने पर मोहसडवा, जर्मन के बर्तन, 300 लीटर शराब, 15 लीटर क्षमता के 20 कैन जब्त किया गया। महुआ सड़वा जगह पर ही नष्ट कर दिया गया। 

..
 

खबरें और भी हैं...