दैनिक भास्कर हिंदी: गवर्नमेंट कॉन्ट्रैक्टर के यहां स्टेट जीएसटी एईबी की दबिश

March 3rd, 2021

वार्षिक रिटर्न में कम टैक्स दिखाने पर जमा कराए गए 60 लाख रुपए
डिजिटल डेस्क सतना ।
स्टेट जीएसटी की एंटी इवेजन ब्यूरो सतना (एईबी) की टीम ने गवर्नमेंट कॉन्ट्रैक्टर के यहां दबिश देकर वार्षिक रिटर्न कम टैक्स जमा किए जाने का खुलासा किया है। जांच कार्रवाई में मिले दस्तावेजों के आधार पर गवर्नमेंट कॉन्ट्रैक्टर संजय शुक्ला की फर्म नित्यान्ता इंटरप्राइजेज से 60 लाख की राशि जमा किए जाने के बाद कार्रवाई को बंद कर दिया गया है। जानकारी के मुताबिक स्टेट जीएसटी एईबी सतना की 20 सदस्यीय टीम ने डिप्टी कमिश्नर गणेश कंवर के नेतृत्व में नित्यान्ता इंटरप्राइजेज के संचालक संजय शुक्ला के भरहुत नगर स्थित आवास और राजेन्द्र नगर गली नंबर-5 स्थित कार्यालय में एक साथ दबिश दी। सूत्रों के मुताबिक नित्यान्ता इंटरप्राइजेज के द्वारा मासिक जमा किए जाने वाले 3बी रिटर्न में अधिक और वार्षिक रिटर्न जीएसटी आर-9 में कम टैक्स जमा किया गया। टीम ने नित्यान्ता इंटरप्राइजेज के द्वारा वित्तीय वर्ष 2017-18 और 2018-19 के दौरान 3बी रिटर्न और वार्षिक रिटर्न में जमा किए गए टैक्स का मिलान किया, जिसमें करीब 60 लाख का टैक्स कम जमा किए जाने की जानकारी सामने आई। इसी आधार पर एईबी की टीम ने मौके पर 60 लाख की राशि जमा कराई है। इस कार्रवाई में स्टेट कर अधिकारी अमित पटेल, एसके साकेत, विनय पांडेय, संदीप त्रिपाठी समेत कई अधिकारी शामिल रहे।
2019-20 का अब भरेंगे रिटर्न
जांच के दौरान एईबी की टीम को वित्तीय वर्ष 2017-18 में 21 लाख और 2018-19 में 39 लाख कम टैक्स जमा किए जाने के प्रमाण मिले हैं। सूत्रों की मानें तो वित्तीय वर्ष 2019-20 के वार्षिक रिटर्न जमा करने की तिथि फरवरी थी, लेकिन तिथि में बढ़ोत्तरी होने से इसका फायदा फर्म के संचालक को मिला है। अब इनके द्वारा वर्ष 2019-20 का वार्षिक रिटर्न जमा किए जाएगा। इन्हीं सूत्रों की मानें तो नित्यान्ता इंटरप्राइजेज का वार्षिक टर्नओवर 10 से 12 करोड़ का बताया गया है।
कई जिलों में चल रहा काम
सूत्रों के मुताबिक नित्यान्ता इंटरप्राइजेज के द्वारा सड़क, नहर और बिल्डिंग से जुड़े कार्यों का ठेका लिया जाता है। इस फर्म का कार्य सीधी, शहडोल, छिन्दवाड़ा और सिंगरौली समेत कई जिलों में चल रहा है। यह फर्म कई वर्षों से निर्माण से जुड़े कार्यों का ठेका लेकर काम कर रही है, किसी गवर्नमेंट कॉन्ट्र्रैक्टर के यहां एईबी के द्वारा की गई यह पहली कार्रवाई मानी जा रही है।
इनका कहना है
निर्माण से जुड़ी एक फर्म संचालक के ऑफिस और निवास में एईबी की टीम के द्वारा दस्तावेजों की जांच पड़ताल की गई है। मासिक और वार्षिक रिटर्न में टैक्स का अंतर सामने आया है। इस आधार पर 60 लाख की राशि  जमा कराई गई है।
जीएस कंवर, डिप्टी कमिश्नर एईबी सतना

खबरें और भी हैं...